भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच होने वाली टेस्ट सीरीज बस अब एक महीना ही दूर है. ये दोनों टीम दो महीने के दौरान 3 टी 20 , 5 वनडे और 4 टेस्ट खेलने वाली हैं. भारत लगभग 2 साल के अंतराल के बाद अपने देश में टेस्ट खेलने वाला है. इस श्रृंखला को और भी अधिक रोमांचक एक चीज़ और बनती है और वो ये कि यह ऐसे दो कप्तानों के बीच मुकाबला होने जा रहा है जिन्हे वर्तमान पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है.

यहाँ पेश हैं दोनों टीम के कुछ खिलाडी जिन्हे खेलते देखने का सभी को इंतज़ार रहेगा…

1. हाशिम अमला
2009-10 श्रृंखला में, अमला सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाडी थे. 253 नाबाद ,114 और 123 नाबाद के स्कोर के साथ दो टेस्ट मैचों में उनके कुल रन चुनौतीपूर्ण 490 पर पहुंच गए थे. दोनों टेस्ट मैचों में इन्होने मैन ऑफ द मैच अवार्ड जीता था और साथ मैन ऑफ़ द सीरीज अवार्ड भी जीता था. टेस्ट में उनकी औसत 52.48 होती है. वह एक ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्हे गति या स्पिन के खिलाफ ज्यादा मुश्किल नहीं होती. एक बार वह क्रीज़ पर सेट हो जाये तो बस फिर विरोधी के लिए वह आफत ला सकते हैं.

2. विराट कोहली
कप्तान के रूप में अपनी पहली टेस्ट सीरीज जीतने के बाद उनमे आत्मविश्वास की वृद्धि हो गयी है. और अब तो श्रृंखला है भी भारत में यानि अपनी सर ज़मी पर, तो ऐसे में भारतीय टीम और अधिक मजबूत महसूस करेगी. इस श्रृंखला में विराट कोहली की कप्तानी के साथ साथ उनकी आक्रामक बल्लेबाज़ी पर भी सबकी नज़र होगी. यह कप्तान के रूप में विराट की पहली घरेलू सीरीज होने वाली है जहाँ स्पिनरों की तरफ से एक प्रमुख भूमिका निभाने की उम्मीद की जाएगी.

 

3. एबी डिविलियर्स
एबी डिविलियर्स को अक्सर वर्तमान पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज के रूप में माना जाता है और इनका खेल हमेशा देखने लायक होता है. सभी स्वरूपों में इनका बढ़िया रिकॉर्ड रहा है और जैसा कि वह आईपीएल में खेल चुके हैं तो वह भारतीय परिस्थितियों से अजनबी नहीं हैं. लेकिन अब इस बार टेस्ट सीरीज में एबी डिविलियर्स का प्रदर्शन भारतीय टीम के खिलाफ कैसा रहता है और भारत इसका क्या जवाब देता है, ये कुछ ही समय बाद दिखाई देगा.

4. चेतेश्वर पुजारा
पुजारा ने श्रीलंका के खिलाफ एक शतक से टेस्ट टीम के लिए एक भव्य वापसी की. पुजारा की एशियाई परिस्थितियों में 80 से अधिक की एक विशाल औसत रही है जिसमे दो दोहरे शतक भी शामिल है. इनकी स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ एक मजबूत तकनीक है.

5. डेल स्टेन
अनेक अवसरों पर इन्होने अकेले ही अपनी घातक गेंदबाजी से विपक्षी बल्लेबाजी को पछाड़ कर रख दिया है. भारत में पिछले श्रृंखला में इन्होने पहले टेस्ट में 7 विकेट के साथ दो टेस्ट में 11 विकेट लिए थे और दक्षिण अफ्रीका ने एक पारी और 6 रन से जीत हासिल कर ली थी. अपने एक्शन के साथ स्टेन नई गेंद और पुरानी दोनों के साथ समान रूप से प्रभावी है.

  • SHARE

    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    ब्रावो ने किया बड़ा ऐलान, अब इनके लिए गायेंगे ये खास गाना

    वेस्ट इंडीज के स्टार आलराउंडर डीजे ब्रावो अपने खेल के साथ अपने गाने के लिए भी जाने जाते हैं. एक अच्छे खिलाड़ी होने के...

    कल अफ्रीका दौरे को लेकर बीसीसीआई पर भड़के थे विराट कोहली और आज सौरव...

    विराट कोहली के एक बयान ने बीसीसीआई की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं. विराट कोहली ने  व्यस्त कार्यक्रम पर सवाल उठाए...

    2017 में एलिस्टर कुक, स्मिथ और विराट जैसे दिग्गज जो काम नहीं कर सके...

    श्रीलंका के मध्यक्रम के बल्लेबाज दिमुथ करुनारत्ने ने भारत के खिलाफ नागपुर में दूसरे टेस्ट में शानदार अर्धशतक के साथ एक ऐसे रिकॉर्ड को...

    सौरव गांगुली की एक बार फिर से बढ़ी मुश्किलें, अब KMC ने पकड़ाया इस...

    भारत के महान कप्तान सौरव गांगुली एक बार फिर से विवादों में आ गए हैं. हाल में ही  पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के घर डेंगू...

    वीडियो: फिर मैदान पर दिखा कोहली-डिकवेला विवाद, डिकवेला के आउट होने पर कोहली ने...

    श्रीलंका टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज निरोशन डिकवेला श्रीलंका टीम की निचलेक्रम की बल्लेबाजी को मजबूती देने वाले बल्लेबाज बन कर उभरें हैं. हालाँकि, वह...