वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच रद्द होने से नाराज धोनी ने अम्पायर कों लेकर दिया बड़ा बयान - Sportzwiki
इंटरव्यूज

वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच रद्द होने से नाराज धोनी ने अम्पायर कों लेकर दिया बड़ा बयान

  • हाल फ़िलहाल में यह पहली बार नहीं है जब कोई मैच बारिश की वजह से धुल गया हो. चाहे टेस्ट मैच हो या एकदिवसीय मैच कई मैच हाल ही में बारिश की भेंट चढ़ गए.

    टीम इंडिया जब वेस्टइंडीज़ के दौरे पर चार मैचों की टेस्ट श्रृंखला खेलने गयी तो चार में से दो मैच बारिश के कारण पुरे नहीं हो सके. और बारिश ने टीम इंडिया का पीछा अमेरिका में भी नहीं छोड़ा, पहला ट्वेंटी-ट्वेंटी मैच हारने के बाद, दुसरे मैच में भारत एक मज़बूत स्थिति में था तभी बारिश ने मैच में खलल डाल दी.

    यह भी पढ़े : आईसीसी से आई भारतीय टीम के लिए बुरी खबर, टी-20 रैंकिंग में नीचे खिसकी

    टीम इंडिया के पास एक सुनहरा मौका था कि वो पिछले मैच की हार का गम मिटा सके लेकिन अम्पायरों ने अपर्याप्त उपकरण ना होने के कारण मैच को रद्द करने का फैसला लिया जबकि बारिश रुकने के बाद सूरज खिला हुआ था.

    अम्पायरों के इस निर्णय पर भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की है. धोनी ने कहा कि वो इससे ख़राब परिस्थितियों में भी क्रिकेट खेल चुके है.

    यह भी पढ़े : पिंक बॉल से क्रिकेट खेलना होगा रोमांचक : गौतम गंभीर

    धोनी ने मैच के बाद बताया कि

    “अंपायर ने हमे बताया कि मैदान पर प्रयाप्त उपकरण मौजूद नहीं है, इसलिए  हम खेल को आगे नहीं बढ़ा सकते और मैच को रद्द कर दिया. मैच होगा या नहीं इस बात का निर्णय अंपायर को लेना होता है लेकिन मैंने लगभग 10 साल से ज्यादा का अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला है और इससे कई गुना ख़राब परिस्थितियों में भी हमने मैच पुरे खेले है”

    टीम इंडिया के कप्तान ने 2011 की इंग्लैंड सीरीज़ की बात की जिसमे सभी टेस्ट मैच हारने के बाद जब भारतीय टीम एकदिवसीय मैच खेलने आई तो सभी मैचों में बारिश ने बाधा डाली लेकिन सभी मैच खेले गए. इस श्रृंखला की बात करते हुए धोनी ने कहा कि

    “अगर मुझे याद है तो 2011 में, इंग्लैंड सीरीज़ के सभी मैचों में बारिश हो रही थी, वो तो ऐसा था जैसे हम लोग बारिश में ही क्रिकेट खेल रहे हों. मुझे लगता है परिस्थितियां ….(उसके बाद भारतीय कप्तान रुके), आख़िर में फैसला अंपायर के हाथ में होता है, अगर वो कहते है खेलो तो हम खेलते है अगर वो कहते है किखेल के लिए परिस्थितियां ठीक नहीं है तो ठीक नहीं होगी.

    यह भी पढ़े : दूसरा टी-20 : भारत के सामने 144 रनों का लक्ष्य , रद्द हुआ मैच

    बारिश के बाद मैं और ब्रावो एक जगह खड़े थे जहाँ से गेंदबाजों का रनअप बहुत दूर था. उनकी टीम में कोई शोएब अख्तर नहीं था जो इतना बड़ा रनअप लेकर गेंदबाज़ी करे, तो मुझे लगता है चिंता करने की इतनी कोई बात नहीं थी.

    sw

    Most Popular

    Top