संघर्ष हर खिलाडी के जीवन का अहम हिस्सा है. काफी लोग ये मानते है,कि युवराज सिंह से बडा संघर्ष किसीने नहीं किया होगा. युवराज सिंह ने बडी बिमारी को हराकर अपने जीवन में जीत हासिल की है.

युवराज के साथ सारे फैन्स उनके साथ रहे है. अंडर 19 विश्वकप से लेकर, 2007 टी ट्वेंटी विश्वकप में ब्रॉड को 6 छक्के से लेकर, 2011 विश्वकप में मैन अॉफ द सीरीज बनने तक सभी लोग युवराज के साथ रहे है.

और अब उन्हीं दर्शकों की वजह से युवराज सिंह की 2016 टी ट्वेंटी विश्वकप में वापसी हुई है, और उनका बडा रोल इस टीम में रहने वाला है.

सभी दर्शक युवराज को आगें खेलते हुए देखना चाहते है, लेकिन पहले तीन बल्लेबाजों के बाद, सुरेश रैना को मौका दिया जा रहा है, जिस वजह से युवराज को बल्लेबाजी में मौका मिल नहीं रहा है.

धोनी ने इसका खुलासा किया,कि युवराज को क्यों आगें नहीं मौका मिल रहा है.

युवराज सिंह को भारतीय टीम में मौका सिर्फ उनके प्रथम श्रेणी में अच्छे प्रदर्शन के बाद मिला है, लेकिन फिलहाल चौथे नंबर पर सुरेश रैना खेलते है.

पहले तीन नंबर के बल्लेबाज तय है, और चौथा, पांचवां और छठे नंबर पर युवराज जैसे अनुभवी बल्लेबाज के आनें से टीम को मजबूती मिली है, जो पहले हमे महसूस हो रहीं थी.

मिडल अॉर्डर में भारत के पास तीनों अनुभवी बल्लेबाज है, जो 250 से ज्यादा मैच भारत के लिए खेले है, और तीनों बडे हिटर है.

और एशिया कप और टी ट्वेंटी विश्वकप में ये तिकड़ी का अच्छा करना काफी महत्वपूर्ण है.

 

युवराज के वापसी करने से भारत को एक अच्छा अॉल राउंडर मिला है, और युवराज ने वापसी के बाद, बल्ले से ज्यादा गेंदबाजी की है. बल्लेबाजी में उनको ज्यादा मौके नहीं मिले है.

धोनी युवराज को एक बल्लेबाज से ज्यादा बतौर अॉल राउंडर देखना चाहते है. युवराज ने 9 ओवर की है, जिसमे 2 विकेट उनको मिले है.

भारतीय बल्लेबाजी सेटल है, रोहित और धवन सलामी में, और कोहली तीसरे और रैना चौथे नंबर पर तय है. तो युवराज को पिछे ही आना होगा, लेकिन उनको सेटल होने में समय लगता है.

भारत के सिर्फ चार गेंदबाजों के साथ खेलने से युवराज की जिम्मेदारी बल्लेबाजी से ज्यादा गेंदबाजी में बढ गयी है.

भारतीय टीम को मैच विनर युवराज की जररूत नहीं है, लेकिन एक अॉल राउंडर की जरूरत है. जैसे स्पिन लेती पिच पर युवराज का रोल अहम होगा, और वे बडे हिट भी लगा सकते है.

युवराज के फैन्स के लिए ये अच्छा नहीं होगा, लेकिन टीम के हित में उनको ये स्विकार करना पडेगा.

अगर भारत के जल्दी विकेट गिरे, तो युवराज जैसे अनुभवी बल्लेबाज का पिछे रहना टीम के लिए बडा महत्वपूर्ण है.

  • SHARE
    I am sagar an ardent fan of cricket. I want to become a cricket writer, i always suport virat kohli and ms dhoni in every international match, but not in ipl in ipl i always chear for mumbai indian and rohit sharma.

    Related Articles

    पहले सुष्मिता फिर परिणिति और उसके बाद शिवानी दांडेकर के साथ हार्दिक का नाम...

    अपने स्टाइलिश लुक और ताबड़तोड़ छक्कों की बारिश के लिए मशहूर भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या के वैसे तो लाखों क्रिकेट प्रशंसक...

    कोच से उलझना पड़ा गौतम गंभीर को भारी, अब इस भारतीय खिलाड़ी की अगुवाई...

    बहुत ही जल्द घरेलू क्रिकेट के सबसे बड़े टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी की शुरुआत होने वाली हैं. रणजी ट्रॉफी के आगामी सत्र का सबसे पहला...

    23 सितम्बर स्पेशल: क्रिकेट में आज है उस भारतीय खिलाड़ी का जन्मदिन जिसको 50...

    पाकिस्तान ने क्रिकेट को हमेशा ही कई बड़े नाम दिये है. इसी कड़ी में एक नाम है, मोईन खान का. आज के दिन ही मोईन...

    NO MERCY 2017 MATCHCARD: ये हैं नो मर्सी मैच के शेड्यूल और प्रतिभागी, जाने...

    इस आर्टिकल में जानिये 25 सितम्बर की सुबह होने वाली नो मर्सी में कौन से रेस्लर किसके साथ रहे हैं भिड़. 1.किक ऑफ़ मैच  इस साल...

    टीम की ओपनिंग की समस्या हुई खत्म अब खुद चयनकर्ताओ ने कहा ये खिलाड़ी...

    साउथ अफ्रीका और बांग्लादेश की टीम के बीच 28 सितम्बर से साउथ अफ्रीका की धरती पर दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जानी है. बांग्लादेश...