भारत-पाक एकादश बनाम एशेज एकादश - Sportzwiki
क्रिकेट

भारत-पाक एकादश बनाम एशेज एकादश

  • कैसा रहेगा अगर क्रिकेट की दो महान शत्रुतापूर्ण टीमें आपस में ही अपनी एक टीम बना कर दूसरे महान प्रतिद्वंदी का सामना करे.! सर्वश्रेष्ठ “भारत-पाक इलेवन” टीम बढ़िया “एशेज इलेवन” से मुकाबला करे. आईसीसी, अक्सर “आईसीसी इलेवन बनाम एशिया इलेवेन” जैसे मैचों की तरह सुपर सीरीज का आयोजन करता रहता है, जैसे कि हमने 2005 में महान विश्व क्रिकेट सुनामी अपील मैच देखा .

    इसी तरह अगर एशेज इलेवेन और भारत-पाक इलेवन के बीच मैच खेला जाए तो ये बेहद दिलचस्प व् रोमांचक रहेगा. इसी कल्पना के साथ यहाँ हम एशेज प्रतिद्वंद्विता और भारतीय-पाक प्रतिद्वंद्विता से हर समय के सर्वश्रेष्ठ एकादश खिलाडियों को चुन रहे हैं.

    भारत -पाकिस्तान इलेवन:

    सलामी बल्लेबाज-

    वीरेंद्र सहवाग :
    एक टेस्ट सलामी बल्लेबाज के रूप में वीरू ने अपनी अद्भुत स्ट्रोक खेलने की क्षमता के साथ भारत को विपुल शुरुआत दी है. टेस्ट क्रिकेट में वह किसी भी स्थिति में बढ़िया प्रदर्शन कर सकता है. इस बल्लेबाज़ की टेस्ट में पाकिस्तान के खिलाफ आश्चर्यजनक 91.14 औसत है. 2004 से 2006 तक वह पाकिस्तान के खिलाफ 309 उच्चतम रनों के साथ नौ टेस्ट मैचों में वह 1276 रन जमा चुके हैं.

    हनीफ मोहम्मद :
    पाकिस्तान क्रिकेट के वे पहले स्टार थे, जिन्होंने टेस्ट इतिहास में 1957-58 में ब्रिजटाउन में वेस्टइंडीज के खिलाफ 970 मिनट में 337 की पारी खेली. और तो और उन्होंने वर्ष 1958-59 में 73.60 की एक आश्चर्यजनक औसत के साथ वेस्ट इंडीज के तेज गेंदबाजों के खिलाफ सिर्फ छह मैचों में 736 रन बनाए थे.

    टॉप ऑर्डर-

    सचिन तेंडुलकर:
    पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने शानदार प्रदर्शन के साथ ” इस सदी के खिलाड़ी” के रूप में यह टॉप आर्डर के पहले बल्लेबाज़ होंगे. ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ अपनी 50 से जयादा की औसत के साथ वह शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के रूप में पहली पसंद होंगे.

    जहीर अब्बास:
    इस खिलाडी की इंग्लैंड के खिलाफ 51 और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 44 की एक प्रभावशाली औसत है. प्रथम श्रेणी के स्तर पर और टेस्ट दोनों में जहीर अब्बास का प्रदर्शन सराहनीय रहा है.

    मध्यक्रम-

    राहुल द्रविड़:
    राहुल का ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ काफी प्रभावशाली टेस्ट रिकॉर्ड है लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ उनका एक आश्चर्यजनक सफर रहा है. इक्कीस मैचों में उन्होंने 60.93 के औसत के साथ 1950 रन बनाए हैं .

    ऑलराउंडर-

    इमरान खान, कप्तान:
    कमाल का नेतृत्व कौशल के साथ विश्व कप विजेता रहे इमरान खान टीम में कप्तान की भूमिका अदा कर सकते हैं. इन्होने 88 टेस्ट मैचों में 37.69 की औसत से 3807 रन बनाए हैं जबकि एक गेंदबाज के रूप में इनके नाम 362 विकेट हैं.

    कपिल देव:
    कपिल देव की लाजवाब प्रतिभा व् कौशल टीम को मजबूती देगा. 31 टेस्ट में 434 विकेट के साथ भारत के वह सबसे बड़े तेज गेंदबाज रहे हैं, साथ ही उन्होंने 31.05 की औसत से 5248 रन बनाए हैं.

    विकेट कीपर-

    महेंदर सिंह धोनी:
    टेस्ट में 38.09 की औसत और विकेट कीपिंग कौशल उनकी टीम के लिए उपयोगी होगा.

    स्पिनर-

    अनिल कुंबले :
    अनिल ने संयुक्त रूप से ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ 39 टेस्ट में 203 विकेट लिए है.

    तेज़ गेंदबाज़-

    वसीम अकरम :
    ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ संयुक्त में उन्होंने 31 मैचों में 107 विकेट चटकाए हैं.

    फजल महमूद:
    ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ 10 मैचों में वे 49 विकेट ले चुके हैं.

    एशेज इलेवन

    सलामी बल्लेबाज-

    जैक हाब्स :
    अपने 61 मैचों के अंतरराष्ट्रीय कैरियर में उन्होंने 56.94 की औसत से 5410 रन बनाए हैं.

    आर्थर रॉबर्ट मॉरिस :
    साहस का प्रतीक इस 18 वर्षीय खिलाडी ने दिसंबर 1940 में अपने प्रथम श्रेणी कैरियर की शुरुआत की और प्रत्येक पारी में सौ रन बनाये.

    टॉप ऑर्डर

    डॉन ब्रेडमैन :
    डॉन ब्रेडमैन 89.78 की एक नायाब औसत के साथ एशेज के इतिहास में सर्वाधिक 5028 रन बनाने का रिकॉर्ड रखते हैं.

    मध्यक्रम :

    वैली हैमंड :
    उन्होंने 85 टेस्ट मैचों में 58.45 की औसत से 7259 रन बनाये हैं.

    एलन बॉर्डर , कप्तान:
    वे 50.56 की औसत से 156 टेस्ट मैच में 11,174 रन बनाने में कामयाब रहे हैं. कप्तान के तौर पर वे 13 एशेज टेस्ट जीतने का रिकॉर्ड रखते हैं.

    हरफनमौला-

    इयान बॉथम :
    एक शक्तिशाली गति, कौशल व् स्विंग के मिश्रण के साथ उन्होंने 148 एशेज विकेट लिए हैं.

    विकेट कीपर-

    एडम गिलक्रिस्ट :
    आप शायद ही टेस्ट में 47 से अधिक औसत के साथ एक खिलाड़ी विकेटकीपर पाएंगे.

    स्पिनर-

    शेन वार्न :
    एशेज के इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट लेने का कारनामा करने वाले शेन वार्न बेशक स्पिनर के तौर पर पहली पसंद होंगे.

    तेज़ गेंदबाज़

    डेनिस लिली :
    वास्तविक गति और स्विंग के साथ आक्रामक ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज एक बढ़िया तेज़ गेंदबाज साबित हो सकते हैं.

    ग्लेन मैक्ग्राथ :
    सबसे सटीक और सुसंगत इस गेंदबाज ने 157 एशेज विकेट लिए हैं. 2005 की एशेज में उनकी अनुपस्थिति इंग्लैंड के लिए जीत का एक कारण बनी थी.

    हेरोल्ड लरवूड :
    एशेज की एक टीम के इस खिलाडी का गेंदबाज़ी में हुनर एशेज इलेवेन के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Top