• सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट छोडे दो साल हो गये है, लेकिन उनका दबदबा क्रिकेट में अभी तक बरकरार है, इसलिए वो महान है. अब कुमार संगाकारा उनके बारें में काफी कुछ कहा है.

    गॉल में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा, सचिन तेंदुलकर हमेशा उनके आदर्श रहे है, और वे हमेशा सचिन की तरह खेलना चाहते थे.

    काफी लोग सचिन की बल्लेबाजी देखने के लिए जल्दी उठते थे, और उनका स्ट्रेट ड्राईव देखने को मिलता था तो पूरा दिन शानदार बन जाता था.

    संगाकारा ने कहा, मै हमेशा सचिन की तरह स्ट्रेट ड्राइव खेलने कि कोशिश करता था.

    संगाकारा ने कहा, सचिन जैसा स्ट्रेथ ड्राइव खेलना हर खिलाडी का सपना होता है.

    उन्होंने कहा, हर गेंदबाज सचिन को आउट करना चाहता था, और इसी में वे महान बन जाते है.

    उन्होंने कहा, भारत और श्रीलंका के मैच हमेशा अच्छे हुए है, और उनके साथ आखिरी मैच खेलना बडी बात है.

    सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड, वीवीएस लक्ष्मण, और विरेंद्र सहवाग जैसे खिलाडियों के साथ खेलना ही काफी बडी बात थी.

     
     
  •  
  • SHARE

    I am sagar an ardent fan of cricket. I want to become a cricket writer, i always suport virat kohli and ms dhoni in every international match, but not in ipl in ipl i always chear for mumbai indian and rohit sharma.

    Related Articles

    पाकिस्तान के बाद अब बांग्लादेश में फैला सट्टेबाजी का जिन्न, 77 लोग हुए गिरफ्तार

    इन दिनों बांग्लादेश का टी20 क्रिकेट लीग बांग्लादेश प्रीमियर लीग खेला जा रहा है. यह बांग्लादेश प्रीमियर लीग का पांचवा सीजन है और बांग्लादेश...

    डिकवेला का समर्थन करना रसेल अर्नोल्ड को पड़ा महंगा, भारत ने ऐसे बनाया मजाक

    भारत और श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच कोलकत्ता में खेला गया था. इस रोमांचक टेस्ट ड्रा होने के बाद श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज़...

    आई-लीग का 11वां संस्करण 25 नवंबर से, 3 नई टीमें शामिल

    नई दिल्ली, 21 नवंबर; भारत की शीर्ष स्तरीय फुटबाल लीग हीरो आई-लीग के 11वें संस्करण की शुरुआत 25 नवंबर से हो रही है। इस साल...

    WWE NEWS: सरवाइवर सीरीज में ब्रोक लेसनर से हारने के बाद एजे स्टाइल्स ने...

    इस बार की सरवाइवर सीरीज में कई ड्रीम मैच देखने को मिले जिसमे एक था ब्रोक लेसनर और एजे स्टाइल्स के बीच. इस मैच...

    कापेकोइंस के ‘जीवित बचे’ खिलाड़ी फोलमान की नजर पैरालम्पिक पर

    रियो डी जनेरियो, 21 नवंबर; एक खिलाड़ी भले ही किसी भी स्थिति में हो, लेकिन खेल के प्रति उसका जुनून कभी कम नहीं होता। फिर...