हाल ही में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले वीरेंद्र सहवाग ने आलोचकों के कोपभाजन बने महेंद्र सिंह धोनी का बचाव करते हुए कहा है कि उन्हें अगले विश्व कप तक भारत का सीमित ओवरों का कप्तान बने रहना चाहिये ।

धोनी के बारे में सवालों का जवाब देते हुए सहवाग ने कहा ,‘ उन्हें अगले विश्व कप तक कप्तान रहना चाहिये । यदि ऐसा होता है तो वह अच्छी विश्व कप टीम छोड़कर जायेंगे । यदि वह संन्यास लेते हैं तो आप सोच सकते हैं कि अभी उनके रहते ही लोगों को सोचना पड़ रहा है कि पांचवें, छठे और सातवें स्थान पर बल्लेबाजी कौन करेगा ।’ उन्होंने कहा ,‘ यदि धोनी नहीं होंगे तो पांचवां, छठा और सातवां स्थान बिल्कुल खाली हो जायेगा और कोई इतने अच्छे तरीके से मैच फिनिश करने वाला भी नहीं होगा ।’

इस आक्रामक बल्लेबाज ने इन रपटों को खारिज किया कि भारतीय टीम से उन्हें बाहर करने के फैसले के पीछे धोनी थे ।सहवाग ने एक टीवी कार्यक्रम में कहा ,‘ मुझे नहीं लगता कि धोनी ने ऐसा किया होगा । वह दिल से अच्छा आदमी है। सभी सीनियर खिलाड़ी उसका सम्मान करते हैं । जब वह कप्तान बना तो सभी सीनियर उसकी कप्तानी में खेले , उसे मार्गदर्शन दिया और अच्छे सुझाव दिये जिन पर उसने अमल किया और हमारी टीम ने टी20 , वनडे और टेस्ट मैच जीते ।’

यह पूछने पर कि क्या उनके धोनी के साथ मतभेद रहे, सहवाग ने कहा ,‘ मुझे नहीं लगता कि ऐसा कुछ हुआ । यह मीडिया की अटकलें थी कि सहवाग और धोनी की ठन गई है । हम साथ में होटल में रहते थे और मैच खेलते थे । यदि ऐसा कुछ होता तो मुझे बहुत पहले बाहर कर दिया गया होता ।”

 

भारत के पूर्व कोच ग्रेग चैपल ने अपने कालम में लिखा था कि सहवाग और धोनी के बीच इसलिये ठन गई क्योंकि सहवाग कप्तान बनना चाहते थे , इस बारे में सहवाग ने कहा ,‘ आप इस बारे में धोनी से पूछ सकते हैं । हमने 2007 विश्व कप साथ में खेला । यह कहना कि मैं कप्तान बनना चाहता था, पूरी तरह से गलत है । धोनी जब कप्तान बने तब मैं उनकी कप्तानी में खेला और हमने टी20 विश्व कप जीता ।’

यह बताने पर कि उन्होंने छह जुलाई 2012 को एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि टीम धोनी की कप्तानी की वजह से विश्व कप नहीं जीती बल्कि इसलिये जीती क्योंकि टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया था, सहवाग ने कहा ,‘ यहां मौजूद किसी भी व्यक्ति से पूछ लीजिये कि मेरा बयान सही था या गलत । मेरा बयान गलत नहीं था लेकिन उसे गलत तरीके से पेश किया गया ।’ उन्होंने कहा ,‘ मैं धोनी की आलोचना नहीं कर रहा था । मैने इतना ही कहा था कि पूरा श्रेय कप्तान को ही नहीं बल्कि टीम को भी दिया जाना चाहिये ।’

सहवाग ने कहा ,”यदि आप रिकार्ड देखें तो धोनी अब तक भारत के सर्वश्रेष्ठ कप्तान है । सौरव गांगुली को पछाड़कर उन्होंने टेस्ट व वनडे और टी20 और दो विश्व कप जीते । इससे कोई इनकार नहीं कर सकता लेकिन सिर्फ एक व्यक्ति को श्रेय देना गलत है, मैने पहले मैच में 175 रन बनाये । धोनी ने आखिरी मैच में 92 रन बनाये । गौतम गंभीर ने रन बनाये और युवराज सिंह मैन आफ द सीरिज था । कल कोई यह कहे कि हमने युवराज की वजह से विश्व कप जीता तो क्या कोई मानेगा ।”

  • SHARE

    Related Articles

    टीम की ओपनिंग की समस्या हुई खत्म अब खुद चयनकर्ताओ ने कहा ये खिलाड़ी...

    साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश की टीम के बीच 28 सितम्बर से साउथ अफ्रीका की धरती पर दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जानी है. बांग्लादेश...

    कुलदीप यादव ने कहा था मेरे सामने प्रेशर में होता है वार्नर, सुन भड़के...

    भारतीय टीम और ऑस्ट्रेलियाई टीम के बीच पांच मैचों की श्रंखला जारी है और अभी तक भारतीय टीम सीरीज में 2-0 से आगे चल...

    विराट या धोनी को नहीं बल्कि इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

    ये तो आप सभी जानते है, कि भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश में स्वछता मिशन अभियान चला रखा है....

    अजब गजब: मैच के दौरान पहले कैच आउट और फिर रन आउट हुए हार्दिक...

    भारत और आॅस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पांच वनडे मैचों की सीरीज का दूसरा एकदिवसीय मैच टीम इण्डिया के नाम रहा।टाॅस जीतकर पहली बल्लेबाजी...

    सहवाग-झूलन ने घंटा बजाकर किया था मैच का शानदार शुभारंभ, लेकिन फिर भी ईडन...

    कल गुरुवार 21 सितम्बर को भारत और आस्ट्रेलियाई टीम के बीच खेले गये दुसरे वनडे मैच का शुभारंभ कोलकता के ईडन गार्डन मैदान में काफी खास...