साल 2006 में नेपाल की टीम ने एसीसी कप में सबसे तेज गती से लक्ष्य हासिल किया था. उस नेपाली टीम ने लक्ष्य को सिर्फ 2 गेंदों में हासिल किया था. नेपाल की उस टीम ने उस लक्ष्य को कैसे हासिल किया आइये हम बताते है.

नेपाल ने उस टूर्नामेंट के पहले मैच में कुवैत को आसानी से हराया था, और नेपाल का अगला मुकाबला म्यांमार से था. म्यांमार की टीम की रैंकिंग उस टूर्नामेंट में सबसे कम थी, और क्रिकेट का अनुभव भी उनको कम था. नेपाल ने पहले मैच में कुवैत को 317 रनों का लक्ष्य दिया था, और कुवैत को सिर्फ 36 रनों पर अॉल आउट किया था.

तो वहीं म्यांमार को अपने पहले मुकाबले में हांगकांग से हार मिली थी. हांगकांग ने म्यांमार को 442 रनों का लक्ष्य दिया था, और म्यांमार को सिर्फ 20 रनों पर अॉल आउट किया था. अब नेपाल का मैच म्यांमार से था, और नेपाल ने म्यांमार को टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने बुलाया. नेपाल के ओर से महबूब आलम गेंदबाजी करने उतरे और फिर शुरू हुआ एक कमाल का मैच.

आलम ने पहले तीन गेंदों पर तीन विकेट लिए और म्यांमार की हालात खस्ता किया. उसके बाद 2 ओवर के बाद म्यांमार का स्कोर 4 रन पर 4 विकेट था.

म्यांमार की टीम पूरे पारी में बल्ले को गेंद भी नहीं लगा पा रहीं थी, और म्यांमार के आधे बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सके. म्यांमार ने 12.1 ओवर की बल्लेबाजी की, और सिर्फ 10 रन बना पायी. म्यांमार की ओर से जकारिया ने सबसे ज्यादा 20 गेंदी खेली, और एक रन बनाया.

नेपाल की ओर से आलम ने 6.1 ओवर की गेंदबाजी की, और 3 रन देकर 7 विकेट लिए. तो वहीं दास ने 6 ओवर की गेंदबाजी में 4 रन देकर 3 विकेट लिए. म्यांमार को तीन रन अतिरिक्त रूप में मिले. नेपाल के बल्लेबाज ने इस लक्ष्य का पीछा करते हुए पहली गेंद पर तीन रन लिए. फिर दुसरे गेंद पर भी तीन रन दौडे, और नेपाल का स्कोर 2 गेंद पर 6 रन हुआ. फिर उसके बाद गेंदबाज ने 2 लगातार वाईड गेंदें फेंकी, और बाद में फिर से वाईड फेंकी जो कीपर रोक नहीं पाया, और नेपाल ने 2 गेंदों में लक्ष्य हासिल करके इतिहास बना दिया.

म्यांमार में क्रिकेट की शुरूआत साल 2004 में हुई थी, जब अॉस्ट्रेलिया के कूछ लोगों ने वहां जाकर लोगों को क्रिकेट के बारे में बताया था. और फिर आईसीसी से म्यांमार को क्रिकेट खेलने की अनुमती मिली, और नेपाल के साथ उनका मैच हुआ. नेपाल की टीम उस समय अफगान से भी मजबूत मानी जाती थी.

  • SHARE
    I am sagar an ardent fan of cricket. I want to become a cricket writer, i always suport virat kohli and ms dhoni in every international match, but not in ipl in ipl i always chear for mumbai indian and rohit sharma.

    Related Articles

    ग्रीम स्मिथ ने कहा मार्करम के जगह अगर इन्हें मिली होती कप्तानी तो शायद...

    भारत और साउत अफ्रीका के बीच तीन टी20 मैचों की सीरीज का दूसरा अर्न्तराष्ट्रीय मुकाबला कल,यानि 21 फरवरी को सेचुंरियन के क्रिकेट स्टेडियम में...

    आईपीएल के बाद स्टार इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने बीसीसीआई के साथ इसको लेकर किया...

    इंडियन प्रीमियर लीग की शुरूआत होने को है। इस हाई वॉल्टेज टी-20 क्रिकेट लीग के शुरू होने को लेकर क्रिकेट फैंस अब तो बेसब्री...

    पाॅल एडम्स ने बताया वो कारण जिसकी वजह से हर एक वनडे और टी-20...

    भारतीय टीम के स्पिनरों की पूरे क्रिकेट जगत में तूती बोलती है। मौजूदा समय में साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव और...

    आर्थिक संकट झेल रही इस टीम को किसी देश की मेजबानी करने के लिए...

    जिम्बाब्वे और अफगानिस्तान के बीच 5 वनडे मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला जो कि अफगानिस्तान ने जिम्बाब्वे को 146 रनों के बड़े अंतर...
    International cricketers who make poor record of most runout

    ये है क्रिकेट इतिहास के सबसे सुस्त खिलाड़ी, जो क्रिकेट मैदान पर हुए सबसे...

    क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसको हर कोई देखना पसंद करता है और इस खेल में शानदार बल्लेब्जी के साथ ही विकेट के बीच...