बांग्लादेश उलटफेर करने में माहिर, भारत की ज़रा सी चूक पड़ सकती है भरी - Sportzwiki
क्रिकेट

बांग्लादेश उलटफेर करने में माहिर, भारत की ज़रा सी चूक पड़ सकती है भरी

  • भारत का बांग्लादेश के खिलाफ हुए एक टेस्ट मैच में वह टेस्ट ड्रॉ होने के बाद अब भारत को तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है. आंकड़ों के मामलों में बेशक भार्ततीय टीम बांग्लादेश से मजबूत हो, लेकिन बांग्लादेश मैच में उलटफेर करने में माहिर है. बांग्लादेश ने पाकिस्तान के खिलाफ अपनी पिछली घरेलू ओ डी आई और टेस्ट सीरीज में बेहतरीन प्रदर्शन किया था.   

    बहरहाल भारत और बांग्लादेश के बीच पहला वनडे मैच 18 जून को खेला जायेगा. सन 1988 से लेकर 2015 तक  बांग्लादेश और भारत ने कुल 29 मैच खेले हैं, जिनमे से 25 मुकाबलों में भारत ने जीत हासिल की तो वहीं तीन में बांग्लादेश जीतने में सफल रहा.  जीते गए तीन मैचों में से दो मैच बांग्लादेश ने अपनी सर ज़मीं पर ही जीते थे.

    जिन मैचों में भारत बांग्लादेश से हार उनमे भारत ने अपने विरोधी को कमज़ोर समझने की भूल की थी. लेकिन आगामी दौरे के मैचों में ऐसा न हो इसलिए भारतीय टीम को अपनी वह गलतियां नहीं दोहरानी चाहिए.

    क्या थी वह गलतियां …देखिये…

    -> 26 दिसंबर, 2004 को ढाका में हुए मैच में बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 230 रनों का लक्ष्य खड़ा किया था, लेकिन भारत इस स्कोर को भी पार करने में कामयाब नहीं हो स्का और 15 रन से मैच गवां बैठा. इस दौरान भारत के टॉप तीन बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग (0), सौरव गांगुली (22) और युवराज सिंह (4) भी ख़ास नहीं कर पाये थे.

    -> उस दौरान मैच में बांग्लादेश की जीत में भारतीय गेंदबाज़ो की भी एहम भूमिका रही . भारतीय गेंदबाज़ो ने 20 अतिरिक्त रन लुटाए जिनमे से 10 रन तो केवल नो-बॉल से ही बांग्लादेश को मिले. बांग्लादेश में किफायती गेंदबाज़ी के बावजूद भी भारतीय गेंदबाज अपनी लाइन और लेंथ पर सही तरीके से कायम नहीं रह पाये थे.

    -> 17 मार्च 2007 में पोर्ट ऑफ स्पेन में खेले गए विश्व कप मैच में बांग्लादेश ने भारत को 5 विकेट से हराया था. इस शिकस्त के बाद वर्ल्ड कप के पहले ही दौर में भारत का सफर खत्म हो गया था.  पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय बल्लेबाज़ों ने ख़राब प्रदर्शन किया व् पूरी टीम 191 रनों पर ही सिमट गयी थी.  यहां कोई भी बल्लेबाज़ बड़ी साझेदारी नहीं निभा सका था. मैच में धोनी और हरभजन के अलावा अन्य तीन बल्लेबाज भी शून्य पर आउट हो गए थे.

    -> बांग्लादेश के खिलाफ लगभग हर मैच के दौरान भारतीय टीम ने खराब फील्डिंग की. खिलाड़ियों ने कई कैच छोड़े जिस कारण बांग्लादेश के युवा खिलाडी अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रहे और  अपनी टीम को जीत दिलवाई.  

    -> बांग्लादेश के मीरपुर में 16 मार्च 2012 को हुए मैच में सचिन तेंडुलकर ने अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर का 100 वां शतक लगाया था. सचिन के 114 रन की मदद से भारत ने बांग्लादेश के लिए 290 रनों का लक्ष्य रखा था. लेकिन  बांग्लादेश ने 4 बॉल शेष रहते ही यह टारगेट हासिल कर लिया. इस मैच में भारतीय खिलाड़ियों की फील्डिंग व् गेंदबाज़ी ने विरोधियो को जीतने में मदद का काम किया.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Top