मुझे हिन्दू होने की सजा पाकिस्तान में मिली: दानिश कनेरिया - Sportzwiki
क्रिकेट

मुझे हिन्दू होने की सजा पाकिस्तान में मिली: दानिश कनेरिया

  • पाकिस्तान एक मुस्लिम बाहुल्य देश है, और वर्तमान में पाकिस्तान की क्रिकेट टीम में सभी हिन्दू खिलाड़ी ही है, लेकिन कभी पाकिस्तान की 11 सदस्यी टीम में एक हिन्दू खिलाड़ी भी शामिल था और वो थे भारत से सम्बन्ध रखने वाले दानिश कनेरिया. कनेरिया को इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट में मैच फिक्सिंग के आरोप की वजह से आजीवन प्रतिबन्ध लगा दिया गया था.

    कुछ समय पहले ही पाकिस्तान ने मैच फिक्सिंग के दोषी पाये गये मोहम्मद आमिर, सलमान बट्ट और मोहम्मद आसिफ को प्रतिबन्ध से मुक्त किया है, लेकिन दानिश कनेरिया अभी भी प्रतिबन्ध झेल रहे है, ऐसे में भारत आने के बाद कनेरिया ने एक प्रसिद्ध हिंदी न्यूज़ चैनल आज तक से बात करते हुए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और ईसीबी पर अपनी भड़ास निकालते हुए गम्भीर आरोप लगाये, यहाँ  तक की खुलेआम दानिश कनेरिया ने यह भी कहा, कि पाकिस्तान ने उनके साथ जातीय किया और उन्हें हिन्दू होने की सजा मिली.

    भारत में देव दर्शन के लिए आये दानिश कनेरिया ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की तीखी आलोचना करते हुए कहा, कि “जब पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की ओर से स्पॉट फिक्सिंग मामले में सजा काट चुके मोहम्मद आमिर, सलमान बट्ट और मोहम्मद आसिफ के लिए क्रिकेट में राहें खुलने लगीं, तो मुझे खुद के लिए भी उम्मीद जगी. मैंने खुद पर से बैन हटाने के लिए पाक राष्ट्रपति नवाज शरीफ को लेटर लिखा. पीसीबी चेयरमैन शहयार खान और नजाम सेठी को भी कई चिट्ठियां लिखी. वक्त बीतता गया, लेकिन मेरी राहें आसान न हुईं. उस दौरान मैं आर्थिक परेशानियों से गुजरा.”

    गौरतलब है, कि पाकिस्तानी तेज गेंदबाज वसीम अकरम, वकार यूनुस और इमरान खान के बाद दानिश कनेरिया एकलौते ऐसे पाकिस्तानी गेंदबाज है, जिसके नाम सबसे अधिक विकेट दर्ज है, कनेरिया अपने समय के सबसे उत्कृष्ट स्पिनर गेंदबाजों में से एक थे.

    वहीं इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड पर भी भेदभाव का आरोप लगाते हुए दानिश कनेरिया ने कहा, कि “काउंटी क्रिकेट में मैच फिक्सिंग का आरोप लगने के बाद इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को मेरे मामले में सब कुछ बता रहा था. पीसीबी ने मेरी एक नहीं सुनी. उसने मेरे केस में कोई दिलचस्पी नहीं लिया.”

    जब कनेरिया से अब भारत में ही रहने के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, कि “मेरे लिए दोनों देशों के लोग काफी अच्छे हैं. पाक में रहकर मैंने कभी दबाव महसूस नहीं किया. इसलिए मुझे पाकिस्तान में ही रहना है.”

    गौरतलब है, कि भारत आने से पहले जब दानिश कनेरिया ने बीसीसीआई से बीजा क्लियरेंस में मदद मांगी थी, तो कुछ न्यूज़ चैनलों ने अफवाह उड़ाया था, कि अब दानिश कनेरिया भारत में ही रहने वाले है, भारत में उनके काफी सगे सम्बंधी रहते है. लेकिन दानिश इस बात को शुरू से ही ख़ारिज करते आ रहे है, अभी उन्होंने कुछ दिन पहले भी कहा था, कि अगर उन्हें भारत में ही रुकना होता तो वो अपने छोटे-छोटे बच्चों को पाकिस्तान छोड़ कर क्यों आते?

    यहाँ  देखे इन सवालों का जबाब देते हुए दानिश कनेरिया का वो विडियो:

    sw

    Most Popular

    Top