ये खिलाड़ी आईपीएल से मिले मौके का नहीं उठा सके फायदा - Sportzwiki
क्रिकेट

ये खिलाड़ी आईपीएल से मिले मौके का नहीं उठा सके फायदा

  • क्रिकेट डेस्क। आईपीएल के शुरु होने की वजह से घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सीधे इंटरनेशनल क्रिकेट में खेलने का मौका मिल जाता है। इससे ग्रुमिंग भी काफी हो रही है, वहीं, खिलाड़ी आर्थिक रूप से भी सक्षम हो रहे हैं। लेकिन ऐसा नहीं कि आईपीएल जिन खिलाडि़यों को मौका दे वो सभी उम्मीदों पर खरे उतर जाएं। कुछ खिलाड़ी ऐसे भी जिन्हें आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर टीम इंडिया में जगह तो मिली लेकिन वह वहां खुद को साबित नहीं कर सके।

    आज हम आपको ऐसे खिलाडि़यों से मिलाएंगे जिन्हें आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर मौका तो मिला लेकिन वो नाकामयाब रहे।

    रोबिन उथप्पा
    कर्नाटक के ओपनर रॉबिन उथप्पा को उम्मीद थी कि वह अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में अच्‍छे रन बनाकर वह अपनी प्रतिभा के साथ न्याय करेंगे लेकिन वो ऐसा करने में कामयाब नहीं हो सके। उथप्पा ने रणजी ट्रॉफी और आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने पिछले सत्र में कोलकाता नाइट राइडर्स की तरफ से खेलते हुए लगातार 11 बार 40 रन से अधिक का स्‍कोर किया जो नया विश्व रिकॉर्ड है। उनके शानदार प्रदर्शन की बदौलत टूर्नामेंट की खराब शुरुआत करने वाली कोलकाता नाइटराइडर्स ने खिताब पर कब्‍जा किया था। लेकिन टीम इंडिया में रहते हुए उन्होंने कभी बहुत अधिक प्रभावित नहीं किया और अन्तराष्ट्रीय स्‍तर पर अभी तक कामयाब नहीं हो सके।

    मनोज तिवारी
    बंगाल का यह खिलाड़ी भी अभी त‍क अपनी प्रतिभा के अनुसार प्रदर्शन करने में कामयाब नहीं हो सका है। उनकी प्रतिभा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वर्ष 2013 में बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) ने गुरुवार को मनोज तिवारी को ‘वर्ष का सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर’ चुना था। 30 साल के कोलकाता के इस क्रिकेटर का करियर चोटों से प्रभावित रहा। मनोज ने जुलाई में जिम्बाब्वे टूर पर तीन वनडे में मात्र 34 रन बनाए थे। उन्होंने अब तक 12 वनडे में 287 रन बनाए हैं। 104 के बेस्ट स्कोर के साथ उनके नाम एक शतक और एक अर्धशतक दर्ज है। लेकिन अन्तराष्ट्रीय स्तर पर यह खिलाड़ी अभी तक अपनी छाप नहीं छोड़ पाया है।

     

    परविंदर अवाना
    उत्तर प्रदेश के नोएडा जनपद के रहने वाले तेज गेंदबाज परविंदर अवाना ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) तक पहुंचने का सफर तो तय कर लिया लेकिन वह इससे आगे नहीं बढ़ सके। 30 साल का यह खिलाड़ी दायं हाथ का तेज गेंदबाज है, और आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से गेंदबाजी करते हुए इसने काफी प्रभावित किया। लेकिन अवाना अभी तक इस प्रतिभा को अन्तराष्ट्रीय स्तर पर दिखाने में कामयाब नहीं हो सके हैं। भारत की ओर से दो टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले अवाना ने किंग्स इलेवन पंजाब के गेंदबाजी कोच जो डावेस को काफी प्रभावित किया था, उन्हें उम्मीद थी कि यह तेज गेंदबाज राष्ट्रीय टीम में वापसी करेगा।

    अंबाती रायडू
    अंबाती तिरूपति रायडू हैदराबाद के लिए खेलने से अपने करियर शुरू किया। मजबूत घरेलू फॉर्म भारतीय अंडर 19 टीम के कप्तान के रूप में उन्होंने राष्ट्रीय चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर खींचा। उनकी प्रतिभा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि वह अपने प्रारंभिक दौर में अगले सचिन तेंदुलकर के रूप में पहचाने जाते थे। आईपीएल में मुंबई इंडियंस की तरफ से एक सत्र में खेलते हुए उन्होंने 16 मैच में 395 रन बनाए थे। 22 मई 2011 का मैच उनके लिए यादगार साबित हुआ था जब कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ आखरी लीग मैच की आखरी गेंद पर 6 रन चाहिए थे और रायडू ने छक्का लगा दिया था। लेकिन अन्तराष्ट्रीय स्तर पर अभी रायडू खुद को साबित नहीं कर सके हैं।

    सौरभ तिवारी
    आईपीएल की नई टीम राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स ने सौरभ तिवारी को इस बार अपनी टीम में जगह दी है। सौरभ तिवारी, आईपीएल में साल 2008 से खेल रहे हैं। इस दौरान वो दिल्ली, मुंबई और बैंगलोर टीम का हिस्सा रह चुके हैं। तिवारी ने लीग के 70 मैचों में 119.36 की स्ट्राइक रेट से 4 अर्द्धशतकों की मदद से 1,054 रन बनाए हैं। लेकिन अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में उन्हें तीन एकदिवसीय मैच खेलने का मौका मिला जिसमें उन्होंने 49 रन बनाए। इस मौके को सौरभ अच्छे से नहीं भुना सके और आज भी उन्हें अन्तराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा साबित करने का इंतजार है।

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Most Popular

    Top