हमने कुछ खिलाड़ियों को प्रभावशाली सौ रन बनाकर अपने क्रिकेट करियर का सफर शुरू करते देखा है. उनमें से कुछ एक शानदार शुरुआत के बाद अपनी फॉर्म के साथ जारी तो कुछ धुंधले होते गए. वहीँ दूसरी ओर कुछ खिलाड़ियों ने अपने पहले ही मैच में बेहद ख़राब प्रदर्शन किया लेकिन बाद में सफलता की सीढ़ियां चढ़ते गए. यहाँ पेश है ऐसे ही टॉप 5 खिलाडियों के नाम जो अपने पहले ही वनडे मैच में शून्य पर आउट हो गए लेकिन उनका आगे का सफर सफल रहा….

# 5 शिखर धवन
धवन ने एक दिन – रात के मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 20 अक्टूबर , 2010 को अपना पहला वनडे खेला. भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले गेंदबाज़ी की और उन्होंने माइकल क्लार्क के 111 के स्कोर की मदद से एक चुनौतीपूर्ण 289-3 का स्कोर खड़ा किया. भारतीय टीम की बल्लेबाज़ों के दौरान मुरली विजय और शिखर धवन सबसे पहले बल्लेबाज़ी करने आये. धवन स्ट्राइक पर थे. धवन ने पहली गेंद तो छोड़ दी लेकिन फिर अगली ही गेंद पर बिना कोई रन बनाये आउट हो गए. लेकिन भारत ने कोहली के 118 रनों के स्कोर की मदद से 5 विकेट से मैच जीता था.

# 4 सुरेश रैना
रैना 6 वें स्थान के बल्लेबाज के रूप में 30 जुलाई 2005 को श्रीलंका के खिलाफ अपने वन डे करियर की शुरुआत की थी. लेकिन सुरेश रैना मुरलीधरन द्वारा आउट किये जाने से बिना कोई रन बनाये ही वापस लौट गए. इस दौरान भारत 205 रन पर ही सिमट गया था और 3 विकेट से मैच खोना पड़ा था.

 

# 3 वीवीएस लक्ष्मण
लक्ष्मण का वनडे करियर उतना अच्छा नहीं रहा जितना की उनका टेस्ट करियर. इन्होने 1998 में पेप्सी त्रिकोणीय श्रृंखला में जिम्बाब्वे के खिलाफ अपनी शुरुआत की थी. दिग्गज बल्लेबाज तेंदुलकर के 1 रन पर आउट होने के बाद लक्ष्मण नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए आये. लेकिन तीन गेंदों के बाद वह अपना खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए.

# 2 महेंद्र सिंह धोनी
भारत दिसंबर 2004 में एक तीन मैचों की श्रृंखला के लिए बांग्लादेश दौरे पर गया था, और भारत को पहले वनडे में बल्लेबाजी करने के लिए कहा गया. 42 वे ओवर में जब भारत का स्कोर 180-5 था तब धोनी बल्लेबाज़ी करने आये. गेंद को बल्ले से हिट करने के बाद ही वह रन लेने के लिए दौड़े लेकिन कैफ ने उन्हें वापस भेज दिया लेकिन दुर्भाग्य से जब तक की वह क्रीज़ तक पहुँच पाते विपक्षी फील्डरों ने उन्हें रन आउट कर दिया. भारत ने कैफ के 80 रन की मदद से 245 रन जोड़े और जीत हासिल की.

# 1 सचिन तेंदुलकर
18 दिसंबर 1989 में अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ वन डे में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी की और 16 ओवर के अपने कोटे में 87-9 रन बनाए. इसके जवाब में भारत 33-3 के लिए संघर्ष कर रहा था तब 16- वर्षीय तेंदुलकर अजहरुद्दीन के साथ शामिल हो गए लेकिन वह वकार यूनुस की गेंद पर वसीम अकरम द्वारा कैच आउट हो गए और कोई रन नहीं बना पाये. और भारत ये मैच 7 रन से हार गया था.

  • SHARE

    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    खुशखबरी: 2019 से 2023 तक भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली सीरीज पर...

    भारतीय क्रिकेट टीम इन दिनों तो विश्व क्रिकेट में सबसे शानदार लय में नजर आ रही है। भारतीय टीम ने विराट कोहली की कप्तानी...

    एंजलो मैथ्यूज ने मौजूदा समय के इस भारतीय गेंदबाज को बताया दुनिया का सर्वश्रेष्ठ...

    भारट और श्री लंका के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट में श्रीलंका टीम भारत पर हावी है. पहली पारी में विराट कोहली ब्रिगेड...

    बेहतरीन पारी के बावजूद पुजारा के नाम जुड़ गया शर्मनाक रिकॉर्ड..बने सबसे फिसड्डी खिलाड़ी

    श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में सर्वाधिक रनों की पारी खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा के नाम आउट होते ही एक अनचाहा रिकॉर्ड भी...

    लहिरू थिरिमाने ने खोला राज, मैदान पर इस खिलाड़ी की मदद से भारत के...

    भारत और श्रीलंका के बीच आज पहले तीसरा दिन का खेल खेला गया. आज का दिन श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज़ लाहिरू थिरिमने और एंजेलों मैथ्यूज...

    मुम्बई सिटी एफसी ने इनफिनिक्स मोबाइल से किया करार

    मुम्बई, 18 नवंबर; प्रशंसकों के लिए रोमांचक क्षणों का वादा करते हुए ट्रांसिजन होल्डिंग्स के प्रीमियर स्मार्टफोन ब्रांड-इनफिनिक्स मोबाइल ने हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल)...