पटना, 8 जुलाई (आईएएनएस)| दिल्ली का निजामपुर गांव कबड्डी का गढ़ माना जाता है। कबड्डी यहां के लोगों की जिंदगी में रची बसी है। यही से ताल्लुक रखते हैं स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी लीग की बेंगलुरू बुल्स टीम के रेडर रोहित कुमार और पुनेरी पल्टन के लिए खेलने वाले उनके चचेरे भाई मंजीत चिल्लर। रोहित कहते हैं कि कबड्डी उन्हें गांव से उपहार के तौर पर मिली है।

लीग के तीसरे सीजन की चैम्पियन पटना पाइरेट्स टीम का हिस्सा रहे रोहित ने आईएएनएस से बातचीत के दौरान कहा कि वह स्टार स्पोर्ट्स और भारतीय कबड्डी महासंघ के शुक्रगुजार हैं क्योंकि इस लाग ने उनकी और उनके जैसे कई खिलाड़ियों की जिंदगी बदल दी है। रोहित को तीसरे सीजन का मोस्ट वैल्यूबल प्लेअर चुना गया था।

इस साल मार्च में पश्चिमी दिल्ली के नांगलोई में विवाह रचाने वाले रोहित ने कहा, “लीग से पहले मेरी जिंदगी सामान्य थी। मैं सर्विसेज और भारत के लिए खेलने के बारे में ही सोचता था लेकिन प्रो कबड्डी के बाद सबकुछ बदल गया। अब हमें लोग पहचानने लगे हैं। पैसे भी मिलने लगे हैं। अब जिंदगी व्यस्त हो गई है लेकिन इसमें भी अपना मजा है। प्रो कबड्डी ने जो मुकाम दिया है, वह हर खिलाड़ी की चाह होती है। हमें लीग से अब तक जो कुछ मिला है, उससे बहुत खुश हूं।”

रोहित भारतीय नौ सेना में एजीपीओ (हेड कांस्टेबल) पद पर तैनात हैं और इस साल सैफ खेलों में हिस्सा लेने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। भारत ने सैफ खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। रोहित ने बताया कि उनके पिता भी कबड्डी खेलते थे। वह नेशनल तक खेले और इन दिनों दिल्ली पुलिस मे ंतैनात हैं।

रोहित ने कहा, “2009 में मेरी नौकरी लगी। उससे पहले गांव में ही खेलता था और फिर स्कूल नेशनल और फिर सीनियर नेशनल के लिए प्रयास किया। साल 2011 में मैंने बेंगलूरू साई में नेशनल कैम्प में हिस्सा लिया। अगले साल जब प्रो कबड्डी शुरू हुआ तब यू मुम्बा ने मुझे आक्श्न में 7 लाख 10 हजार रुपये में खरीदा लेकिन सर्विसेज ने लीग में ख्रेलने की अनुमति नहीं दी। दूसरे सीजन में भी मैं नहीं खेल सका लेकिन तीसरे सीजन में मैं लॉटरी सिस्टम के तहत पटना पहुंचा और फिर की पीछे मुड़कर नहीं देखा।”

स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी को एक साल में दो बार कराने की योजना के बार में पूछे जाने पर रोहित ने कहा कि यह एक अच्छी सोच है। खिलाड़ी अगर लगातार खेलते रहेंगे तो फिट रहेंगे और फिर उन्हें आमदनी भी होगी। इससे देश को भी फायदा होगा।

रोहित ने कहा, “साल में दो लीग का कान्सेप्ट अच्छा है। हम खिलाड़ी हैं और हमारा काम खेलना है। इस लीग ने हमें पहचान दी है। मैं खिलाड़ी हूं और मेरा काम खेलना है। मुझे खुशी है कि आज पटना और बेंगलुरू में लोग पहचानते हैं और पटना से मेरा लगाव तो है ही क्योंकि पिछले साल मैं इस टीम सबसे अच्छा खिलाड़ी था। मुझे लोग पसंद करते हैं और मैं भी पटना वालों को पसंद करता हूं।”

  • SHARE

    आईएएनएस एक न्यूज़ मिडिया कम्पनी है, जों दुसरे न्यूज़ मिडिया कों सभी प्रकार की खबरे प्रदान करती है. आईएएनएस खेल, राजनीती और बालीवुड के अलावा अन्य सभी प्रकार की खबरे अपने मिडिया पार्टनर कों प्रदान करता है.

    Related Articles

    आई-लीग : चेन्नई सिटी, गोकुलम एफसी ने बदले घरेलू स्थल

    नई दिल्ली,22नवंबर; आई-लीग क्लब चेन्नई सिटी और गोकुलम एफसी ने 25 नवंबर से शुरू हो रहे नए सीजन के लिए अपने घरेलू स्थल बदल दिए...

    आईएसएल-4 : दिल्ली के सामने, पुणे की रिकार्ड सुधारने की कोशिश

    पुणे, 22 नवंबर; हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के इतिहास में दिल्ली डायनामोज के सामने सिर्फ एक बार जीत दर्ज करने वाली एफसी पुणे सिटी...

    PHOTOS: हाल ही में स्मैकडाउन की डीवाओं को पीटने वाली ये हैं एनजो अमोरे...

    इस बार की स्मैकडाउन में तीन डीवाओं ने डेब्यू किया जिसमे एक नाम है लिव मॉर्गन का, वे एनजो अमोरे की गर्लफ्रेंड हैं. यहाँ...

    WWE NEWS: रोमन रेन्स के इंटरकांटिनेंटल चैंपियन बनने की वजह का हुआ खुलासा जिसे...

    इस हफ्ते हुई रॉ के मेन इवेंट मैच में रोमन रेन्स ने मिज़ को हारकर इंटरकांटिनेंटल चैंपियनशिप जीत ली और जीतते ही उन्होंने अपना...

    फीफा ने 3 अधिकारियों पर लगाया अजीवन प्रतिबंध

    ज्यूरिख, 22 नवंबर; तीन फुटबाल अधिकारियों को विश्व फुटबाल की नियामक संस्था फीफा ने अजीवन काल के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। इस बात की...