कोच ना बनाये जाने से रवि शास्त्री बेहद मायूस हैं : गौतम गंभीर - Sportzwiki
इंटरव्यूज

कोच ना बनाये जाने से रवि शास्त्री बेहद मायूस हैं : गौतम गंभीर

  • नई दिल्ली, 30 जून:  भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर ने हाल में एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए रवि शास्त्री की आलोचना की और कहा जॉब ना मिल पाने से शास्त्री मायूस हैं.

    गंभीर ने एबीपी न्यूज़ ने कहा “रवि शास्त्री जिस तरह से  इंटरव्यू के दौरान से बर्ताव किया है उसमे बौखलाहट साफ़ देखी जा सकती हैं, मेरे अनुसार भारतीय कोच के लिए अनिल कुंबले से अच्छा विकल्प कोई नहीं हो सकता था”.

    गंभीर ने अनिल कुंबले को कोच बनाये जाने पर कहा “मुझे लगता हैं रवि शास्त्री यह स्वीकार नहीं कर पा रहे है कि उन्हें की कोच ही जॉब नहीं मिल पायी हैं. जिस तरह से बीसीसीआई ने कोच चुना, सब उम्मीदवारों में अनिल कुंबले कोच पद से सबसे श्रेष्ठ विलल्प थे, इसमें कोई हैरानी करने वाली बात नहीं है. जब अनिल कुबले ने कोच पद के लिए आवेदन किया, तब वह सबसे बड़े पेशेवर नाम थे”.

    आगे गंभीर ने कहा “रवि शास्त्री यह दावा करते है कि उनके अंतर्गत भारतीय टीम बेहद सफल रही है, लेकिन शास्त्री यह क्यूँ  नहीं बताते कि भारत ने बांग्लादेश के विरुद्ध एकदिवसीय सीरीज हारी, दक्षिण-अफ्रीका के विरुद्ध एकदिवसीय घरेलु सीरीज में हार मिली. अगर तुम यह देखे कि भारत ने इस दौरान 2 विश्वकप खेले जिसमे से एक विश्वकप घरेलू परिस्तिथि में था फिर भी भारत सेमी-फाइनल तक का सफ़र ही तय किया, यह कोई बड़ी उपलब्धि नहीं है”.

    गंभीर ने कहा शास्त्री ने कहा कि भारत टेस्ट में नंबर 1 बनी, टी 20 में नंबर 1 बनी. उन्होंने टीम इंडिया को पिछले 18 महीने में कितनी जीत दिलाई?. तुम्हे उपमहाद्वीप के बाहर एक भी सीरीज नहीं जीती, तुम दक्षिण-अफ्रीका से घरेलु सीरीज हारे, बांग्लादेश से एकदिवसीय सीरीज हारकर आये”.

    “अनिल कुंबले कोच पद के सबसे अच्छे विकल्प है क्यूंकि वह खुद एक मेहनती क्रिकेटर रहे है, वह टीम में मनोदृष्टि वापस लेकर आयेगे”.

    कोच पद के लिए नज़रंदाज़ किये जाने के बाद, रवि शास्त्री इस बात से नाराज़ थे कि उनके इंटरव्यू के दौरान क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य सौरव गांगुली मौजूद नहीं थे. गांगुली ने अपने ही अंदाज़ में शास्त्री को जवाब देते हुए कहा कि शास्त्री की इंटरव्यू के दौरान छुट्टी मनाने के लिए बैंकाक नहीं जाना चाहिए था.
     

    sw
    Top