टीम से बाहर रहना मेरे करियर का सबसे बुरा दौर था: हरभजन सिंह - Sportzwiki
क्रिकेट

टीम से बाहर रहना मेरे करियर का सबसे बुरा दौर था: हरभजन सिंह

  • हरभजन सिंह ने कहा कि टीम से इतने लंबे समय तक बाहर रहना उनके कैरियर का बेहद निराशाजनक दौर था.

    लंबे समय बाद टीम इंडिया में वापसी करने वाले देश के सबसे सफलतम स्पिन गेंदबाजों में से एक हरभजन सिंह ने कहा कि टीम से इतने लंबे समय तक बाहर रहना उनके कैरियर का बेहद निराशाजनक दौर था.
          
    गत माह बंगलादेश के खिलाफ टेस्ट से और जिम्बाब्वे दौरे से वनडे टीम में वापसी करने वाले 34 वर्षीय दिग्गज आफ स्पिनर हरभजन  ने टीम से खुद के बाहर रहने के दौर को जीवन का सबसे कठिनतम समय माना. उन्होंने कहा, ‘टीम में एक बार फिर वापसी करना बेहद सुखद अनुभव है. मैं पिछले दो वर्षों से इसके लिये प्रयास कर रहा था और टीम में वापसी के लिये आशान्वित था.’
        
    जिम्बाब्वे दौरे के दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 700 विकेट पूरे करने वाले हरभजन ने कहा, ‘मैंने पिछले दो वर्षों  में बहुत मेहनत की थी और मुझे टीम में वापसी की पूरी उम्मीद थी. मैं बंगलादेश के खिलाफ खुद के प्रदर्शन से संतुष्ट हूं. मेरा पूरा प्रयास अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए टीम में नियमित जगह बनाना है.’
          
    102 टेस्टों में 416 विकेट और 232 वनडे में 263 विकेट लेने वाले हरभजन ने इस कठिनतम दौर पर कहा, ‘टीम से बाहर रहना हालांकि किसी भी खिलाड़ी के लिये बेहद कठिन समय होता है पर मैंने हमेशा वापसी की उम्मीद रखी. मैं खुद को प्रेरित करते हुये कहता था कि यदि टीम में मेरा आज चयन नहीं होता है तो कल हो जायेगा.’

    हरभजन ने कहा, ‘हर बार टीम की घोषणा के समय टीम में चयन न होने से मन में निराशा आती थी पर मैंने खुद को प्रेरित करते हुये हमेशा वापसी की उम्मीद रखी. मैंने इस दौरान अपने खेल और फिटनेस समेत बहुत सी बातों पर विश्लेषण किया और कड़ी मेहनत की.’
             
    आफ स्पिनर ने कहा, ‘मैं बंगलादेश के खिलाफ टेस्ट से काफी लंबे समय बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर रहा था इसलिये मेरी प्राथमिकता सबसे पहले अपने आप को सहज रखना था. मैं वापसी मैच को लेकर काफी रोमांचित था. मैंने गेंदबाजी की शुरुआत करते हुये कोई अतिरिक्त प्रयास नहीं किया और मात्र गेंद को सही दिशा और जगह में डालने की कोशिश की.’
               
    टीम के साथी खिलाड़यिों की जमकर तारीफ करते हुये उन्होंने कहा, ‘टीम काफी युवा है जिन्होंने मेरी हर गेंद पर मेरा उत्साह बढाया. यह वाकई एक शानदार अनुभव था.’

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Top