बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने यह साफ़ किया है कि शशांक मनोहर को तरह उनकी आईसीसी में कोई रूचि नहीं हैं और वर्तमान में उनका एकमात्र कर्तव्य भारतीय क्रिकेट के अधिकारों की रक्षा करना हैं.

मनोहर की ओर इशारा करते हुए ठाकुर ने कहा “जिसको  आईसीसी जाना था, वह पहले ही जा चुका है, मेरी कोई रूचि  नहीं है और मैं यहाँ बीसीसीआइ के साथ बेहद खुश हूँ. मेरे लिए भारत से ज्यादा कुछ भी महत्वपूर्ण नहीं है. हम को भारतीय क्रिकेट के अधिकारों की रक्षा करनी होगी. यदि आप भारत के बारे में नहीं सोचते तो आपके लिए अन्य देश के बारे में सोचना बेहद मुश्किल होगा. आज भारत है इसलिए विश्व क्रिकेट तरक्की कर रहा है.”

यह भी पढ़े : भविष्य में क्रिकेट के हर फार्मेट के लिए अलग कोच नियुक्त कर सकती है बीसीसीआई: अनुराग ठाकुर

पिछले समय से बीसीसीआई अध्यक्ष ठाकुर और आईसीसी अध्यक्ष शशांक मनोहर के बीच चैंपियंस ट्रॉफी के लिए 13.50 करोड़ डॉलर बांटे जाने,  दो टीयर प्रणाली और द्विपक्षीय सीरीज के प्रसारण अधिकारों के केंद्रीकृत को लेकर मतभेद रहा हैं.

बीसीसीआई अध्यक्ष ने कहा

“आईसीसी से कोई मतभेद नहीं है. विश्व में क्रिकेट के फायदे के लिए जो भी कदम उठाए जाने की आवश्कता है, बीसीसीआई उन्हें उठा चुका है. अगर बजट पेश  किया गया है और भारत सबसे बड़ा बाजार है, उसे वित्तीय समिति में शामिल नहीं किया जाता और अचानक से आपको इसके बारे में जानकारी मिलती है तो आपको इस मुद्दे को देखना होगा”.

“आज अन्य देशों को भारत से ज्यादा धन राशि की अवश्यकता है जब हमसे हमारा हिस्सा कम करने की बात पूछी जाती है तो हम सुझाव देते हैं कि आइसीसी को अपने टूर्नामेंट के खर्चे में कटौती करनी चाहिए. अगर भारत आईपीएल और विश्वकप जैसे बड़े टुर्नामेंट का सफल आयोजन इससे कम खर्चो में कर सकता है , तो बाकि अन्य संगठनो को इस विषय में सोचने की जरुरत है. हम सहायता के लिए उपलब्ध रहेगे”.

चैंपियंस ट्रॉफी के लिए आवंटित की राशि (13.50 करोड़ डॉलर ) में से आईसीसी लंदन में कार्यालय बनाएगा, चैंपियन ट्राफी टूर्नामेंट समापन के बाद इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड को दे  दिया जाएगा.

यह भी पढ़े : 2018 के एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट की मेजबानी भारत करेगा: अनुराग ठाकुर

ठाकुर ने आगे कहा, “आईसीसी अलग-अलग देशों में प्रतियोगिता का आयोजन करता हैं और किसी भी देश में उन्होंने कोई ढांचा नहीं बनाया है और यह सब आईसीसी पर निर्भर करता है कि वे ढांचा बनाना चाहते हैं या नहीं. जिसका मतलब है कि यदि भारत चैंपियंस ट्रॉफी या विश्वकप 2023 की मेजबानी करता है तो ढांचा बनाने में ही सौ करोड़ रुपये खर्च हो जायेगे. मेरा कहना है कि धन राशि कहाँ खर्च की जा रही है, इसके लिए कुछ सही निति होनी चाहिए, क्योंकि दी गई राशि 105 देशों की है”.

ठाकुर ने लोढ़ा कमिटी के सदस्यों को घरेलु सत्र को देखने के लिए आमंत्रित किया था, जिसका मकसद था कि लोढ़ा कमिटी देखे की बीसीसीआई किस तरह घरेलु प्रतियोगिताओ का आयोजन करता हैं.

ठाकुर ने अंत कहा “मैं जस्टिस लोढ़ा से निवेदन करूँगा कि वे अपने सदस्यों के साथ आये और देखें कि किस तरह घरेलू सत्र शुरू होंगे और बीसीसीआई दुनिया के सबसे बड़े घरेलू सत्र की मेजबानी किस तरह करता है. और हम किस तरह से अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी में सफल रहे हैं”

  • SHARE
    I am Gautam Kumar a Cricket Adict, Always Willing to Write Cricket Article. Virat and Rohit are My Favourite Indian Player.

    Related Articles

    SAvsIND साउथ अफ्रीका से मिली सीरीज हार का सदमा बर्दास्त न कर सके विराट...

    भारत और साउथ अफ्रीका के बीच दूसरा टेस्ट मैच सेंचुरियन में खेला जा रहा था, जहाँ पर भारत को 135 रन से हार का...

    बड़ी खबर: दुसरे टेस्ट में भारत को 135 रनों से मात देने के बाद...

    जहां एक तरफ साउथ अफ्रीका के लिए सेंचुरियन टेस्ट मैच जीतने की एक बहत बड़ी खुशखबरी आई. वही साउथ अफ्रीका टीम के लिए इसी...

    विराट कोहली ने साउथ अफ्रीका से मिली हार की बौखलाहट में दिया ये अजीबोगरीब...

    जब विराट कोहली अपनी टीम के साथ साउथ अफ्रीका दौरें में रवाना हुए थे, तो सभी क्रिकेट प्रेमियों को उम्मीद थी, कि विराट एंड...

    SHOCKING: विन्स मैकमोहन के सिर से खून निकालने वाले केविन ओवेन्स ने खोला कम्पनी...

    विन्स मैकमोहन की इमेज हमेशा ही उन लोगो की तरह रही है जो अपने बिजनेस के लिए कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार...

    रिकॉर्ड तोड़ इतने मिलियन लोगो ने देखा आईपीएल 2018 के रिटेन का कार्यक्रम 

    आईपीएल के 10 बेहद कामयाब सत्र पुरे हो जाने के बाद अब आईपीएल के 11वें सत्र की तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही है. आईपीएल...