भारतीय ग्रीको रोमन पहलवानों ने रियो ओलंपिक के लिये दूसरे और आखिरी विश्व क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में खासा निराश किया और कोई भी पहलवान ओलंपिक कोटा हासिल नहीं कर पाया. मुकाबले में उतरे सभी पहलवानों की हालत यह रही कि वे अपनी पहली ही कुश्ती में घुटने टेक गये.

ग्रीको रोमन में इस तरह भारत को रियो ओलंपिक में एक ही कोटे से संतोष करना पड़ेगा जो हरदीप ने एशियन ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में 98 किग्रा वर्ग में हासिल किया था. कजाखिस्तान के अस्ताना में हुये पहले विश्व क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में ग्रीको रोमन का कोई भी पहलवान कोटा हासिल नहीं कर सका था और अब दूसरे और आखिरी विश्व क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में भी कोई पहलवान कोटा हासिल करना तो दूर अपनी पहली कुश्ती तक नहीं जीत सका.
रविन्दर को 59 किग्रा, सुरेश यादव को 66 किग्रा, रविन्दर खत्री को 85 किग्रा और नवीन को 130 किग्रा वर्ग में हार का सामना करना पड़ा जबकि 75 किग्रा वर्ग में गुरप्रीत सिंह अधिक वजन होने के कारण अयोग्य करार दिये गये. रविन्दर को क्वालिफिकेशन में ओलंपिक रजत पदक विजेता पहलवान जार्जिया के रेवाज लाशखी ने 8-0 से पस्त कर दिया जबकि सुरेश यादव को फ्रांस के आर्तक मरगारयान ने 3-0 से हराया. रविन्दर खत्री को पहले राउंड में बाई मिली लेकिन वह प्री क्वार्टरफाइनल में लिथुआनिया के लैमुतिस एडोमैतिस से 6-10 से शिकस्त खा गये. नवीन को बुल्गारिया के मिलोस्लाव यूरीएव ने 9-0 से धो दिया.

गुरप्रीत ने खासा निराश किया और ज्यादा शारीरिक वजन होने के कारण उन्हें अयोग्य करार दिया. पिछले विश्व क्वालिफायर टूर्नामेंट में भी महिला पहलवान विनेश फोगाट का वजन 400 ग्राम अधिक पाया गया था और उन्हें अयोग्य करार देकर मुकाबले में उतरने नहीं दिया गया. भारतीय कुश्ती महासंघ ने विनेश को इस मामले में चेतावनी देकर छोड़ा था. हालांकि विनेश इस आखिरी क्वालिफायर में अपनी चुनौती पेश करने जा रही हैं.

भारत को अभी तक चार ओलंपिक कोटा हासिल हुये हैं. जिनमें तीन फ्री स्टाइल वर्ग में और एक ग्रीको रेामन वर्ग में है. नरसिंह यादव ने गत वर्ष विश्व चैंपियनशिप में 74 किग्रा में, योगेश्वर दत्त ने एशियाई क्वालिफिकेशन में 65 किग्रा वर्ग में और संदीप तोमर ने पिछले विश्व क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में 57 किग्रा वर्ग में ओलंपिक कोटा हासिल किया था जबकि हरदीप ने एशियाई क्वालिफिकेशन में ग्रीको रोमन के 98 किग्रा वर्ग में देश को कोटा दिलाया था.

भारत ने इस आखिरी क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में 14 पहलवान उतारे हैं जिनमें ग्रीको रोमन में भारत का अभियान समाप्त हो गया है और अब सभी निगाहें महिला और फ्री स्टाइल पहलवानों पर रहेंगी. महिला पहलवानों में विनेश 48 किग्रा वर्ग में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद हैं और फ्री स्टाइल वर्ग में मौसम खत्री की 97 किग्रा वर्ग की दावेदारी को मजबूत माना जा सकता है.

  • SHARE

    Related Articles

    खुशखबरी: 2019 से 2023 तक भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली सीरीज पर...

    भारतीय क्रिकेट टीम इन दिनों तो विश्व क्रिकेट में सबसे शानदार लय में नजर आ रही है। भारतीय टीम ने विराट कोहली की कप्तानी...

    एंजलो मैथ्यूज ने मौजूदा समय के इस भारतीय गेंदबाज को बताया दुनिया का सर्वश्रेष्ठ...

    भारट और श्री लंका के बीच खेले जा रहे पहले टेस्ट में श्रीलंका टीम भारत पर हावी है. पहली पारी में विराट कोहली ब्रिगेड...

    बेहतरीन पारी के बावजूद पुजारा के नाम जुड़ गया शर्मनाक रिकॉर्ड..बने सबसे फिसड्डी खिलाड़ी

    श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में सर्वाधिक रनों की पारी खेलने वाले चेतेश्वर पुजारा के नाम आउट होते ही एक अनचाहा रिकॉर्ड भी...

    लहिरू थिरिमाने ने खोला राज, मैदान पर इस खिलाड़ी की मदद से भारत के...

    भारत और श्रीलंका के बीच आज पहले तीसरा दिन का खेल खेला गया. आज का दिन श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज़ लाहिरू थिरिमने और एंजेलों मैथ्यूज...

    मुम्बई सिटी एफसी ने इनफिनिक्स मोबाइल से किया करार

    मुम्बई, 18 नवंबर; प्रशंसकों के लिए रोमांचक क्षणों का वादा करते हुए ट्रांसिजन होल्डिंग्स के प्रीमियर स्मार्टफोन ब्रांड-इनफिनिक्स मोबाइल ने हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल)...