पाकिस्तान की क्रिकेट शुरू से विश्व भर में बदनाम होती आई है। पाकिस्तान क्रिकेट में हमेशा कोई ना कोई खिलाड़ी मैच फिक्सिंग के आरोप में फंसता आया। पाकिस्तान की क्रिकेट में एक से बढ़कर एक खिलाड़ी हुए हैं, लेकिन उनमें से कुछ खिलाड़ियों ने मैच फिक्सिंग जैसे चीजों में हाथ डालकर अपना करियर तो बर्बाद किया ही साथ में उन्हें अपने घर,समाज, देश, विदेश हर जगह बदनामी का सामना करना पड़ता है।

पाकिस्तान में ऐसे बहुत सारे क्रिकेटर रहे हैं, जिनमें से एक हैं सलिम मलिक। सलिम मलिक पाकिस्तान के लिए 103 टेस्ट मैच खेले थे। 54 साल के सलीम मलिक ने 1982 में अपना पहला मैच खेला था। उसके बाद उन्होंने अपने करियर में काफी रन बनाए और पार्ट टाइम बॉलर के रूप में काफी विकेट भी लिए। इतने लंबे और शानदार करियर के बाद भी उनसे आज कोई बात नहीं करना चाहता। सबने उनका बहिष्कार कर दिया है।

सलीम पर सन् 2000 में लगा था आरोप

सलीम ने बार-बार पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड से गुजारिश की कि उन्हें माफ कर दिया जाए। पर बात नहीं बनी। हालांकि कुछ दिग्गज मानते हैं कि पीसीबी तो उन्हें माफ करने के लिए भी तैयार थी, लेकिन मलिक को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट संघ यानी की आईसीसी ने कभी माफ नहीं किया।

सलीम मलिक पर सन् 2000 में मैच फिक्सिंग का आरोप लगा, जिसके बाद उसकी जांच हुई और साबित हो गया कि सलीम मलिक ने मैच फिक्स किया था। इसके बाद उनके ऊपर जीवनभर के लिए अंतररराष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट खेलने पर बैन लगा दिया गया था। इसके बाद उनकी जीवन और देश के लिए इतने साल खेलने की मेहनत सब एक झटके में बर्बाद हो गई।

सलीम एक जिल्लत की जिंदगी जीने लगे। पाकिस्तान के मशहूर क्रिकेट समीक्षक असदर रजा बताते हैं कि सलीम मलिक पर लगे बैन से उनकी जिंदगी खत्म हो गई। उनका सामाजिक बहिष्कार शुरू हो गया।

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने लगाया था आरोप

सलीम पर पहली बार पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और विकेट कीपर राशिद लतीफ ने मैच फिक्सिंग का आरोप लगाया। राशिद लतीफ ने दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्बे दौरे के दौरान पाकिस्तान के सलीम मलीक पर मैच फिक्स करने और करवाने का आरोप लगाया था।

लतीफ की शिकायत के बाद पाकिस्तान सरकार ने आरोपों की जांच करवाई। उसके बाद सलीम मलिक और अता-उर-रहमान पर जीवन भर का बैन लगा। हालांकि सलीम कहते हैं कि उन्होंने कोई फिक्सिंग नहीं की है। उन्हें फंसाया गया है वो निर्दोष हैं। वे मैच फिक्सिंग के काले धंधे का कभी भी हिस्सा नहीं थे।

बेहद हरफनमौला खिलाड़ी थे सलीम मलिक

सलीम पाकिस्तान क्रिकेट में एक बेहद प्रतिभाशाली खिलाड़ी थे। वें मध्यक्रम बल्लेबाज के साथ-साथ लेग ब्रेक बॉलर भी थे। दोनों रूप में उन्होंने अपने टीम के लिए काफी योगदान दिया है। उनकी कलाइयों से मारे गए शॉट्स को दिग्गज आज भी याद करते हैं। उनकी बल्लेबाजी में उनकी कलाइयों का कमाल दिखाई देता था।

मलिक ने 1982 में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने 43.69 रनों की औसत से रन बनाए। मलिक ने 15 शतक और 29 हॉफ सैंचुरी भी ठोकी थीं। सलीम मलिक ने 12 टेस्ट मैचों में पाकिस्तान टीम की कप्तानी भी की।

  • SHARE

    Related Articles

    सचिन-कांबली ही नहीं बल्कि बचपन में अफ्रीका के ये दो दिग्गज भी थे बहुत...

    अगर आप भी क्रिकेट के फैन है तो यह तो आपको भी पता होगा कि भारतीय क्रिकेट टीम के दो पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सचिन...

    पांच बड़े कारण आखिर क्यों रोमन रेन्स को रेसलमेनिया 34 में ब्रोक लेसनर से...

    यह बात तो हर रेस्लिंग फैन जानता है कि रेसलमेनिया 34 में ब्रोक लेसनर को अपनी WWE यूनिवर्सल टाइटल रोमन रेन्स के खिलाफ बचानी...

    भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे विवादित खिलाड़ी अम्बाती रायडू को बीसीसीआई ने भेजा कारण...

    सैयद मुस्ताक अली ट्रॉफी में हैदराबाद के कप्तान अंबाती रायडू को बीसीसआई ने नोटिस भेज दिया है। दरअसल, बीसीसीआई ने अंबाती से पूछा है...

    शहीद भगत सिंह के लिए राजनेताओं से लड़ने को तैयार हरभजन सिंह, सरकार से...

    भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह इन दिनों सोशल मीडिया में काफी एक्टिव देखे जा रहे है और हमेशा कुछ न कुछ...

    शर्मनाक: जिस भारतीय महिला क्रिकेटर ने भारत को विश्वकप के फाइनल में पहुंचा किया...

    इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड की मेजबानी में पिछले साल हुए आईसीसी महिला क्रिकेट विश्वकप में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने खिताबी मुकाबलें तक...