पिछले साल इसी समय भारतीय क्रिकेट में एक नाम की गूंज सुनाई दे रही थी. ‘नाथू सिंह’ राजस्थान के इस युवा गेंदबाज़ ने अपनी गति और सटीक लाइन-लेंथ के लिए खूब सुर्खिया बटोरी.

नाथू ने अपने पहले रणजी ट्राफी मैच में दिल्ली के खिलाफ दूसरी पारी में 7 विकेट चटकाए, जिसके बाद उन्हें उसी साल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ प्रैक्टिस मैच के लिए बोर्ड्स प्रेसिडेंट एकादश के लिए चुन लिया गया. इसके बाद तो जैसे उनकी किस्मत पलट गयी.

यह भी पढ़े : पाकिस्तान के बाद अब इंग्लैंड ने उड़ाया भारत का मजाक, तो सामने आये वीरेंद्र सहवाग और कर दी बोलती बंद

आईपीएल में मुंबई इंडियंस ने नाथू को 3.2 करोड़ रुपय में अपनी टीम में शामिल किया. हालांकि इस 20 वर्षीय युवा गेंदबाज़ को कोई मैच खेलने का मौका नहीं मिला लेकिन ड्रेसिंग रूम में सचिन तेंदुलकर और रिकी पोंटिंग जैसे दिग्गज के साथ वक्त बिताना उनके लिए बेहद फायदेमंद साबित हुआ.

Photo Courtesy : Mumbai Indians
Photo Courtesy : MUMBAIINDIANS.COM

दुलीप ट्राफी (2016-17) में पहली बार गुलाबी गेंद का इस्तेमाल किया जा रहा है, और नाथू सिंह को युवराज की इंडिया रेड टीम में जगह दी गयी, गुलाबी गेंद से पहले ही मैच में नाथू ने शानदार शुरुआत करते हुए भारतीय टीम के जाने माने सलामी बल्लेबाज़ रोबिन उथप्पा को अपनी पहली ही गेंद पर आउट कर यह साबित कर दिया कि उनमे कुछ खास बात तो ज़रूर है.

NathuSinghयह भी पढ़े : भारतीय A के कप्तान पर लगा जुर्माना

पहली पारी में नाथू ने 6 विकेट हासिल किए जिनमे से दो बल्लेबाज़ भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके है. नाथू तेज़ गेंदबाज़ी तो करते ही है साथ ही उनका स्विंग पर भी नियंत्रण लाजवाब है.

भारतीय क्रिकेट में हाल फ़िलहाल में कई तेज़ गेंदबाज़ आये जिनके पास गति तो थी लेकिन उस गति का इस्तेमाल कैसे करे इस बात की समझ शायद इतनी नहीं थी जितनी इस युवा गेंदबाज़ को है. वरुण आरोन और उमेश यादव भी तेज़ गेंदबाज़ी करने में सक्षम है लेकिन नियंत्रण न होने की वजह से यह दोनों गेंदबाज़ टीम में अपनी जगह पक्की करने में नाकामयाब रहे.

यह भी पढ़े : अभिनव-सुदीप के बल्ले से निकला शतक, लेकिन एक बार फिर युवराज ने किया निराश

अब महज़ कुछ वक्त की ही बात है जब इस युवा तेज़ गेंदबाज़ को हम भारतीय टीम की ओर से खेलते देखेंगें. नाथू को MRF पेस फाउंडेशन में ग्लेन मैकग्राथ जैसे दिग्गज गेंदबाज़ ने परखा था और उनकी तारीफ की थी. नाथू का मौजूदा प्रदर्शन देख कर तो ऐसा ही लगता है, कि भारत की एक तेज़ गेंदबाज़ की खोज नाथू पर आ कर खत्म होती है.

बाउंसर हो या यार्कर दोनों गेंदों पर नाथू का बहुत अच्छा नियंत्रण है, हम अक्सर देखते है, कि भारतीय टीम शुरुआती विकेट तो चटका लेती है, लेकिन निचले क्रम के बल्लेबाज़ मैच बचाने या भारत की पकड़ से दूर ले जाने में कामयाब हो जाते है. निचले बल्लेबाजों को आउट करने के लिए टीम को नाथू जैसे गेंदबाज़ की ज़रूरत है, क्यूंकि निचले क्रम के बल्लेबाज़ बाउंसर और यार्कर गेंदों का ही ठीक से सामना नहीं कर पाते.

यह भी पढ़े : विडियो : युवराज के फैन्स है तो ज़रूर देखे ये विडियो

  • SHARE
    सभी खेलों में दिलचस्पी है लेकिन सबसे पसंदीदा खेल क्रिकेट, पसंदीदा खिलाड़ी विराट कोहली और नोवाक जोकोविच.

    Related Articles

    आज ही के दिन पाकिस्तान को हरा कर पहला टी-20 वर्ल्ड कप अपने नाम...

    भारतीय टीम के लिये 2007 साल की शुरुआत कुछ खास नही रही थी. भारत को 2007 में खेलें गए 50 ओवर के  वर्ल्ड कप...

    तीसरे वनडे में इन 11 खिलाड़ियों के साथ मैदान पर श्रृंखला जीतने के इरादे...

    चेन्नई और कोलकाता एकदिवसीय जीतने के बाद मेजबान भारतीय टीम के हौसले एकदम बुलंद दिखाई दे रहे हैं. भारतीय टीम का प्रदर्शन भी तक...
    विराट कोहली

    युवराज सिंह के 2 बहुत ही खास रिकॉर्ड को तीसरे वनडे में तोड़ देंगे...

    भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली जबरदस्त फॉर्म में चल रहे हैं. विराट कोहली ऐसे बल्लेबाज हैं, जो अपनी नाकामियों से लगातार सीखते हैं....

    इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी ने बताया ऑस्ट्रेलिया को उसकी गलती, बताया क्यों करना पड़...

    यदि किसी चीज में विविधताएं होती हैं तो वह जीवन में खाने में मसाले की तरह काम करती हैं. साथ ही वह कई दिक्कतों...

    डेनियल ब्रायन कर रहे है रिंग में वापसी खुद ट्विट कर दी जानकारी, इस...

    डब्लूडब्लूई में कब क्या हो जाये, ये कहना बहुत ही मुश्किल रहता है. आयेदिन हमें डब्लूडब्लूई में ऐसा कुछ देखने को मिल ही जाता है,...