आप दोस्‍ती करते हैं तो बातचीत का रास्‍ता खुल जाता है: राहुल द्रविड़ - Sportzwiki
इंटरव्यूज

आप दोस्‍ती करते हैं तो बातचीत का रास्‍ता खुल जाता है: राहुल द्रविड़

  • वीवीएस लक्ष्‍मण और राहुल द्रविड़ दोनों ने मैदान पर 345 कैच लपके हैं। दोनों ही स्लिप के शानदार फील्‍डर हैं और इनके खड़े होने पर वहां से गेंद का निकलना एक प्रकार से नामुमकिन था। ऐसा ही इन दोनों को बल्‍लेबाजी करते हुए भी देखा गया है अगर किसी ने मौका छोड़ा तो दूसरे ने बेहतरीन तरीके से उसको लपका है। दोनों को साथ में खेलता देखना हमेशा सुखद अहसास कराता था।

    लेकिन एक बात और भी है कि स्लिप पर खड़ा रहना काफी बोरिंग काम है। क्‍योंकि ऐसा बहुत ही कम बार होता है जब गेंद आपके पास आती है। इसलिए कई बार इस बात में भी मुश्किल आती है कि आप हर गेंद पर उतनी ही एकाग्रता के साथ खड़े रहे। ऐसे में ये दोनों फील्‍डर क्‍या करते थे यह जानना सबके लिए उत्‍सुक्‍ता का विषय है।

    इस बारे में राहुल द्रविड़ का कहना है कि

    “स्लिप में खड़े रहने पर आपके पास काफी समय होता है, लेकिन आप जानते हे आप टीम इंडिया के लिए फील्डिंग कर रहे हैं। इसलिए किसी भी गेंदबाज को कम नहीं आक सकते हैं। ऐसा भी नहीं कि हम हर समय क्रिकेट की बात ही करते रहे, क्‍योंकि हर समय क्रिकेट की बात नहीं की जा सकती है।”

     

    द्रविड़ कई बार लक्ष्‍मण से जिन बातों पर बात करते थे उनमें घर का निर्माण, बिजली, घर में पानी के बहने जैसे टॉपिक भी होते हैं। क्‍योंकि हम क्रिकेट की बात के साथ-साथ इन बातों को भी करते हैं। इनमें कई बातें ऐसी होती है जो आपकी बातचीत को काफी रोमांचक बना देती हैं।

    द्रविड़ यह भी कहते है कि गेंदबाज जब रनर अप के लिए जाता है तो आपका दिमाग कैच लेने के लिए तैयार होने लगता है और जब वह गेंद फेंक चुका होता है तो हम अपनी बातचीत में वा‍पस आ जाते हैं और ऐसे में एक दोस्‍ती का संबंध भी बनता है जो लंबे समय तक चलता है और यह सही भी है।

    राहुल द्रविड़ और लक्ष्‍मण दोनों ही बहुत अच्‍छे दोस्‍त हैं और वह अपनी दोस्‍ती के बारे में बात भी करते रहते हैं। राहुल द्रविड़ का यह भी कहना है कि जब आपके बीच दोस्‍ती हो जाती है तो आप एक दूसरे से काफी बातचीत करने लगते हैं। इस बातचीत के दौरान सबकुछ शामिल होता है आपकी निजी जिंदगी से जुड़ी हुई बातें भी जो आपको बेहतर बनाती हैं।

    sw

    Most Popular

    Top