हाल ही में कप्तान “विराट कोहली” ने बांग्लादेश के खिलाफ एक ऑफ टेस्ट के लिए चेतेश्वर पुजारा की बजाये “रोहित शर्मा” को चुना था. पुजारा का 2014 में 24 .15 की औसत के साथ ख़राब प्रदर्शन रहा और उसका सबसे बेहतर स्कोर 73 रहा. लेकिन फिर अब यह उम्मीद थी कि वह नंबर 3 पर वापसी कर सकता है लेकिन कोहली ने रोहित को चुना.

देखा जाये तो रोहित शर्मा का बांग्लादेश के खिलाफ प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा वह मात्र 6 रन बनाकर ही आउट हो गया. लेकिन फिर भी कुछ कारण है जिससे लगता है कि उसका टीम में होना सही है.

1 .रोहित शर्मा ऐसा खिलाडी है जो खेल के हर फ्रेम में से एक उच्च स्तर निचोड़ लेता है. इस ओ डी आई शुरुवाती बल्लेबाज़ को अच्छी तरह से पता है कि बड़ा स्कोर कैसे बनाना है और उसमे यह क्षमता भी है. उसके पिछले ओ डी आई रिकॉर्ड इसका उदाहरण है. 100 का आंकड़ा पार करने पर भी वह नहीं रुकता और अधिक रन बनाने की मशक्क़त करता है. वह तेज़ी से स्कोर करने की काबिलियत रखता है.

2 .रोहित शर्मा का टेस्ट टीम में होने का दूसरा कारण यह है कि उसमे हर संभव हालात में उत्कृष्टता प्राप्त करने की क्षमता है. अगर वह ओ डी आई शुरुवाती बल्लेबाज़ के तौर पर ऑस्ट्रेलिया में दोहरा शतक लगा सकता है तो टेस्ट मैचों में भी बढ़िया प्रदर्शन कर सकता है. उसे सिर्फ धैर्य रखने की ज़रूरत है. 28 वर्षीय इस खिलाडी को ऑफ स्टंप के बाहर की गेंदों को छोड़ देना चाहिए ,अगर वह ऐसा कर लेता है तो निश्चित रूप से एक बड़ा स्कोर बना सकता है.

3 .वहीँ इससे पहले भी वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में नंबर 3 पर बल्लेबाज़ी कर चुका है.उस दौरान रोहित ने दो पारियोंं में 53 और 39 रन बनाये थे. वहीँ न्यूज़ीलैंड में भी रोहित ने 72 रन बनाये थे . दक्षिण अफ्रीका ,न्यूज़ीलैंड ,इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान रोहित की औसत 23 .75 रही. वहीँ पुजारा की भी देश से बाहर 29 .4 की औसत रही. यह सच है कि पुजारा ने दक्षिण अफ्रीका में 150 रन बनाये थे लेकिन दूसरे दौरे में , पहले दौरे के दौरान पुजारा को भी संघर्ष करना पड़ा था.

4 . हम रोहित के केवल कुछ ही विदेशी दौरों के आधार पर उसकी क्षमता व् प्रतिभा का मूल्यांकन नहीं कर सकते. भारतीय दिग्गज बल्लेबाज़ वी वी एस लक्ष्मण की भी विदेशी धरती पर 12 टेस्ट मैचों के बाद औसत 28 .33 थी वंही रोहित की 9 टेस्टो के बाद औसत 23 .75 है.

5 .तेज़तर्रार बल्लेबाज़ रोहित शर्मा निश्चित रूप से टेस्ट क्रिकेट में बड़ा स्कोर करने की प्रतिभा व् कौशल रखता है और ये नतीजा देखने के लिए प्रबंधक को थोड़ा धैर्य रखना होगा और रोहित को कई टेस्ट मैच खेलने के अवसर देने चाहिए.
 

  • SHARE
    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    साउथ अफ्रीका दौरे में टी-20 सीरीज के लिए भारतीय टीम का हुआ चयन, पहली...

    भारतीय पूरुष क्रिकेट टीम के बाद अब भारतीय महिला क्रिकेट टीम भी साउथ अफ्रीका जाने के लिए तैयार हो गई। 13 फरवरी से भारत...

    RUMOUR: इस वजह से रॉ में अंडरटेकर और जॉन सीना नहीं आये आमने...

    कल संपन्न हुई रॉ बेहद ही संपन्न थी, एक तरफ जहाँ कल रॉ ने अपने 25 साल पूरे कर लिए वही कल रॉ में...

    भारतीय टीम को अगर बचाना है अपना आत्मसम्मान तो वांडरर्स के मैदान पर करना...

    इतिहास बदलने और पिछले 25 साल का हिसाब बराबर करने जैसे बड़े-बड़े जुमलों के साथ साउथ साउथ अफ्रीका पहुंची भारतीय टीम के अब अपने...

    ये हैं आईपीएल में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले दस गेंदबाज, लेकिन इस साल...

    आईपीएल-2018 का आगाज  होने वाला है। इसके लिए खिलाड़ियों का ऑक्शन 27 और 28 जनवरी को होगा। आईपीएल के  पिछले संस्करणों में कई खिलाड़ियों...

    दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट से पहले कोहली का विराट बयान

    जोहान्सबर्ग, 24 जनवरी; भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने मंगलवार को कहा कि वह दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए की गई टीम की तैयारी...