देश में कई मुद्दे उठे है और मीडिया द्वारा उन्हेंकाफी तवज्जो दी गई है लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है, जब देश के खिलाडि़यों से किसी मुद्दे पर इतनी तीखी प्रतिक्रियाएं आ रही हों। इस समय पूरे देश में जेएनयू का मुद्दा छाया हुआ है वहां पर लगाए गए देश विरोधी नारों के बारे में चर्चा जोरों पर है। कोई इसे गलत तो कोई सही बता रहा है। हमारे देश के कुछ खिलाड़ी है भी जिनसे रहा नहीं गया और उन्होंने इस मामले पर अपने विचार खुलकर सबके सामने रख दिए हैं।

इन्ही खिलाडि़यों में से एक है योगेश्‍वर दत्त जिन्होंने अपनी भावनाओं को सोशल प्लेटफार्म पर कुरेद कर रख दिया। योगेश्वर दत्त एक भारतीय कुश्ती खिलाड़ी हैं। इन्होंने 2012 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। जब वो देश के लिए खेलते है तो उनका लहू आज भी पसीने के रूप में उनके शरीर से बहता हुआ देखा जा सकता है। योगेश्वर ने देश के लोगों से पूछा है कि अफजल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलाएगा?

योगेश्वर देश के लोगों एक सीधा सवाल किया है, कि आप कैसे हमारे खून-पसीने की मेहनत को किसी ऐसे व्यक्ति के बराबर लाकर खड़ा कर सकते हैं जिसने लोगों की हत्याये की है, देश के खिलाफ साजिश रची है। अफजल को शहीद बताकर आप ना केवल उन सैनिकों का अपमान कर रहे हैं जो ऐसे मौसम में भी खड़े रहते है जहां सांस लेते ना लेते ना बने बल्कि उन खिलाडि़यों का भी जो तिरंगे को ऊपर देखने के लिए अपनी जिंदगी भर पसीना बहाकर एक मेडल हासिल करने की कोशिश में लगे रहते हैं।

 

योगेश्वर ने जेएनयू की इस घटना को अपनी एक कविता के माध्यम से प्रस्तुत किया है क्या इसे पढ़ने के बाद आप खुद निर्णय लीजिए कि इस खिलाड़ी ने सही लिखा है या गलत-

योगेश्वर दत्त की कविता
——————————
गजनी का है तुम में खून भरा जो तुम अफजल का गुण गाते हों,
जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो!
भाषा की कैसी आजादी जो तुम भारत मां का अपमान करो,
अभिव्यक्ति का ये कैसा रूप जो तुम देश की इज्जत नीलाम करो!
अफजल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलायेगा,
कोई इनके रहनुमाओं का मजहब मुझको बतलायेगा!
अपनी मां से जंग करके ये कैसी सत्ता पाओगे,
जिस देश के तुम गुण गाते हो, वहां बस काफिर कहलाओगे!
हम तो अफज़ल मारेंगे तुम अफजल फिर से पैदा कर लेना,
तुम जैसे नपुंसको पे भारी पड़ेगी ये भारत सेना!
तुम ललकारो और हम न आये ऐसे बुरे हालात नहीं
भारत को बर्बाद करो इतनी भी तुम्हारी औकात नहीं!
कलम पकड़ने वाले हाथों को बंदूक उठाना ना पड़ जाए,
अफजल के लिए लड़ने वाले कहीं हमारे हाथो न मर जाये!
भगत सिंह और आज़ाद की इस देश में कमी नहीं,
बस इक इंकलाब होना चाहिए,
इस देश को बर्बाद करने वाली हर आवाज दबनी चाहिए!
ये देश तुम्हारा है ये देश हमारा है, हम सब इसका सम्मान करें,
जिस मिट्टी पे हैं जनम लिया उसपे हम अभिमान करें! जय हिंद।

  • SHARE
    sportzwiki हिंदी सभी प्रकार के स्पोर्ट्स की सभी खबरे सबसे पहले पाठकों तक पहुँचाने के लिए प्रतिबद्ध है. हमारी कोशिस यही रहती है, कि हम लोगो को सभी प्रकार की खबरे सबसे पहले प्रदान करे.

    Related Articles

    ग्रीम स्मिथ ने कहा मार्करम के जगह अगर इन्हें मिली होती कप्तानी तो शायद...

    भारत और साउत अफ्रीका के बीच तीन टी20 मैचों की सीरीज का दूसरा अर्न्तराष्ट्रीय मुकाबला कल,यानि 21 फरवरी को सेचुंरियन के क्रिकेट स्टेडियम में...

    आईपीएल के बाद स्टार इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने बीसीसीआई के साथ इसको लेकर किया...

    इंडियन प्रीमियर लीग की शुरूआत होने को है। इस हाई वॉल्टेज टी-20 क्रिकेट लीग के शुरू होने को लेकर क्रिकेट फैंस अब तो बेसब्री...

    पाॅल एडम्स ने बताया वो कारण जिसकी वजह से हर एक वनडे और टी-20...

    भारतीय टीम के स्पिनरों की पूरे क्रिकेट जगत में तूती बोलती है। मौजूदा समय में साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव और...

    आर्थिक संकट झेल रही इस टीम को किसी देश की मेजबानी करने के लिए...

    जिम्बाब्वे और अफगानिस्तान के बीच 5 वनडे मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला जो कि अफगानिस्तान ने जिम्बाब्वे को 146 रनों के बड़े अंतर...
    International cricketers who make poor record of most runout

    ये है क्रिकेट इतिहास के सबसे सुस्त खिलाड़ी, जो क्रिकेट मैदान पर हुए सबसे...

    क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसको हर कोई देखना पसंद करता है और इस खेल में शानदार बल्लेब्जी के साथ ही विकेट के बीच...