बेशक “अजिंक्य रहाणे” आगामी जिम्बाब्वे दौरे के लिए भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में चुने जाने के बाद बेहद खुश हो लेकिन यह उनका कड़ा इम्तिहान होने वाला है . इस दौरान उन्हें अपनी प्रतिभा व् सूझ बूझ का अच्छा उदाहरण देना होगा जिसपर उनका भविष्य भी निर्भर करता है.

10 जुलाई से शुरू हो रही श्रृंखला में भारत जिम्बाब्वे टीम के खिलाफ “तीन वनडे और दो ​​ट्वेंटी 20” मैच खेलेगा . इस दौरान रहाणे धोनी, कोहली और धवन जैसे कुछ वरिष्ठ खिलाडियों की उपस्थिति के बिना टीम का नेतृत्व करने जा रहे है जिस वजह से उन पर काफी दबाव बन सकता है. इसे लेकर रहाणे का मानना है कि इस जिम्मेवारी से उन्हें वनडे में अपनी बल्लेबाजी तकनीक और टी 20 प्रारूपों में सुधार करने का अवसर मिला है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह सीखने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं.

रहाणे ने बीसीसीआई की वेबसाइट के माध्यम से कहा, कि –  “मुझे मालूम है कि मैं कितना सक्षम हूँ और मुझे खुद पर विश्वास है. पिछले चार- पांच साल में क्रिकेट खेलने के दौरान मैंने बहुत कुछ सीखा है हालाँकि कप्तानी के बारे में मैंने कभी नहीं सोचा था न ही मुझे इस बारे में ज्यादा पता है लेकिन मैं एक बहुत ही मेहनती व्यक्ति हूँ और अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करता हूँ. “

वैसे रहाणे के क्रिकेट आंकड़ों पर नज़र डाले तो इस खिलाडी ने अब तक भारत के लिए 55 वनडे मैच खेले हैं जिनमे 30.63 की औसत से 1593 रन बनाए हैं इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 111 रहा. वहीँ वह 11 टी -20 मैचों में टीम इंडिया के लिए खेल चुके हैं जिसमे  इस खिलाडी ने 21.45 की औसत से 236 रन बनाए.

अजिंक्य ने अपने वरिष्ठ दिग्गज खिलाडियों से कुछ न कुछ सीखने की बात कहते हुए कहा कि – “मैंने धोनी के अन्तर्गत उनके शांत स्वभाव से बहुत कुछ सीखा है जिस तरह से वह मैदान पर सब सँभालते हैं . वहीँ विराट की नियंत्रित आक्रामकता जो कि आप उनकी बल्लेबाज़ी व् कप्तानी में देखते ही है, वह मैं उनसे जरूर सीखना चाहूंगा. राहुल द्रविड़ भाई!.. मैं राजस्थान रॉयल्स में उसके साथ था वे बहुत साधारण तरीके से चीज़े रखना पसंद करते हैं. “

रहाणे का मानना है कि कप्तान के तौर पर एक खिलाडी को हर कोण से व् एक व्यापक दृष्टि से चीज़े सोचने व् प्रतिक्रिया देने की जरुरत होती है. वहीँ ज़िम्बाब्वे दौरे को लेकर उन्होंने कहा कि “एक कप्तान के रूप में अपने खिलाड़ियों में  आत्मविश्वास जगाना महत्वपूर्ण होता है. हमे सकारात्मक रहते हुए गंभीरता से खेलना चाहिए. मेरा मकसद सभी युवाओं को आत्मविश्वास देना व् उन्हें प्रेरित करना होगा.”

अंत में रहाणे ने कहा कि – “मुझे लगता है कि यह एक अच्छी टीम है , जिन्होंने आईपीएल और घरेलू सत्र में अच्छा प्रदर्शन किया था उन्हें उसका पुरुस्कार मिल ही चुका है हर खिलाड़ी ने अपनी भूमिका अदा की है और अब आगामी मुकाबले को लेकर मैं बहुत उत्साहित हूँ.”

  • SHARE
    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    आखिरकार वजह आया सामने इस वजह से पप्पू यादव के बेटे सार्थक रंजन को...

    क्रिकेट के खेल में राजनीती के लिप्त होने का एक मुख्य उदाहरण दिल्ली की सैयद मुश्ताक अली टी20 टूर्नामेंट टीम में देखने को मिला...

    बेन स्टोक्स पर आरोप तय होने के साथ ही खत्म हुआ करियर, इंग्लैंड क्रिकेट...

    इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंड बेन स्टोक्स के खिलाफ काफी लंबे समय से ब्रिस्टल में की गई मारपीट की जाँच चल रही थी, लेकिन इस...

    इन खिलाड़ियों ने किया है भारत के खिलाफ टेस्ट में डेब्यू और पहले ही...

    दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला खेला जा चूका है जिसमें अफ्रीका ने अपने गेंदबाजों की शानदार गेंदबाजी के...

    WWE NEWS: इस WWE रेस्लर ने कम्पनी पर लगाया आरोप, कहा सिर्फ मेरी बदौलत...

    WWE का नाम स्पोर्ट्स इंडस्ट्री की सबसे बड़ी कंपनियों में आता है, इसमें नजर आने वाले रेस्लर सालाना करोड़ो रूपए कमाते हैं. इसी कड़ी...

    RECORD: टेस्ट की दोनों पारियों में ये शर्मनाक रिकॉर्ड बनाने वाले पहले भारतीय बने...

    सेंचुरियन, 17 जनवरी; भारतीय टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में एक ऐसा रिकार्ड...