क्रिकेट को जेंटलमैन गेम कहा जाता है, और पिछले कुछ साल पहले ऐसा कहना भी सही था, पुराने क्रिकेटरों ने इसे सिद्ध किया है, लेकिन वर्तमान समय में ऐसा कहना गलत होगा, क्यूंकि इस समय इसे स्लेजिंग और आपसी झगड़े ने खत्म कर के सिर्फ प्रतिद्वंदिता का खेल बना कर छोड़ दिया है. इस समय एक भी ऐसा क्रिकेटर ढूढ़ पाना मुश्किल होगा, जो अच्छी तरह से विरोधी टीम के सामने पेश आ सके, अपने भारतीय कप्तान धोनी इस मामले में अपवाद है.

लेकिन आज हम यहाँ पूर्व की एक ऐसी घटना सामने ला रहे है, जिसमे पाकिस्तान के दिग्गज खिलाड़ियों में से एक जावेद मियादाद और ऑस्ट्रेलिया के डेनिस लिली के बिच की एक घटना है, जो सिद्ध करती है, कि कुछ समय पूर्व ही क्रिकेट जेंटलमैन गेम से बदल कर प्रतिद्वंदिता का खेल बन कर रह गया है.

जावेद मियादाद और लिली के बिच की इस घटना ने तो उस समय काफी बवाल खड़ा कर दिया था, मियादाद ने उस समय अम्पायर से शिकायत किया था, कि जब वो रन लेने के लिए दौड़ रहे थे, तो लिली उनके बिच आकर उनका रास्ता रोकने की कोशिश कर उन्हें आउट करना चाहते थे.

ऐसी ही एक घटना 1980 में भी घटित हुयी, ये वो समय था, जब क्रिकेट में दिग्गज खिलाड़ियों का बोलबाला था, इस समय इमरान खान, एलेन बार्डर, सुनील गवास्कर, विवियन रिचर्ड्स जैसे दिग्गज खिलाड़ियों का बोलबाला था.

 

ये उसी समय की बात है, पाकिस्तान के कप्तान इमरान खान उस समय के ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एलेन बार्डर से सिडनी में एक फार्मल मीटिंग के दौरान मिले, इमरान ने बार्डर से कहा: “एबी आप मुझे भारत से सिर्फ 2 खिलाड़ी सुनील गवास्कर और बीएस चन्द्रशेखर को दे दो, हम ऑस्ट्रेलिया को आसानी से हरा सकते है.” इस पर एलेन बार्डर ने इमरान खान को ऐसा जबाब दिया, जिससे पाकिस्तान समेत ऑस्ट्रेलिया में खलबली मच गयी. बार्डर ने कहा: “इमरान हमे पाकिस्तान से सिर्फ 2 अम्पायर दे दो हम पूरी दुनिया को हरा देंगे.”

ये बात इमरान को नागावर गुजरी, और उन्होंने इसकी शिकायत पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से किया, जिसके बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड से बॉर्डर के इस बयान की शिकायत कर, उन्हें हिदायत देने की बात कही.

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बार्डर के इस बयान को अभद्र पाया, और बार्डर से कहा, कि वो इस तरह का बयान देने की वजह से इमरान खान और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से इसे लेकर माफ़ी मांगे.

यह अब तक का किसी दो देशो के कप्तान के बिच हुआ अब तक का सबसे खराब इनफ़ॉर्मल मीटिंग था, लेकिन इसमें कोई शक नहीं है, कि ये दोनों अब तक सबसे सफल कप्तान रहे है, बार्डर ने 1987 का विश्वकप अपने नाम किया, तो पाकिस्तान ने 1992 में इमरान खान की कप्तानी में अपना अब तक का एक मात्र विश्वकप जीता है, उसके बाद से अब तक दोबारा पाकिस्तान कभी विश्वकप नहीं जीत पाया.

लेकिन इन दोनों कप्तानो के बिच हुई यह घटना इतिहास में दर्ज हो गयी, यह अब तक की किन्ही 2 दिग्गज कप्तानो के बिच हुई सबसे शर्मनाक घटना है.

  • SHARE

    Related Articles

    देश में खुला पहला निजी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स..तो दीपिका पादुकोण ने किया यह ट्वीट

    भारत में सभी खेलों को नये आयाम देने के मकसद से देश का पहला निजी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का उद्घाटन किया गया है. इस केंद्र...
    virat-kohli-anushka-sharma MARRIAGE

    विराट-अनुष्का की रिसेप्शन पार्टी की खुशी में जैकलीन ने शेयर कर दी ये तस्वीर

    भारत के कप्तान विराट कोहली और बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने 11 दिसंबर को इटली में शादी कर ली है. जिसके बाद वो अपने...

    अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सिर्फ 114 रन बनाने वाले यह खिलाड़ी था सचिन तेंदुलकर का...

    मौजूदा समय में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के हर एक प्रारूप में टीम इंडिया विराट कोहली की अगुवाई में अपना नाम का डंका पिट रही हैं....

    हार से आप और भी मजबूत होंगी सिंधु : अमिताभ

    मुंबई, 18 दिसंबर; जापान की अकाने यामागुची से दुबई वर्ल्ड सुपरसीरीज का खिताब हारने वाली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पी.वी. सिंधु के लिए मेगास्टार अमिताभ बच्चन...

    ब्राजीलियाई फुटबाल दिग्गज काका ने संन्यास लिया

    रियो डी जनेरियो, 18 दिसंबर; ब्राजील फुटबाल जगत के दिग्गज काका ने 35 साल की उम्र में फुटबाल से संन्यास की घोषणा कर दी है।...