न्यूज़ीलैण्ड दौरे के लिए साऊथ अफ़्रीकी टीम से जुड़े मार्क बाउचर - Sportzwiki
क्रिकेट

न्यूज़ीलैण्ड दौरे के लिए साऊथ अफ़्रीकी टीम से जुड़े मार्क बाउचर

  • साऊथ अफ्रीका के सबसे सफल विकेट कीपर बल्लेबाजों में से एक मार्क बाउचर, न्यूज़ीलैण्ड सीरीज से पहले बाउचर टीम के सपोर्ट स्टाफ का हिस्सा बनेंगें. अफ़्रीकी कोच रसेल डोमिंगो ने अपने सपोर्ट स्टाफ के लिए बाउचर को चुना.

    बाउचर बतौअर सलाहकार, युवा विकेटकीपर क्युंटन डी कॉक के साथ समय बिता कर उनकी बल्लेबाज़ी और विकेटकीपिंग में सुधार लाने के लिए मदद करेंगे और साथ ही निचले बल्लेबाजों की भी बल्लेबाज़ी सुधारने के लिए बाउचर को नियुक्त किया गया है.

    यह भी पढ़े: एक अन्तराष्ट्रीय क्रिकेटर समेत चार साऊथ अफ़्रीकन खिलाड़ियों पर मैच फिक्सिंग के चलते लगा बैन

    मीडिया से बात करते हुए अफ्रीका के कोच रसल ने कहा कि बाउचर का टीम से जुड़ना टीम के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है,

     

    “मार्क एक ऐसे व्यक्ति है जिनकी पूरी टीम बहुत इज्ज़त करती है. डी कॉक के लिए यह बहुत अच्छी बात है कि उन्हें बाउचर के साथ समय बिताने का मौका मिल रहा है. इससे वो अपनी विकेट कीपिंग और बल्लेबाज़ी दोनों पर ध्यान दे सकते है. “

     

    डोमिंगो ने आगे कहा, कि मार्क ज़्यादातर ऐसे समय पर बल्लेबाज़ी करने आते थे जब उन्हें निचले बल्लेबाजों के साथ खेलना पड़ता था. और उनमे वो फाइटिंग स्पिरिट दिखाई देती है जिसके लिए साऊथ अफ्रीका जाना जाता है. मार्क को निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ समय बिताना बेहद पसंद था वो चाहते थे कि निचले बल्लेबाज़ भी  जितना हो सके टीम के लिए उतना योगदान दे.

    यह भी पढ़े: अब भारत और पाकिस्तान के बीच नंबर एक की जंग

    मार्क बाउचर अफ़्रीकी टीम का एक अहम हिस्सा रहे, एक दशक से भी ज्यादा लम्बे अपने करियर में बाउचर ने अपनी विकेटकीपिंग के लिए खूब तारीफ बटौरी और बल्ले से भी जब भी टीम को उनकी ज़रूरत पड़ी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया. एक मैच के दौरान विकेट की बैल्स उनकी आँख पर लग गयी जिसके कारण उनका करियर खत्म हो गया. पुराने खिलाड़ियों को बतौर स्टाफ टीम में वापस लाने का सारा श्रेय  मौजूदा कोच रसल डोमिंगो को जाता है.

     

    “ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने देश के लिए बतौर खिलाड़ी बहुत अच्छा किया, अगर ऐसे खिलाड़ी टीम के लिए कुछ करना चाहते है , तो उनकी मदद न लेना सबसे बड़ी बेवकूफी होगी”

    यह भी पढ़े: लंदन टेस्ट : पाकिस्तान 10 विकेट से जीता, ड्रॉ कराई श्रृंखला

    रसल ने कहा कि

     

    “मैं मानता हूं कि ये वो टीम नहीं है जिसने टेस्ट मैचों में विश्व नंबर  1टीम का ख़िताब अपने नाम किया था लेकिन ये नए युवा खिलाड़ी बहुत प्रतिभाशाली है इन्हें बस सही रास्ता दिखने की ज़रूरत है और उसके बाद इन्हें खुद ही अपना नाम बनाना है जो कि इनसे ज्यादा लोग ऐसा करने की अपेक्षाएं नहीं रख रहे है.”

    यह भी पढ़े: क्रिकेट खिलाडि़यों की ये हैं टॉप 7 विवादास्पद ऑटोबायोग्राफीज

    देखे बाउचर की वो यादगार पारी जब उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दिलाई थी एक ऐतिहासिक जीत

     

    sw
    Top