2009 में सोफिया गार्डन में खेले गये पहले एशेज टेस्ट मैच का ड्रामेटिक अंत - Sportzwiki
क्रिकेट

2009 में सोफिया गार्डन में खेले गये पहले एशेज टेस्ट मैच का ड्रामेटिक अंत

  • “एशेज” का पहला टेस्ट 8 जुलाई, बुधवार को “सोफिया गार्डन” में होगा जो कि “ग्लेमोर्गन काउंटी क्रिकेट क्लब” का मैदान है. वेल्स स्टेडियम को 2009 एशेज टेस्ट से पहले, टेस्ट मैच की मेजबानी करने का अधिकार नहीं दिया गया था.

    मार्च 2006 में ग्लेमोर्गन में एक नया पवेलियन , मीडिया सेंटर, मचान सहित आधुनिक सुविधाओं के साथ एक 15,000 क्षमता वाले स्टेडियम के निर्माण के लिए योजनाओं की घोषणा की थी. इस काम को 2008 तक समाप्त किया जाना तय किया गया और ये ग्लेमोर्गन के लिए एक अभियान था. और इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने 2009 में इस मैदान को पहले एशेज टेस्ट का मंचन करने का तोहफा  दिया.

    और अब एक बार फिर दूसरी बार “सोफिया गार्डन्स” का उद्घाटन 2015 एशेज टेस्ट की मेजबानी करेगा. आइये एक बाद नज़र डालते हैं पहले एशेज टेस्ट की ओर जो कि एशेज के इतिहास में रोमांचक मैचों में से एक था.

    इंग्लैंड सोफिया गार्डन्स में 2009 के पहले एशेज टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार से बच गया था. क्योंकि टेस्ट ड्रा रहा. इंग्लैंड के कप्तान पॉल कोलिंगवुड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का विकल्प चुना. केविन पीटरसन (69) , कप्तान पॉल कोलिंगवुड (64 ) और मैट प्रायर (56) से बहुमूल्य योगदान के साथ वे बोर्ड पर 435 का लक्षय तय कर पाये.

    लेकिन जवाब में ऑस्ट्रलीया  ने बढ़िया प्रदर्शन किया. उन्होंने 6 विकेट के नुकसान पर विशाल 674 स्कोर की घोषणा की. चार ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों – साइमन कैटिच (122) , रिकी पोंटिंग ( 150) , ब्रैड हाडिन ( 121) और नाबाद 125 रन बनाने वाले मार्कस नार्थ ने बढ़िया शतक जड़े. एक तरह से ऑस्ट्रेलिया ने 239 रन के साथ मैच पर नियंत्रण कर लिया था.

    इस तरह की स्थिति से मैच के ड्रा की उम्मीद लग रही थी लेकिन ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों इंग्लैंड पर जबरदस्त हमला किया विशेष रूप से बेन हिल्फेनहास अंग्रेजी बल्लेबाजों पर भारी पड़े और तीन विकेट लिए जबकि जॉनसन का शिकार बने एलिस्टेयर कुक और एंड्रयू फ्लिंटॉफ. ऑस्ट्रेलिया को जीत की उम्मीद थी .जब 11.3 ओवर बचे थे तब इंग्लैंड की आखिरी उम्मीद पीटर सिडल भी धराशायी हो गये थे. सिड्ल द्वारा कोलिंगवुड की विकेट उड़ने से पहले हिल्फेनहास ने ग्रीम स्वान को आउट कर कोलिंगवुड और स्वान के बीच 62 रन की साझेदारी को तोड़ा.

    इंग्लैंड अभी भी छह रन से पीछे चल रहा था जब मोंटी पनेसर और जेम्स एंडरसन खेल रहे थे. लेकिन जेम्स एंडरसन 69 गेंदों पर 21 रन और मोंटी पनेसर 37गेंद में 7 रन बनाकर अपने जीवन की सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी पारी खेली. और तब तक टेस्ट का निर्धारित समय ख़त्म हो चुका था और यह टेस्ट ड्रा  हो गया.

    sw
    Click to comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Top