विश्वकप 2011 का ऐतिहासिक फाइनल भारत बनाम श्रीलंका के बीच 2 अप्रैल 2011 को खेला गया. विश्वकप इतिहास में यह पहला मौका था जब उपमहाद्वीप की 2 टीम किसी विश्वकप में फाइनल में पहुची थी. प्रदर्शन के अनुसार श्रीलंका और भारत विश्वकप के फाइनल की 2 सबसे मजबूत टीमें थी.

विश्वकप फाइनल से पहले भारत के तेज गेंदबाज़ आशीष नेहरा अँगुली की चोट से कारण टीम से बाहर हो गए थे, नेहरा के स्थान पर भारत ने तेज गेंदबाज़ श्रीसंथ को टीम में जगह दी, जबकि फाइनल जैसे बड़े मुकाबले के लिए श्रीलंका ने टीम में 4 बदलाव किये. श्रीलंका के युवा आल-राउंडर एंजलो मैथ्यूज़ चोट के कारण फाइनल नहीं खेल पायें, जबकि महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन को पैर की चोट के कारण भारत के विरुद्ध फाइनल मैच खेलने के लिए उतरना पड़ा.

विश्वकप फाइनल जैसे बड़े मुकाबले में टॉस के दौरान एक बड़ा विवाद हुआ. श्रीलंका के कप्तान संगकारा ने टॉस के दौरान हेड्स कहा लेकिन मैदान में प्रशंसको के शौर के कारण मैच रेफरी जेफ़ क्रोवे ने संगकारा की आवाज़ सही से नहीं सुनी.
विवाद के बाद टॉस दोबारा कराया गया और श्रीलंकन कप्तान संगकारा ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला लिया.

भारत के तेज गेंदबाज़ ज़हीर खान ने मैच के शुरुआत में लगातार 3 ओवर मैडेन डालकर शानदार शुरुआत किया, लेकिन दुसरे छोर पर खड़े श्रीलंका के महान बल्लेबाज़ महेला जयवर्धने ने श्रीलंका की पारी को सवांरा और 88 गेंदों पर शानदार 103 रनों की पारी खेली, जिसकी मदद से श्रीलंका ने निर्धारित 50 ओवरों में 274/6 का स्कोर बनाया.

विश्वकप जीतने के लिए भारत के 275 रनों की जरुरत थी, 275 रनों का लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम को श्रीलंका के तेज गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा ने सहवाग और सचिन की विकेट के रूप में 2 बड़े झटके दिए. 2 विकेट जल्दी गिरने के बाद गौतम गंभीर और विराट कोहली ने भारतीय पारी को संभाला और 114 रनों की साझेदारी बनाई.

विराट कोहली के आउट होने के बाद कप्तान एम.एस धोनी और गंभीर ने 109 रनों की अहम साझेदारी बनाई. गंभीर ने विश्वकप फाइनल जैसे बड़े मौके पर 97 रनों महत्वपूर्ण पारी खेली. भारतीय कप्तान धोनी ने नाबाद 91 रनों की पारी खेली और भारत को विश्वकप 2011 का विजेता बनाया.

एक समय मैच में धोनी 85 रनों पर खेल रहे थे, और भारत को 11 गेंदों पर 4 रनों की जरुरत थी, तभी धोनी कुछ ऐसा किया जिसके लिए वह जाने जाते हैं, धोनी ने श्रीलंक के तेज गेंदबाज़ नुवान कुलासेकरा के गेंद पर लांग ऑन पर छक्का मारा और भारत को मैच जीता दिया.

सचिन अपने लम्बे क्रिकेट करियर के दौरान कभी विश्वकप नहीं जीत पाए थे. अंत में वर्ष 2011 में 28 वर्षो के बाद भारत ने विश्वकप पर कब्ज़ा किया. सचिन कों 22 वर्ष क्रिकेट खेलने के बाद वर्ष 2011 में विश्वकप ट्राफी उठाने का मौका मिला.

धोनी ने जैसे नुवान कुलासेकरा की गेंद पर छक्का मारा, वैसे ही भारतीय क्रिकेट फैन्स जश्न में झुमने लगे. भारतीय टीम के खिलाड़ियों और दर्शको ने वानखेड़े मैदान के बाहर और अंदर दोनों जगह जश्न मनाया.

2011 विश्वकप फाइनल भारत बनाम श्रीलंका मैच की  हाइलाइट:-

https://youtu.be/dne8QmfTB2k

  • SHARE

    I am Gautam Kumar a Cricket Adict, Always Willing to Write Cricket Article. Virat and Rohit are My Favourite Indian Player.

    Related Articles

    ये रहे वो कारण जिसके चलते भारतीय टीम को करना पड़ा पहले वनडे मैच...

    भारतीय टीम और श्रीलंकाई टीम के बीच आज रविवार को धर्मशाल के मैदान में पहला खेला गया वनडे मैच श्रीलंकाई टीम ने बड़ी आसानी...
    Suranga Lakmal

    सुरंगा लकमल ने तोड़ी चुप्पी बताया वो कारण जिसकी वजह से जल्दी-जल्दी विकेट देकर...

    कप्तान विराट कोहली की गैरमौजूदगी में रोहित शर्मा की अगुआई में धर्मशाला में श्रीलंका के खिलाफ पहला एकदिवसीय मुकाबला खेलने उतरी भारतीय टीम को...

    VIDEO: 113 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए जब धोनी ने की खराब...

    भारत और श्रीलंका के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज का पहला अर्न्तराष्ट्रीय मुकाबला धर्मशाला स्टेडियम में आज,यानि 10 दिंसबर को खेला गया। खेले गए...

    पोर्न स्टार मिया खलीफा ने रोंडा राउजी के लिए बोल दिया कुछ ऐसा नहीं...

    WWE पूरी दुनिया में जानी जाती है और इसके रेस्लर्स भी पूरी दुनिया में ना केवल पहचाने बल्कि पसंद भी किये जाते हैं पर...

    रणजी ट्रॉफी : इस युवा भारतीय खिलाड़ी ने ठोका दोहरा शतक

    जयपुर, 10 दिसम्बर; रित्विक चटर्जी (नाबाद 213) के दोहरे शतक और अभिमन्यु ईस्वरन (114) की शतकीय पारी के दम पर बंगाल ने रणजी ट्रॉफी क्वार्टर...