खेल में स्थिरता होने किसी भी टीम की सफलता के लिए महत्वपूर्ण है . और क्रिकेट जैसे खेल में जोकि तीन प्रारूपों में खेला जाता है ,टेस्ट, वनडे और टी 20 तो सभी रूपों में स्थिरता अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है साथ ही खेल की जरुरत के हिसाब से यह खिलाड़ी की क्षमता को साबित करता है. अतीत में ऐसे कई महान सफल खिलाडी रहे जैसे सचिन तेंदुलकर, राहुल, कुमार संगाकारा, द्रविड़ , रिकी पोंटिंग जिन्होंने क्रिकेट के खेल में बड़ा योगदान दिया है. लेकिन अब आधुनिक युग क्रिकेट में कई क्रिकेटर केवल 1 या 2 प्रारूपों में खेलते हैं, पर कुछ क्रिकेटरों ने तीनों प्रारूपों में अपनी अहम भूमिका निभाई है.

यहाँ पेश है हर प्रारूप में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले शीर्ष 5 खिलाड़ियों के नाम

1. विराट कोहली
विराट कोहली एक ऐसा खिलाडी है जिसने हर प्रारूप में सर्वश्रेस्ठ प्रदर्शन किया है. वह भारतीय टीम में नंबर 3 पर बल्लेबाज़ी करने आते हैं .विराट ऑस्ट्रेलिया ,दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड में शतक जड़ चुके हैं. वह वन डे में स्कोर का पीछा करने में माहिर हैं . टेस्ट मैचों में उन्होंने 45.73 की औसत से 34 मैच खेले और 2561 रन बनाए. जिसमे उनका सबसे बेहतर स्कोर 169 का रहा और इन मैचों में उन्होंने 10 शतक व् 10 अर्धशतक लगाये. 2011 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ विराट ने अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की थी. एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय में उन्होंने 161 मैच खेले और 50.66 की औसत से 6586 रन बनाए. जिसमे सबसे बढ़िया स्कोर 183 रहा व् इस दौरान 22 शतक व् 33 अर्धशतक बनाये. उन्होंने 2008 में श्रीलंका के खिलाफ अपने एक दिवसीय अंतराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत की थी. वहीँ टी -20 में उन्होंने नाबाद 78 का सबसे अच्छे स्कोर के साथ 46.28 की औसत से 28 मैचों में भूमिका निभाई है .2010 में जिम्बाब्वे के खिलाफ विराट ने अपने टी -20 करियर की शुरुआत की थी.

2. एबी डिविलियर्स
एबी डिविलियर्स दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलते हैं. टेस्ट में उन्होंने 98 मैच खेले और 52.09 की औसत से 7606 रन बनाये. जिसमे उनका सबसे अच्छा स्कोर नाबाद 278 रहा व् 21 शतक और 36 अर्धशतक रहे. उन्होंने 2004 में इंग्लैंड के खिलाफ अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की . एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में उन्होंने 187 मैच खेले और 53.65 की औसत से 7941 रन बनाए .2005 में इंग्लैंड के खिलाफ इन्होने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय में कदम रखा. इनके नाम तेज़ी से 31 गेंदों पर शतक लगाने का रिकॉर्ड है. 99.12 का उनका स्ट्राइक रेट उन्हें 20 शतक और 46 अर्द्धशतक के साथ एक विशेष खिलाड़ी बनाता है. वहीँ टी -20 प्रारूप में उन्होंने नाबाद 79 का सबसे अच्छा स्कोर के साथ 23.21 की औसत से 59 मैचों में बढ़िया योगदान दिया है.उन्होंने 2006 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने टी -20 करियर की शुरुआत की थी. इंडियन प्रीमियर लीग में वह रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर के लिए खेलते है.

3. फाफ डू प्लेसिस
यह खिलाडी दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलता है और बल्लेबाजी क्रम में नंबर 3 पर आता है. टेस्ट में उन्होंने 20 टेस्ट मैच खेले और 51.67 की औसत से 1447 रन बनाए है जिसमे 137 के बेहतर स्कोर के साथ 4 शतक और 7 अर्धशतक शामिल हैं. इन्होने 2012 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की थी. वहीँ एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में उन्होंने 77 मैच खेले और 37.16 की औसत से 2453 में रन बनाए, 126 के अधिकतम स्कोर के साथ उनके 4 शतक और 16 अर्धशतक शामिल हैं. 2011 में भारत के खिलाफ अपने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत की थी .अगर बात करे तीसरे प्रारूप टी 20 की तो टी -20 में उन्होंने 24 मैच खेले और 42.36 की औसत से कुल 805 रन बनाए हैं. वे दक्षिण अफ्रीका की टी -20 टीम के कप्तान भी हैं.

4. डेविड वार्नर
डेविड वार्नर ऑस्ट्रेलिया के लिए एक विस्फोटक सलामी बल्लेबाज है जिन्होंने 40 टेस्ट मैच खेले और 46.86 की औसत से 3421 रन बनाए है इस दौरान उनका बढ़िया स्कोर 180 रहा व् 12 शतक और 16 अर्धशतक लगाने में वे कामयाब रहे. वार्नर  ने 2011 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की.टेस्ट में उनका 73.88 का स्ट्राइक रेट उन्हें एक खतरनाक खिलाड़ी बनाता है. वहीँ विश्व कप 2015 में 178 के अच्छे स्कोर के साथ उन्होंने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय में कुल 62 मैच खेले और 34.69 की औसत से 2047 रन बनाए. टी -20 में उन्होंने 52 मैच खेले और 29.46 की औसत के साथ 1444 रन बनाए हैं.उनका सबसे अच्छा 90 नॉट आउट स्कोर रहा. लेकिन 138.84 का उनका स्ट्राइक रेट उन्हें एक विशेष खिलाड़ी बनाता है .

5. शाकिब अल हसन
यह बांग्लादेश टीम का एक शानदार हरफनमौला खिलाडी है जोकि अच्छी तरह से गेंदबाजी भी करता है और एक मध्यम क्रम का बढ़िया बल्लेबाज भी है . टेस्ट में उन्होंने 40 मैच खेले और 39.72 की औसत से 2741 रन बनाए है जिसमे उनका बेहतरीन स्कोर 144 रहा. वर्ष 2007 में भारत के खिलाफ इस खिलाडी ने अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत की थी. एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में उन्होंने 156 मैच खेले है और 134 नॉट आउट के सबसे अच्छे स्कोर के साथ 35.33 की औसत से कुल 4382 रन बनाए हैं .2006 में जिम्बाब्वे के खिलाफ इन्होने अपने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत की और वन डे में 6 शतक और 30 अर्धशतक इनके नाम हैं. गेंदबाजी करते हुए इनकी इकॉनमी शानदार रही हैं जो की 4.30 है. टी -20 में उन्होंने 38 मैच खेले और 24.08 की औसत के साथ 843 रन बनाए लेकिन उनके स्ट्राइक रेट 125.44 के साथ 84 का सबसे अच्छा स्कोर है.उन्होंने 2006 में जिम्बाब्वे के खिलाफ अपने टी -20 करियर की शुरुआत की और गेंदबाजी करते हुए उनका इकॉनमी रेट 6.49 रहा जोकि प्रतिभाशाली है.

  • SHARE
    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    NEWS: 3-0 से सीरीज जीतते ही भारतीय चयनकर्ताओ ने बाकी बचे 2 मैचो से...

    मौजूदा समय में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पांच वनडे मैचों की श्रृंखला खेली जा रही हैं और रविवार, 24 सितम्बर को इस पेटीएम...

    प्रो कबड्डी लीग : रोमांचक मुकाबले में एक अंक से जीती थलाइवाज की टीम

    नई दिल्ली, 24 सितम्बर (आईएएनएस)| कप्तान अजय ठाकुर के अंतिम पलों में किए गए बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर तमिल थलाइवाज ने प्रो कबड्डी...

    प्रो कबड्डी: लगातार घर में तीसरा मैच हारी दिल्ली

    नई दिल्ली, 24 सितम्बर (आईएएनएस)| दबंग दिल्ली प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के सीजन-5 में अपने घर में भी हार के सिलसिले को नहीं तोड़...

    रोहित व रहाणे को नहीं बल्कि इस खिलाड़ी को दिया विराट ने जीत का...

    भारत और ऑस्ट्रेलियाई टीम के बीच चल रही पांच मैचों की वनडे सीरीज का तीसरा वनडे मैच आज रविवार को इंदौर के होल्कर क्रिकेट स्टेडियम...

    तीसरा वनडे जीतने के बाद खुद विराट कोहली ने बताया क्यों चौथे नम्बर पर...

    ऑस्ट्रेलियाई टीम को पहले चेन्नई में 26 रनों से फिर उसके बाद कोलकता में 50 रनों से करारी शिकस्त देने के बाद आज रविवार...