भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी तीन मैचों की टी-20 सीरीज का दूसरा मैच टीम इंडिया ने 27 रन से जीत लिया.185 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की टीम 20 ओवर में 8 विकेट पर 157 रन ही बना सकी. एक समय मैच से बाहर दिख रही टीम इंडिया ने जबर्दस्त वापसी करते हुए 2008 के बाद ऑस्ट्रेलियाई धरती पर ऐतिहासिक सीरीज जीत दर्ज कर ली. धोनी ऐसे सातवें कप्तान बन गए हैं, जिसने ऑस्ट्रेलिया में दो सीरीज जीती हैं. 26 साल में टीम इंडिया की ऑस्ट्रेलिया में यह तीसरी सीरीज जीत है. विराट कोहली को ‘मैन ऑफ द मैच‘ चुना गया.

गेंदबाजी में टीम इंडिया की ओर से रवींद्र जडेजा और जसप्रीत बुमराह ने दो-दो विकेट लिए, जबकि युवराज सिंह, आर अश्विन और हार्दिक पांड्या को एक-एक विकेट मिले. टीम इंडिया को पहली सफलता आर अश्विन ने 10वें ओवर में दिलाई. यह विकेट ऐसे समय मिला जब टीम इंडिया विकेट के लिए तरस रही थी और मैच हाथ से निकलता दिख रहा था. उन्होंने शॉन मार्श को 23 के निजी स्कोर पर हार्दिक पांड्या के हाथों कैच कराया. इसके बाद तो ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी लड़खड़ा गई और वापसी नहीं कर सकी.

आइये आपको बताते हैं कि इस मैच के बाद किसने क्या कहा:

इस मैच के हीरो एक बार फिर भारतीय टीम के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ विराट कोहली रहे. उनको एक बार मैन ऑफ़ द मैच के ख़िताब से नवाजा गया.

कोहली ने कहा, ”ऑस्ट्रेलिया के मैदानों पर बल्लेबाज़ी का मैंने खूब लुत्फ़ उठाया. साथ ही भारतीय दर्शकों का हमें बेहतरीन सपोर्ट मिला. एमसीजी मेरे लिया खास मैदान है. मैंने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई इसके लिए मैं बहुत ही खुश महसूस कर रहा हूं. इस मैच में रोहित और धवन ने भी अच्छी बल्लेबाज़ी की. ये टीम के लिए काफी अच्छा साबित हुआ.”

धोनी ने कहा,” इस मैच में काफी संख्या में दर्शक आये थे, जिनके सामने खेलना काफी अच्छा लगा. जडेजा ने वाटसन का शानदार कैच पकड़कर पूरे मैच को बदलकर रख दिया. इस मैच में स्पिनरों ने एक बार फिर खुद को साबित किया. साथ ही मुझे हार्दिक पांड्या की गेंदबाज़ी ने भी मुझे खूब प्रभावित किया. वह लगातार योर्कर डालता जो अच्छा संकेत है. वह मैच प्रति मैच निखर रहा है.”

धोनी ने आगे युवराज की बल्लेबाजी को लेकर कहा, कि-

“इस समय मै युवराज को बल्लेबाजी के लिए नहीं भेज सकता था, रोहित और धवन अच्छा कर रहे है, तो ओपनिंग में बदलाव सम्भव नहीं, साथ ही कोहली तीसरे स्थान पर बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे है, ऐसे में इस स्थान से बदलाव करना सही नहीं होगा, और अगर अंत में 3 से 4 ओवर बचते है, तो उसमे एक मैच फिनीशर को बल्लेबाजी करनी चाहिए, इसलिए मै खुद बल्लेबाजी के लिए आया, वैसे युवराज ने गेंद से शानदार प्रदर्शन किया है, मौका मिलने पर जरुर बल्लेबाजी करेंगे.”

वाटसन (फिंच हैमस्ट्रिंग की वजह से प्रेजेंटेशन में नहीं आये) ने कहा ,”हमने अच्छी शुरुआत की थी लेकिन हमने बीच के ओवरों में जल्दी विकेट गवांये जिसकी वजह से हम मैच में बाहर हो गये. फिंच बहुत अच्छी बल्लेबाज़ी कर रहा था. लेकिन मांसपेशियों में खिंचाव के कारण वह आउट हो गया. अगला मैच हमारे लिए खासा महत्वपूर्ण है. जिसमें हम टीम में बदलाव कर सकते हैं.”

  • SHARE

    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    भुवनेश्वर कुमार के नाम दर्ज है अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट का सबसे शर्मनाक रिकाॅर्ड

    भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार कल यानि 23 नवंबर को शादी के बंधन में बंधने जा रहे हैं। श्रीलंका के खिलाफ...

    बड़ी खबर: अनुष्का शर्मा से अफेयर के बीच दिसम्बर में इस माँ की पसंद...

    इन दिनों भारतीय टीम के खिलाड़ियों का शादी का सीजन चल रहा है. 23 नवंबर को ही भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार...

    यह भारतीय खिलाड़ी नहीं चाहता अब धोनी आगे किसी सीरीज में हो भारतीय टीम...

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और बल्लेबाज-विकेटकीपर महेन्द्र सिंह धोनी ने अपने खेल के दमदार प्रदर्शन के दम पर अर्न्तराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में...

    भारतीय क्रिकेटर्स करोड़पति परिवार के है दामाद, जाने क्या करते है इनके ससुराल वाले

    क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर की पत्नी अंजली तेंदुलकर आज अपना 49वाँ जन्मदिन माना रही हैं. वर्ष 1995 में सचिन-अंजली ने...

    ये हैं क्रिकेट की दुनिया के 10 सबसे बदनाम और चरित्रहीन खिलाड़ी, इनके कारनामे...

    क्रिकेट को जेंटलमैन गेम के नाम से जाना जाता है, जबकि भारत जैसे बड़े क्रिकेटिंग देश में क्रिकेट को भारत में धर्म की तरह...