महेंद्र सिंह धोनी भारत के सबसे सफल कप्तान है. और वे अभी भी भारतीय टीम के बडे महत्वपूर्ण बल्लेबाज है. महेंद्र सिंह धोनी ने भारत के लिए 24 साल की उम्र में 2004 में पदार्पण किया. लेकिन सवाल ये है, कि आखिर इतनी देर बाद क्यों? लेकिन इसका जवाब और भी चौकाने वाला है. ये बात 2001 की है, जब दिलीप ट्रॉफी की मैच खेलने के लिए महेंद्र सिंह धोनी भाडे की कार लेकर गये थे. लेकिन वो कार बीच रास्तें में ही खराब हुई, और अगर वो कार तब खराब ना होती, तो महेंद्र सिंह धोनी शायद 2001 में अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ ही अपना पदार्पण करते. लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को भाडे की कार लेकर क्यों जाना पडा? आईए देखते है.

महेंद्र सिंह धोनी ने 18 साल की उम्र में 1999 में बिहार की टीम के लिए प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया था. महेंद्र सिंह धोनी ने सबसे अच्छी पहली पारी 2001 में बंगाल के खिलाफ खेली थी. तब धोनी की टीम मुश्किलों में थी, लेकिन महेंद्र सिंह धोनी ने एक ओर से टिककर खेलते हुए शानदार 114 रनों की पारी खेली थी. और अपनी टीम को हार से बचाया था, और मैच ड्रॉ कराया था.

उसी साल महेंद्र सिंह धोनी को दिलीप ट्रॉफी की ईस्ट जोन  की टीम में जगह मिली. उस समय महेंद्र सिंह धोनी काफी युवा थे, लेकिन उनकी एक शानदार पारी की वजह से उन्हें ईस्ट जोन की टीम में चुना गया था. उस समय दिलीप ट्रॉफी टूर्नामेंट में कई बडे भारतीय खिलाडी खेल रहे थे, क्योंकी उसके बाद भारत अॉस्ट्रेलिया के साथ सीरीज खेलने वाला था. लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को ईस्ट जोन की टीम में शामिल किया गया है, ये खबर बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने महेंद्र सिंह धोनी को नहीं दी, और धोनी को भी ये पता नहीं था,कि उनका चयन हुआ है. सबसे पहले ये खबर धोनी के दोस्त परमजीत सिंह को पता चली, कि धोनी को ईस्ट जोन की टीम में शामिल किया गया है. लेकिन तब बहुत देर हो चुकी थी, क्योंकी धोनी को अन्य खिलाडियों के साथ अगरताला से फ्लाईट पकडनी थी. जब धोनी को ये पता चला तब मैच में सिर्फ 20 घंटे शेष थे. धोनी ने फिर तुरंत टाटा सुमो भाडे की कार ली, और अपने दोस्तों के साथ वहां से निकले.

लेकिन महेंद्र सिंह धोनी की किस्मत तब खराब थी, और उनकी कार खराब हो गयी, और इस वजह से धोनी वो मैच नहीं खेल पाए. और इसी  कारण महेंद्र सिंह धोनी की जगह तब टीम में दीप दास गुप्ता को जगह दी गयी. उस समय बंगाल क्रिकेट का ईस्ट जोन  में काफी वर्चस्व था, इस वजह से दिप दास गुप्ता को टीम से बाहर नहीं रख सकते थे, लेकिन अगर धोनी उस मैच में पहुंच गये होते, तो उन्हें शायद अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट खेलने का मौका मिलता, और वे 3 साल पहले ही भारत के लिए खेल पाते.

लेकिन धोनी दूसरे मैच में पहुंच गये थे, और बतौर 12वे खिलाडी तब वे ईस्ट जोन के लिए खेले थे. ईस्ट जोन का मैच वेस्ट जोन  से था, और वेस्ट जोन में सचिन तेंदुलकर खेल रहे थे. उस मैच के दौरान सचिन ने पानी मांगा था, और धोनी ने उनको पानी दिया था. सचिन ने उस मैच में मैच जिताउ 199 रन बनाए थे.

उस मैच के बाद धोनी रेलवे में बतौर टिकट कलेक्टर काम करने लगे. लेकिन धोनी को उस काम में ज्यादा मजा नहीं आता था, क्योंकी उनके भाग्य में क्रिकेटर बनना ही लिखा था. धोनी काम पर भी कम ही जाते थे, और इसलिए रेलवे ने उनको नोटिस भी दी थी. लेकिन धोनी का सपना जल्द ही पुरा हो गया, और उन्हे भारतीय ए टीम में मौका मिला. उस सीरीज में धोनी मैन अॉफ द सीरीज बने, और सभीका ध्यान उनकी ओर गया. और फिर धोनी ने बांग्लादेश के खिलाफ अपना पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला, जिसमे वे 0 पर आउट हुए. लेकिन बाद में उन्होंने पीछे मुडकर नहीं देखा, और विश्व के महान खिलाडी बने.

  • SHARE

    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    VIDEO: जब स्टोन कोल्ड, ब्रोक लेसनर की बीवी के साथ बाथरूम में कर बैठे...

    WWE के इतिहास में स्टोन कोल्ड और ब्रोक लेसनर सबसे बड़े रेस्लर समझे जाते हैं, जिन्होंने पूरी दुनिया में अपना नाम कमाया है, लेकिन...

    रिकी पोंटिंग ने चुनी अपनी ‘एशेज ड्रीम इलेवन ऑस्ट्रेलिया टीम’ ब्रैडमैन व खुद को...

    23 नवंबर गुरुवार से ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की टीम के बीच 2017-18 की एशेज सीरीज का आगाज होना है. इस एशेज सीरीज के आगाज...

    ….तो अब एशेज में भी खेलते दिखेंगे विराट कोहली?

    क्रिकेट में हमेशा से एशेज सीरीज का अपना ही महत्त्व हैं. हर क्रिकेट फैन एशेज का किसी न किसी वजह से फैन हैं. इसी...

    आंकड़े: वनडे में विराट कोहली से भी बेहतर है यह भारतीय खिलाड़ी लेकिन नहीं...

    भारतीय क्रिकेट टीम के सीमित ओवर के उपकप्तान और सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा इन दिनों तो भारतीय टीम के लिए सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी बन...

    VIDEO: WWE के मालिक विन्स मैकमोहन ने पार की बेशर्मी की सारी हदे, इस...

    विन्स मैकमोहन आज के समय में जितने दिमाग वाले लगते हैं एक समय में उतने ही कम अक्ल वाले काम किया करते थे. आज...