ये है वो 7 ऐसे मौके जब कोहली ने किया कुछ ऐसा जो बनाता है उन्हें महान - Sportzwiki
क्रिकेट

ये है वो 7 ऐसे मौके जब कोहली ने किया कुछ ऐसा जो बनाता है उन्हें महान

  • विराट कोहली के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सात साल पुरे हो गये. इन सात सालों में कोहली के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 10,225 रन और 33 शतक है. ज्यादातर रिकॉर्ड वनडे के है, और टेस्ट में पिछले साल से उन्होंने अच्छा करना शुरू किया. इन सात सालों में कोहली को काफी लोकप्रियता मिली है. कोहली हर बार काफी जोश के साथ खेलते है, और अकेले के दम पर टीम को जिताते है.

    ये है कोहली के सात सालों के सात शानदार क्षण:

    7. होबार्ट में कोहली का धमाका:

    2012 के उस ट्राई सीरीज में खराब प्रदर्शन के बाद, भारत लगभग सीरीज से बाहर ही होने की कगार पर था. भारत को आखिरी मैच में बोनस अंक लेकर जीतना था, जिससे भारत पर काफी दबाव था. लेकिन श्रीलंका ने 320 रन बनाकर भारत की उम्मीद लगभग खत्म कर दी थी. भारत ने काफी आक्रमक क्रिकेट खेला, लेकिन बीच बीच में भारत विकेट गवातें जा रहा था . इस मैच में भारत को 40 ओवर में 320 रन बनाने थे. लेकिन विराट कोहली ने धमाकेदार पारी खेली और भारत ने ये मैच 36 ओवर में ही जीत लिया. और उस पारी के बाद कोहली को विश्व का बेहतरीन वनडे बल्लेबाज जानने लगा.

    6. कोहली के शानदार 72 रन के बदौलत भारत एक बार फिर टी ट्वेंटी विश्वकप के फाइनल में पहुंचा:

    ये उस विश्वकप का सेमीफाइनल भारत और अफ्रिका के बीच था. भारत को 172 रन का लक्ष्य मिला था. और विराट कोहली के 72 रन की बदौलत भारत को जीत मिली. कोहली ने शानदार पारी खेली और भारत को फाइनल में पहुंचाया.

    5. कोहली का पहला टेस्ट शतक:

    वनडे में कोहली को काफी कामयाबी मिल रहीं थी, लेकिन टेस्ट में वे लगातार फेल हो रहे थे. सभी लोग उनको टीम से निकालने की बात कर रहे थे. लेकिन अॉस्ट्रेलिया दौरे पर उनको एडिलेड टेस्ट में एक आखिरी मौका मिला. भारत वो सीरीज हार गया, लेकिन कोहली अकेले भारतीय बल्लेबाज थे जिन्होंने उस सीरीज में शतक लगाया. कोहली ने उस टेस्ट मैच में शतक लगाया, और उसके बाद उन्होंने पिछे मुडकर नहीं देखा.

    4. 2014 एडिलेड टेस्ट की दोनों पारियों में शतक:

    ये कोहली का बतौर कप्तान पहला टेस्ट था, और उसे कोहली कभी नहीं भूल सकते. कोहली ने पहली पारी में शानदार 115 रन बनाए. फिर अॉस्ट्रेलिया ने भारत को 363 रनों का लक्ष्य दिया. आखिरी दिन ये लक्ष्य मुश्किल था, लेकिन कोहली ने दूसरी पारी में भी शतक लगाया. उस पारी में कोहली ने 141 रन बनाए, लेकिन वे भारत को जीत नहीं दिला सके.

    3. जब कोहली के आखों से आसूं आए:

    टी ट्वेंटी विश्वकप के अफ्रिका के खिलाफ मैच को भारत एक रन से जीता था, लेकिन उस जीत के बाद भी भारत सेमीफाइनल में नहीं पहुंच सका था. उसके बाद कोहली मैदान पर ही रोने लगे थे, तब साथी खिलाडियों ने उन्हें शांत किया था.

    2. सचिन के लिए कोहली के ये शब्द:

    2011 का विश्वकप जीतने के बाद सभी भारतीय जश्न मना रहे थे, और सबसे खुश सचिन थे. तब नासिर हुसैन द्वारा पूछे गये सवाल का कोहली ने शानदार जवाब दिया था. उन्होंने कहा था, सचिन ने 21 सालों तक भारतीय टीम को अपने कंधें पर उठाया, अब हमारी बारी है. और उन्होंने सचिन को अपने कंधों पर उठाया था.

    1. कोहली ने किया था ऐसा, जो दुसरा कोई नहीं कर सकता:

    2006 रणजी मैच में दिल्ली के लिए कोहली ने शानदार 90 रन की पारी खेली थी. उस पारी के दौरान एक दुखद घटना घटी थी, जब कोहली के पिताजी का निधन हुआ था. लेकिन कोहली खेलने के लिए आए, और ये देखकर उनके साथी खिलाडियों ने कहा, आपकी जरूरत घर पर ज्यादा है. लेकिन कोहली बल्लेबाजी करना चाहते थे.

    कोहली काफी दुखी थे, लेकिन उनकी एकाग्रता शानदार थी. कोहली के इसी जज्बे की वजह से आज वे महान खिलाडी बन चुके है.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Most Popular

    Top