सर डॉन ब्रेडमैन के बारे में 7 आश्चर्यजनक बाते - Sportzwiki
क्रिकेट

सर डॉन ब्रेडमैन के बारे में 7 आश्चर्यजनक बाते

  • क्रिकेट में हमने कई महान खिलाडी देखे, लेकिन सर डॉन ब्रैडमन जैसा क्रिकेटर नहीं देखा. वो क्रिकेट को उस जमाने में एक नयी ऊचांई पर लेकर गये, और उनका क्रिकेट में योगदान कोई भूल नहीं सकता, जैसे आज उनका जन्मदिन है, ये कोई नहीं भुला.

    ये है सात रोचक तथ्य डॉन ब्रैडमन के बारें में:

    पहला शतक:

    उन्होंने अपना पहला शतक 12 साल की उम्र में लगाया था. बोवराल हाई स्कूल की तरफ से खेलते हुए, दुसरे मैच में उन्होंने 115 रन बनाए थे, जबकी उनकी टीम का स्कोर सिर्फ 156 हुआ था. तो अपने पहले मैच में उन्होंने 8 विकेट लिए थे, और 55 रन बनाए थे.

    अपनी पत्नी से पहली बार मिले तब:

    12 साल की उम्र में ही, सर डॉन ब्रैडमन अपनी पत्नी जैसी मैनजीस से मिले थे. जब जैसी ब्रैडमन के घर आयी थी, और ब्रैडमन के साथ उनके स्कुल भी गयी थी.

    पढाई:

    पढाई में ब्रैडमन काफी होशियार थे. ब्रैडमन को पढाई में सबसे ज्यादा प्यार गणित विषय से था, और ब्रैडमन उसमे काफी होशियार थे.

    शौक:

    क्रिकेट, गणित, और संगीत से ब्रैडमन को सबसे ज्यादा प्यार था. ब्रैडमन खुद पियानो बजाते थे. सात साल की उम्र में ही ब्रैडमन ने गाना गाया था. 1930 में उन्होंने एवरी डे इज रेन्बों डे फॉर मी ये गाना रिकॉर्ड किया था. संगीत के अलावा, ब्रैडमन टेनिस, गोल्फ, स्कावश, रग्बी, और एथलेटिक भी खेलते थे.

    ऐसी उपलब्धिया जिसके बारे में ज्यादा किसीको पता नहीं:

    ब्रैडमन के नाम ऐसे रिकॉर्ड है, जिसे तोडना असंभव है. लेकिन ब्रैडमन को सिर्फ एक ही बार टीम से निकाल दिया गया था, और वो भी उनके पहली सीरीज में. ब्रैडमन एक बार भी नर्वज 90 में आउट नहीं हुए है.

    उनके प्रती प्यार:

    अॉस्ट्रेलिया के एबीसी में ब्रैडमन के टेस्ट औसत पर अपना एंड्रेस लिखा है, पिओ बॉक्स 9994 रखा है. उनके नाम अॉस्ट्रेलिया में कई जगहों पर उनको ऐसा ही सन्मान मिला है. लेकिन सबसे ज्यादा उनका सन्मान रणजी ट्रॉफी मैच में हुआ था. महाराष्ट्र के बल्लेबाज भाऊसाहेब निंबालकर 443 रन पर खेल रहे थे, और ब्रैडमन के सर्वाधिक स्कोर के रिकॉर्ड तोडने से काफी करिब थे, लेकिन ये रिकॉर्ड ना तुटे इसलिए पारी घोषित की थी.

    शानदार अंत:

    ब्रैडमन को शानदार विदाई दी गयी थी, प्राईम मिनिस्टर टीम की तरफ से एमसीसी की खिलाफ खेला था, और उसमे उन्होंने 4 रन बनाए थे. 25 फरवरी 2001 को ब्रैडमन का निधन हुआ. ब्रैडमन ऐसे खिलाडी थे, जिनको क्रिकेट कभी नहीं भुल सकता.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    क्रिकेट

    क्रिकेट इतिहास में सबसे अधिक दोहरा शतक लगाने वाले बल्लेबाज

  • टेस्ट क्रिकेट ऐसा क्रिकेट है, जहां बल्लेबाज का असली टेस्ट होता है. टेस्ट में हर बल्लेबाज बडा स्कोर बनाने का प्रयास करता है. टेस्ट में दोहरा शतक लगाना काफी बडी बात होती है, और खासकर लगातार दोहरा शतक बनाना.

    अब हम बता रहे है टॉप पांच बल्लेबाज जिनके नाम टेस्ट में सबसे ज्यादा दोहरे शतक है:

    1. डॉन ब्रैडमन:

    ब्रैडमन विश्व क्रिकेट के सबसे बडे बल्लेबाज रहे है. 1948 में वे क्रिकेट से रिटायर हुए. वे नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते थे, और बल्लेबाजी को काफी आसान बना दिया था. उन्होंने 52 टेस्ट मैच खेले, जिसमे 99.94 की औसत से 6,996 रन बनाए. उन्होंने 29 शतक और 13 अर्धशतक लगाए. उन्होंने 12 दोहरे शतक लगाए है. उनका बेस्ट स्कोर 334 रहा है. उन्होंने 8 दोहरे शतक इंग्लैंड के खिलाफ लगाए, 2 दोहरे शतक दक्षिण अफ्रिका के खिलाफ, 1 वेस्टइंडीज और 1 भारत के खिलाफ लगाए. कुल 12 दोहरे शतक उन्होंने लगाए.

    2. कुमार संगाकारा:

    संगाकारा श्रीलंका के महान खिलाडी रहे. अभी अभी भारत के खिलाफ उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कहा. संगाकारा भी नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने आते थे. 134 टेस्ट में, 57.40 की औसत से उन्होंने 12,400 रन बनाए. उन्होंने 38 शतक, 52 अर्धशतक, और 11 दोहरे शतक लगाए. उनका बेस्ट स्कोर 319 रहा है. संगाकारा ने 3 दोहरे शतक पाकिस्तान के खिलाफ, 1 न्यूजीलैंड के खिलाफ, 1 जिंबाब्वे के खिलाफ, 2 दक्षिण अफ्रिका के खिलाफ, 3 बांग्लादेश के खिलाफ, तो 1 भारत के खिलाफ लगाए है.

    3. ब्रायन लारा:

    लारा वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज थे. 2006 में पाकिस्तान के खिलाफ लारा रिटायर हुए. 131 टेस्ट में 52.88 की औसत से लारा ने 11,953 रन बनाए. उन्होंने 34 शतक, 48 अर्धशतक, और 9 दोहरे शतक लगाए. उनका बेस्ट स्कोर टेस्ट क्रिकेट का भी बेस्ट स्कोर रहा है. वो 400 है. उन्होंने 2 दोहरे शतक अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ, 2 इंग्लैंड, 1 दक्षिण अफ्रिका, और 2 श्रीलंका के खिलाफ लगाए है.

    4. वॉली हमोंड:

    हमोंड इंग्लैंड के महान खिलाडी रहे है. 1947 में रिटायर हुए. उन्होंने 85 टेस्ट में, 58.45 की औसत से, 7,249 रन बनाए है. उन्होंने 22 शतक, 24 अर्धशतक, और 7 दोहरे शतक लगाए है. उनका बेस्ट स्कोर 336 का रहा है. 4 दोहरे शतक उन्होंने अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाए, 2 न्यूजीलैंड, और 1 भारत के खिलाफ लगाए है.

    5. महेला जयवर्धने:

    जयवर्धने श्रीलंका के शानदार बल्लेबाज रहे है. 2014 में वे रिटायर हुए. उन्होंने 149 टेस्ट में, 49,84 की औसत से, 11,814 रन बनाए है. उन्होंने 34 शतक, और 50 अर्धशतक लगाए है. उन्होंने 7 दोहरे शतक भी लगाए है. महेला ने, 2 दोहरे शतक दक्षिण अफ्रिका के खिलाफ, 2 भारत, 2 पाकिस्तान, और 1 बांग्लादेश के खिलाफ लगाए है.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Top