यहाँ हम बात कर रहे हैं दुनिया भर से उन कप्तानों की जिन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान टीम के लिए बढ़िया योगदान दिया लेकिन पिछले एक दशक में कोई विश्व कप जीतने में सफल नहीं रहे.

# 5 नासिर हुसैन
अंग्रेजी टीम के एक मजबूत बल्लेबाज व् कप्तान नासिर हुसैन ने वर्ष1999 में एलेक स्टीवर्ट से कप्तानी की बागडोर संभाली थी. नासिर ने अपने तेज़ स्वभाव के साथ अपने पक्ष का नेतृत्व किया. एक निडर और जिद्दी लीडर के रूप में हुसैन ने विश्व क्रिकेट में एक शक्तिशाली ताकत के रूप में अंग्रेजी टीम को आगे बढ़ाया.

# 4 मार्क टेलर
एक शान्त व्यक्तित्व के कप्तान रहे मार्क टेलर ने अपनी अपरंपरागत रणनीति के साथ विरोधियों पर विजय पाई है. मार्क एक विपुल स्लिप फील्डर और एक चतुर कप्तान रहे हैं जोकि टेस्ट क्रिकेट में ऑस्ट्रेलियाई टीम की वृद्धि के लिए जिम्मेदार हैं. इन्होने युवा खिलाडियों के साथ टीम को सींचा जोकि आज खेल के दिग्गज बन चुके हैं. उनके शासनकाल के तहत कंगारू टीम ने 1995-1999 तक भारत को छोड़कर सभी घर और दूर टेस्ट श्रृंखला जीती है.

 

# 3 सौरव गांगुली
मैच फिक्सिंग के आरोपों से खेल की प्रतिष्ठा धूमिल हो जाने के बाद, अपने बल पर भारतीय क्रिकेट को पुनर्जीवित करने वाले एक निरंकुश भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट को एक नई दिशा दी थी. दादा ने विदेश में जीतने के लिए टीम को बखूबी तैयार किया. इनकी कप्तानी में टीम ने कई ऊंचाइयों को छुआ व् विश्व क्रिकेट में अपनी पहचान बुलंद की.

# 2 ग्रीम स्मिथ
दक्षिण अफ्रीका टीम के इस खिलाडी ने 22 की उम्र में कप्तानी संभाली थी. शॉन पोलक ने एक विनाशकारी विश्व कप के बाद खुद कप्तानी छोड़ दी थी जिसके बाद स्मिथ ने कप्तानी की विरासत को संभाल लिया. निपुण कप्तानी के साथ स्मिथ ने कई चौंकाने वाली जीत के लिए दक्षिण अफ्रीका का नेतृत्व किया. अपनी टीम को टेस्ट क्रिकेट में नंबर वन की स्थिति में पहुँचाने के लिए इनका योगदान किसी से छिपा नहीं है.

# 1 स्टीफन फ्लेमिंग
न्यूज़ीलैंड टीम के पूर्व कप्तान व् सलामी बल्लेबाज स्टीफन फ्लेमिंग की चतुर कप्तानी उनके बल्लेबाज़ी गुर से आगे निकल गयी. वह एक ऐसे कप्तान रहे जिनकी रणनीति व् फील्ड में प्लेसमेंट विरोधियों को रन के लिए संघर्ष करने के लिए छोड़ देती थी. हालाँकि वह गांगुली या ग्रीम स्मिथ की तरह मैच विजेताओं की एक टीम के साथ नहीं थे लेकिन फ्लेमिंग ने अपने चतुर कार्यनीति क्षमताओं के माध्यम से अपने विरोधियों को मात दी. वैसे तो ये शांत किस्म के नेता थे लेकिन अपनी आक्रामक कप्तानी से खेल का रुख बदल कर रख दिया था.

  • SHARE

    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    एशेज सीरीज 2017- कल से शुरू हो रहे पहले टेस्ट मैच के लिए इंग्लैंड...

    कुछ ही घंटो में विश्व क्रिकेट की सबसे बड़ी द्विपक्षीय सीरीज का आगाज होने जा रहा है। इस द्विपक्षीय सीरीज का नाम है एशेज...

    कोलकाता में अपने शतकों के अर्धशतक पूरा करने के दौरान विराट ने बनाया एक...

    भारत और श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच कोलकत्ता में खेला गया था. इस टेस्ट मैच में भारत के कप्तान विराट कोहली ने दूसरी...

    वीडियो- श्रीलंका के पूर्व खिलाड़ी चमारा सिल्वा ने खेला ऐसा शॉट देखकर नहीं रुकेगी...

    विश्व क्रिकेट में जब से टी-20 क्रिकेट का चलन शुरू हुआ है तब से तेज  गति से रन बनाने के लिए बल्लेबाज तरह-तरह के...

    ये है भारत के वो 2 निःस्वार्थी क्रिकेटर जिन्होंने साथी खिलाड़ी के लिए क्रिकेट...

    क्रिकेट के मैदान में वैसे तो कई बार ऐसे किस्से देखने या सुनने के मिलते हैं जिससे कोई खिलाड़ी अपने एक बड़े काम से...

    IPL UPDATE: इन 2 आईपीएल टीमो ने भारत नहीं बल्कि इस देश में आईपीएल...

    आईपीएल 11 को लेकर अभी से तैयारी शुरू कर दी गई हैं. वही जहाँ इस बार ज्यादातर खिलाड़ियों को नीलामी में शामिल किया जाएगा....