रियो डी जनेरियो, 16 अगस्त (आईएएनएस)| किसी महान स्पर्धा का गवाह बनते हुए आप भले एक विशाल दर्शक समूह का हिस्सा हों, माहौल का जुनून आपको खुद में जज्ब कर लेता है या आप उस जुनूनी माहौल का ही एक हिस्सा बन जाते हैं। चाहे वह बोल्ट को आदमी के चीता बन जाने का कारनामा करते देखने का अनुभव हो या माइकल फेल्प्स को पानी को चीरते हुए सोने पे सोना निकालते देखने का अनुभव, आप किसी दूसरी ही दुनिया में पहुंच जाते हैं।

यह भी पढ़े: रियो ओलिम्पिक : भारतीय कोच हिरासत में, महिला डॉक्टर से बदसलूकी का आरोप

दोनों ही महान खिलाड़ियों को मानव की शारीरिक क्षमता की सभी सीमाएं पार करते देखना सदियों तक मानवीय स्मृतियों में दर्ज होने वाली घटनाएं हैं।

रविवार की रात रियो में जमैका के बोल्ट ने 100 मीटर रेस में वह कर दिखाया जिसके लिए वह बने हैं। बोल्ट अपने पुराने विश्व रिकॉर्ड को तो नहीं तोड़ सके, लेकिन उन्होंने दिखा दिया कि मात्र नौ सेकेंड के लिए वह स्टेडियम में हजारों लोगों को बुला सकते हैं और अपना मूरीद बना सकते हैं।

यह भी पढ़े: रियो ओलम्पिक : सिंधु क्वार्टर फाइनल में, विकास और सीमा हारे

पूरी दुनिया में लाखों की संख्या में बोल्ट के समर्थक रविवार की रात खुशियों से झूम उठे।

दूसरी ओर अमेरिकी तैराक फेल्प्स ने ओलम्पिक के इतिहास में सबसे सफल खिलाड़ियों में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखवाया। फेल्प्स 23 स्वर्ण सहित ओलम्पिक खेलों में 28 पदक जीत चुके हैं। ऐसा करते हुए उन्होंने खिलाड़ियों को नहीं बल्कि कितने ही देशों को पूरे ओलम्पिक इतिहास में पछाड़ दिया और उनकी तुलना एक पूरे देश के रूप में की जाने लगी।

फेल्प्स किसी एक ओलम्पिक में सर्वाधिक पदक जीतने का रिकॉर्ड पहले ही तोड़ चुके हैं। उन्होंने 1972 में मार्क स्पिट्ज द्वारा बनाए गए सात पदकों के रिकॉर्ड को तोड़ा था। रियो में भी वह उसी स्वर्णिम सफर को आगे बढ़ाते दिखे।

यह भी पढ़े: रियो ओलम्पिक (वॉल्ट) : सहवाग समेत कई बड़े सितारों ने की दीपा की हौंसलाअफजाई

बोल्ट का तो नाम भर लोगों में ऊर्जा का संचार कर देता है, तो उनका होना स्टेडियम में मौजूद दर्शकों पर क्या असर करता होगा अकल्पनीय है। रियो में बोल्ट का करिश्मा देखने लोग कई-कई घंटों लंबा सफर तय कर पहुंचे। बोल्ट ने भी उन्हें निराश नहीं किया और लगातार तीन ओलम्पिक में एक ही स्पर्धा का स्वर्ण जीतने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बने।

इससे पूर्व लंदन ओलम्पिक में बोल्ट ने 100 मीटर स्पर्धा में 9.63 सेकेंड का समय निकालते हुए ओलम्पिक खेलों के सबसे तेज धावक बने थे। इसके बाद उन्होंने 200 मीटर स्पर्धा 19.23 सेकेंड समय के साथ जीत ली और 4 गुणा 100 मीटर रिले रेस तो उन्होंने रिकॉर्ड 36.84 सेकेंड समय में जीती।

यह भी पढ़े: रियो ओलम्पिक (100 मी.) : महानतम बोल्ट की ऐतिहासिक हैट्रिक

दोनों ही महानतम खेल हस्तियां रियो से संन्यास ले लेंगी और अपने पीछे ऐसा मानक खड़ा कर जाएंगी जिसे हासिल कर पाना दशकों तक संभव न हो सकेगा। निश्चित तौर पर भविष्य में उनके रिकॉर्ड टूटेंगे, लेकिन निकट भविष्य में ऐसा होता तो नहीं दिख रहा।

मेक्सिको में 1968 में हुए ओलम्पिक के दौरान लंबी कूद के एथलीट बॉब बीमॉन ने 8.9 मीटर लंबी छलांग लगाकर नया विश्व कीर्तिमान रचा था और उसे तब ‘सदी की छलांग’ कहा गया था। बीमॉन के उस रिकॉर्ड को 23 साल बाद माइक पॉवेल ने विश्व चैम्पियनशिप में तोड़ा, लेकिन ओलम्पिक रिकॉर्ड 47 वर्षो के बाद भी जस का तस है।

अब लोगों के जहन में एक ही सवाल गूंजता रहेगा कि बोल्ट और फेल्प्स के रिकॉर्ड अब कब टूटेंगे?

यह भी पढ़े: रियो ओलम्पिक (तैराकी) : फेल्प्स ने जीता करियर का 23वां स्वर्ण पदक

  • SHARE

    आईएएनएस एक न्यूज़ मिडिया कम्पनी है, जों दुसरे न्यूज़ मिडिया कों सभी प्रकार की खबरे प्रदान करती है. आईएएनएस खेल, राजनीती और बालीवुड के अलावा अन्य सभी प्रकार की खबरे अपने मिडिया पार्टनर कों प्रदान करता है.

    Related Articles

    पाकिस्तान के बाद अब बांग्लादेश में फैला सट्टेबाजी का जिन्न, 77 लोग हुए गिरफ्तार

    इन दिनों बांग्लादेश का टी20 क्रिकेट लीग बांग्लादेश प्रीमियर लीग खेला जा रहा है. यह बांग्लादेश प्रीमियर लीग का पांचवा सीजन है और बांग्लादेश...

    डिकवेला का समर्थन करना रसेल अर्नोल्ड को पड़ा महंगा, भारत ने ऐसे बनाया मजाक

    भारत और श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच कोलकत्ता में खेला गया था. इस रोमांचक टेस्ट ड्रा होने के बाद श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज़...

    आई-लीग का 11वां संस्करण 25 नवंबर से, 3 नई टीमें शामिल

    नई दिल्ली, 21 नवंबर; भारत की शीर्ष स्तरीय फुटबाल लीग हीरो आई-लीग के 11वें संस्करण की शुरुआत 25 नवंबर से हो रही है। इस साल...

    WWE NEWS: सरवाइवर सीरीज में ब्रोक लेसनर से हारने के बाद एजे स्टाइल्स ने...

    इस बार की सरवाइवर सीरीज में कई ड्रीम मैच देखने को मिले जिसमे एक था ब्रोक लेसनर और एजे स्टाइल्स के बीच. इस मैच...

    कापेकोइंस के ‘जीवित बचे’ खिलाड़ी फोलमान की नजर पैरालम्पिक पर

    रियो डी जनेरियो, 21 नवंबर; एक खिलाड़ी भले ही किसी भी स्थिति में हो, लेकिन खेल के प्रति उसका जुनून कभी कम नहीं होता। फिर...