क्रिकेट डेस्क। फटाफट क्रिकेट के आगाज से मंच सज चुका है। कुछ टीमें अपने-आप को इसके अनुरूप ढालने में जुटी है, जबकि कुछ पहले ही इस प्रारूप से दोस्ती कर चुकी हैं।

भारतीय टीम इस समय शानदार फॉर्म में है, लेकिन अंतिम समय में उसके सामने बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है। भारतीय टीम इस टूर्नामेंट के लिए अतिरिक्त तैयार दिख रही है और अब उसके पास प्रतिभाओं तथा विकल्पों की भरमार हो चुकी है।

भुवनेश्वर कुमार को एशिया कप में एक मौका मिला और उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित की। धोनी के सामने परेशानी यह आ गई है, कि मोहम्मद शमी ने चोट के बाद शानदार वापसी की है। अब धोनी पर यह निर्भर करेगा, कि वह टी-20 विश्व कप के प्रमुख मैचों में शमी को मौका देंगे या नहीं। 2015 आईसीसी विश्व कप में शमी भारतीय टीम की गेंदबाजी आक्रमण के प्रमुख हथियार थे, ऐसे में उन्हें बाहर बैठाने से पहले चयनकर्ताओं और कप्तान को बहुत सोचना पड़ेगा।

मोहम्मद शमी 2015 विश्व कप से ही चोट के कारण टीम से बाहर है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर वापसी की, लेकिन अभ्यास सत्र में हेमस्ट्रिंग की चोट के कारण फिर बाहर हो गए। इसके बाद वह एशिया कप से भी नदारद रहे। भुवनेश्वर को शमी का विकल्प बनाकर टीम के साथ जोड़ा गया। यूएई के खिलाफ एशिया कप में भुवी को मौका मिला, और उन्होंने दोनों तरफ गेंद स्विंग कराके अपनी उपयोगिता साबित कर दी।

यह समझा जा सकता है, कि करीब एक साल से अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रहने वाले गेंदबाज को प्रमुख टूर्नामेंट में एकदम मौका नहीं दिया जा सकता, लेकिन धोनी का कहना है, कि शमी टीम के लिए उपयुक्त खिलाड़ी है। धोनी ने कहा था- देखना होगा कि शमी फिट है या नहीं। उन्हें टीम में लेने का एकमात्र कारण यह है, कि वह नई और पुरानी दोनों गेंदों से यॉर्कर डाल सकते हैं।

इस बीच शमी अपनी चोट का इलाज कराने में जुटे, तभी भारत को जसप्रीत बुमराह के रूप में लगातार यॉर्कर फेंकने वाला तेज गेंदबाज मिल गया। आशीष नेहरा ने 36 वर्ष की उम्र में वापसी करते हुए सभी को प्रभावित किया। आशीष और जसप्रीत की जोड़ी भी कमाल का प्रदर्शन कर रही है, और वर्तमान में वह भारतीय गेंदबाजी की जान बन चुके हैं। अब यह टीम प्रबंधन और धोनी पर निर्भर करेगा, कि अंतिम एकादश में किसे जगह मिलेगी।

बुमराह ने अपनी उपयोगिता साबित की है, जबकि नेहरा ने लगातार आठ मैचों में पॉवरप्ले में विकेट निकालकर दिए। अब यह देखने लायक होगा कि कप्तान धोनी टी-20 विश्व कप के पहले मैच में किस गेंदबाजी आक्रमण के साथ मैदान संभालेंगे।

धोनी पहले ही कह चुके हैं, कि बुमराह को बाहर करना बहुत मुश्किल है। उसके पास लगातार यॉर्कर फेंकने की काबिलियत है। वह नई गेंद से भी उल्लेखनीय योगदान देता है।

उन्होंने साथ की कहा था, कि नेहरा भी योगदान दे रहे हैं। टी-20 में कुछ मैचों में उतार-चढ़ाव आता है। हार्दिक पांड्या तेज गेंदबाज ऑलराउंडर है। अगर जडेजा और वो आठवें क्रम पर बल्लेबाजी करते हैं, तो मुझे तीन चार ओवर बल्लेबाजी करने का मौका मिल जाएगा। यह काफी संतुलित टीम लग रही है।

शमी को आशीष की जगह शामिल किया जा सकता है। आशीष ही टीम में एकमात्र खिलाड़ी है, जिसका विकल्प खोजा जा सकता है। मगर नेहरा को बाहर करना काफी मुश्किल है। इसका कारण यह है, कि उसने कठिन समय में हमारे लिए शानदार प्रदर्शन किया है। वह गेंद को दोनों तरफ स्विंग कराता है।

मगर शमी को अभ्यास मैचों में अपनी फिटनेस साबित करना होगी। अगर वह कर पाते हैं तो टीम के साथ आगे जाएंगे।

अगर धोनी ने तेज गेंदबाजी विभाग में सिर्फ उन गेंदबाजों को तवज्जो दी जो यॉर्कर डाल सकते हैं, तो निश्चित ही नेहरा को अच्छा प्रदर्शन के बावजूद शमी के लिए जगह बनाना होगी। या फिर कुछ नया आश्चर्यजनक देखने को मिलेगा।

  • SHARE
    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    VIDEO: क्या आपने रॉक की नई हॉलीवुड मूवी का ट्रेलर देखा ? ट्रेलर में...

    WWE में कई ऐसे लिजेंड हुए हैं जिन्हें फैन्स आजतक नहीं भूले, फिर चाहे वो स्टोन कोल्ड हो या कोई और पर इन सब...

    बुरी खबर; इस चोट की वजह से खत्म हो सकता है यूनिवर्सल बॉस का...

    वेस्ट इंडीज और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहें दूसरे मैच में दिग्गज बल्लेबाज़ क्रिस गेल मैच से बाहर हो गए थे. इंग्लैंड के...

    चेन्नई वनडे मैच में भी धोनी नहीं छुपा सके अपना चेन्नई प्रेम और मैच...

    भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का चेन्नई प्रेम किसी से छिपा नहीं है। महेन्द्र सिंह धोनी इंडियन प्रीमियर लीग में...

    ऑस्ट्रेलियाई टीम ने हार के बाद भी भारत के खिलाफ भारतीय सरजमीं पर हासिल...

    कोलकाता के ऐतिहासिक मैदान ईडन गार्डन में गुरूवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए दूसरे वनडे मैच में भारतीय टीम ने 50 रनों से...

    1983 विश्वकप विजेता कप्तान कपिलदेव की बायोपिक का एक्टर हुआ फाइनल यह स्टार अभिनेता...

    बॉलीवुड में आज कल बायोपिक का क्रेज लगतार बढ़ता जा रहा हैं. हाल में सालों में मिल्खा सिंह, मैरीकॉम,अज़हर , धोनी और सचिन के...