क्रिकेट में काफी बार खिलाड़ियों पर ऐसे आरोप लगे है, जिसकी वजह से उन्हें काफी बार यह सुनना पड़ा है, कि वो खुद के लिए खेलते है, उन्हें देश से कोई मतलब नहीं है, वो सिर्फ अपना रिकॉर्ड बनाने के लिए खेलते है. ऐसे ही सचिन के उपर भी कई बार लोगो ने आरोप लगाये है, कि वो खुद के लिए खेलते है, और इसीलिए जैसे ही उनके 80 से अधिक रन बन जाते है, वो धीरे धीरे खेलना शुरू कर देते है.

यहाँ हम कुछ ऐसे ही खिलाड़ियों के बारे में चर्चा कर रहे है, जो अपने लिए कुछ मैच खेले:

5. डेविड वॉर्नर के 140 गेंदों में 100 रन 2012 के सीबी सीरीज फाइनल में

क्या आपने सोचा है, की डेविड वॉर्नर शतक लगाए और वो भी 100 से कम की स्ट्राईक रेट से. ये हुआ और वो भी फाइनल में. 2012 की सीबी सीरीज के दुसरे फाइनल में. इसके पहले मैच में उन्होंने 163 रन बनाए थे और सिर्फ चौके और छक्के लगाने में विश्वास रखते है. अॉस्ट्रेलिया ने उम्मीद से परे 6 विकेट खोकर 271 रन बनाए. लेकिन दिलशान का शतक, और संगाकारा और महेला के अर्धशतकों के बदौलत श्रीलंका ने ये मैच 8 विकेट से जीता, और अॉस्ट्रेलिया के हार का कारण वॉर्नर की धीमी पारी रही.

4. सचिन तेंदुलकर का 100वा अंतरराष्ट्रीय शतक

सभी लोग इस क्षण की प्रतिक्षा कर रहे थे, और ये शतक जब बना तब उस मैच में भारत को बांग्लादेश से हार मिली. ये शतक 2012 के एशिया कप में सचिन ने लगाया था, लेकिन 147 गेंदों में सिर्फ 114 रन उन्होंने बनाए थे. और भारत का स्कोर 289 रन हुआ. लेकिन बांग्लादेश ने ये मैच 5 विकेट से जीता. सचिन के उपर काफी दबाव था, और उन्होंने इस मैच में शतक लगाया. ओर जो जो लोग ये बोलते थे की जब सचिन शतक लगाते है तब भारत हारता है, उनको और मौका मिला उनके खिलाफ बोलने का.

3. माईकल वेन्डोर्ट की 117 गेंदों में 48 रन की पारी

माईकल श्रीलंका के लिए सिर्फ एक ही वनडे खेले, और उसके बाद उन्हें कभी मौका नहीं मिला. अॉस्ट्रेलिया ने 318 रन बनाए और श्रीलंका को बडा लक्ष्य दिया. लेकिन माईकल ने 117 गेंदों में 48 रन बनाए, और 35 ओवर तक खेले. और वे इतना धीमा खेले की श्रीलंका 116 रन से हारा.

2. जैक कैलिस के विश्वकप 2007 में अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ 63 गेंदों में 48 रन

2007 के विश्वकप में सिर्फ अफ्रिका ही थी जो अॉस्ट्रेलिया को टक्कर देती थी. लेकिन एक मैच में कैलिस ही अफ्रिका की हार का कारण बने. अॉस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 377 रन बनाए. अफ्रिका ने भी एक समय में 20 ओवर में 160 रन बना डाले थे. फिर कैलिस की वजह से अफ्रिका इस लक्ष्य का पिछा नहीं कर पाए, और कैलिस ने सिर्फ 48 बनाए वो भी 63 गेंदों में.

1. गवास्कर की 174 गेंदों में 36 रन

क्रिकेट के पहले विश्वकप में गवास्कर  ने ऐसी पारी खेली थी, जो कोई नहीं देखना चाहता. इंग्लैंड ने 60 ओवर में 334 रन बनाए. उस लक्ष्य का पिछा करते हुए गावस्कर ने 174 गेंदों में 36 रन बनाए. और भारत को हार मिली. इस पारी को गावस्कर ने भी अपने करियर की सबसे खराब पारी बताई थी.

  • SHARE

    I am sagar an ardent fan of cricket. I want to become a cricket writer, i always suport virat kohli and ms dhoni in every international match, but not in ipl in ipl i always chear for mumbai indian and rohit sharma.

    Related Articles

    CA XIvENG: एशेज से पहले अभ्यास मैच के दौरान ग्राउंड मैन बना सुपरमैन, हवा...

    इंग्लैंड और आॅस्ट्रेलिया प्लेइंग इलेवन के बीच खेला गया चार दिवसीय अभ्यास मैच में उस वक्त एक रोचक वाक्या घटा, जब खेल के चौथे...

    पत्रकार राजदीप के प्रणव मुखर्जी से मिली फटकार पर सौरव गांगुली ने उड़ाया जमकर...

    भारत और श्रीलंका के बीच तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला अर्न्तराष्ट्रीय टेस्ट मैच कोलकाता के ईडन गार्डन में खेला जा रहा है।...

    STATS: तीसरे दिन का खेल खत्म होते ही चेतेश्वर पुजारा ने नाम जुड़ गया...

    कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन के मैदान पर आज भारत और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला के पहले...

    शीतकालीन ओलम्पिक खेलों में रूस की भागीदारी की पुष्टि 5 दिसंबर को

    मॉस्को, 18 नवंबर' अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) ने कहा है कि उसका कार्यकारी बोर्ड अगले साल होने वाले शीतकालीन ओलम्पिक खेलों में रूस की भागीदारी...

    इन 5 बल्लेबाजो के नाम है टी-20 में सबसे अधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड,...

    विश्व क्रिकेट में जब से टी-20 क्रिकेट अस्तित्व में आया है तब से बल्लेबाजों की बल्ले-बल्ले हो गई है। बल्लेबाजों का खेलना का नजरिया...