हाल में ही भारत और वेस्टइंडीज़ के बीच पांच वनडे मैचों की श्रृंखला खेली गयी. जहाँ मेहमान भारतीय टीम ने विराट कोहली की शानदार अगुवाई में मेजबान वेस्टइंडीज़ की टीम को 3-1 के बड़े अंतर से हराकर एकदिवसीय श्रृंखला पर कब्ज़ा किया. भारतीय टीम की आईसीसी चैंपियंस के फाइनल में मिली करारी हार के बाद यह पहली जीत हैं.   युवराज सिंह और वीरेंद्र सहवाग ने दी धोनी को जन्मदिन की बधाई लेकिन बचपन के कोच चंचल भट्टाचार्य ने चौथे मैच में धीमी पारी को लेकर कह दी ये बड़ी बात

खूब हुई आलोचना 

(Photo by : Getty Images)

भारत और वेस्टइंडीज़ की टीम के बीच चौथा मुकाबला एंटीगा के सर विवयन रिचर्ड्स, स्टेडियम में खेला गया था. जहाँ मेजबान वेस्टइंडीज़ की टीम ने भारतीय टीम को काफी शर्मनाक तरीके से हराया था. इस मैच में बेहद ही धीमी पारी खेलने वाले टीम के पूर्व चैंपियंस कप्तान एमएस धोनी को खूब आलोचना का सामना क्र्ब्ना पड़ा. गौरतलब हैं, कि एंटीगा वनडे के दौरान महेंद्र सिंह धोनी के बल्ले से 114 गेंदों में मात्र 54 रन निकले थे और भारतीय टीम की हार का सबसे बड़ा कारण धोनी ही थे.

पूर्व कोच ने किया बचाव 

pc: getty images

एक तरफ जहाँ महेंद्र सिंह धोनी की लगातार आलोचना हो रही, वही धोनी के बचपन के कोच चंचल भट्टाचार्य ने उनका समर्थन करते हुए एक बड़ी बात कही हैं. आईएएनएस से हुई बातचीत के दौरान चंचल भट्टाचार्य ने कहा, कि

”धोनी की इस तरह से आलोचना करना बहुत गलत हैं. मुझे ऐसा लगता हैं, कि धोनी अभी भी 2019 का विश्व कप खेल सकते हैं. मौजूदा समय में भी धोनी की फिटनेस किसी युवा खिलाड़ी से कम नहीं हैं. क्रिकेट के मैदान पर हर दिन आप जीत नहीं सकते, कभी भी हार का भी सामना करना पड़ता हैं. इसका मतलब यह नहीं, कि हम सभी टीम की या किसी एक खिलाड़ी की आलोचना करनी शुरू कर दे. हाँ ! मैं मानता हूँ, कि धोनी उस दिन अच्छा नहीं कर सके. काफी बारे वो छक्का लगाने से भी चूके, लेकिन वो एक बेस्ट फिनिशेर हैं. हमें यह नहीं भुलाना चाहिए.”      ब्रेकिंग न्यूज़: स्काइप के जरिए भारतीय कोच पद के लिए इंटरव्यू देगा यह दिग्गज भारतीय, चयन होना नामुमकिन

जब तक वो खुद ना बोले उसे कुछ ना कहे 

चंचल भट्टाचार्य ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, कि ”धोनी को अब सन्यास लेना हैं और कब नहीं यह वह अच्छी तरीके से जनता हैं. उससे यह पूछना बंद कर देना चाहिए, कि वह कब सन्यास लेगा. धोनी की फिटनेस और उसका खेल अभी भी अव्वल दर्जे का हैं. धोनी ने जब टेस्ट क्रिकेट और सिमित ओवर से कप्तानी छोड़ने का फैसला किया था, तब मुझे कहा था, कि उसमें अब मज़ा नहीं रहा था. ठीक वैसे ही जब उसे लगेगा वह वनडे और टी ट्वेंटी से सन्यास लेंगा.”

  • SHARE
    क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट से बेहद प्यार हैं. हमेशा से ही क्रिकेट के बारे में लिखना बहुत पसंद हैं. सचिन तेंदुलकर मेरे पसंदीदा खिलाड़ी हैं.

    Related Articles

    मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने बताया उसका नाम जिसकी वजह से मिला श्रेयष अय्यर...

    भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ रविवार से शुरू हुई तीन मैचों की वनडे सीरीज के बाद ही कीवि टीम से तीन मैचों की ही...

    भारतीय टीम में शामिल हुआ है ऐसा खिलाड़ी जो लगातार उगल रहा था अपने...

    भारत और न्यू ज़ीलैण्ड के बीच तीन एकदिवसीय मैचों के बाद होने वाले तीन टी20 मैचों के लिए बीसीसीआई ने टीम की घोषणा कर...

    डेब्यू के 426 दिन बाद ही यह खिलाड़ी बना दुनिया का नम्बर 1 गेंदबाज,...

    पाकिस्तान क्रिकेट टीम की नई सनसनी युवा तेज गेंदबाज हसन अली इन दिनों विश्व क्रिकेट में छाए हुए हैं। पाकिस्तान क्रिकेट में इन दिनों...

    INTERESTING FACTS: एक ऑटो चालक का बेटा आखिर कैसा बना टीम इंडिया का हिस्सा,...

    आज सोमवार, 23 अक्टूबर का दिन पूरे हैदराबाद और खासकर सिराज परिवार के लिए एकदम खास और कभी ना भुलाए जाने वाला दिन बन...

    INDvNZ:पहले वनडे मैच के दौरान हुआ एक हैरान करने वाली घटना, जाधव ने किया...

    भारत और न्यूजीलैण्ड के बीच खेले गए तीन वनडे मैचों की सीरीज का पहला वनडे मैच मुम्बई के वानखेडे़ क्रिकेट स्टेडियम में खेला गया।...