रियो ओलिम्पिक में भारत का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक भरा रहा था, टेनिस से पदक की उम्मीद थी लेकिन सानिया मिर्ज़ा और रोहन बोपन्ना की जोड़ी सेमी फाइनल मुकाबले में अमेरिकी जोड़ी से हार गयी थी. सानिया मिर्ज़ा और लीएंडर पेस के रिश्ते कुछ अच्छे नहीं रहे यही एक कारण था कि भारत ने रियो में मिक्स्ड डबल्स मुकाबले में अपनी सबसे बेहतर टीम नहीं भेजी.

यह भी पढ़े : हार से निराश सानिया का अगले ओलम्पिक में खेलने पर संदेह

“मैं यह कह सकता हूं कि हमने इस ओलिम्पिक और पिछले ओलिम्पिक में अपनी सर्वश्रेष्ट टीम नहीं भेजी. इस ओलिम्पिक में हमारे पास मिक्स्ड डबल्स मुकाबले में सुनेहरा मौका था, एक इंसान को इससे ज्यादा और क्या चाहिए कि 14 महीनो में 4 ग्रैंड स्लैम ख़िताब जीत जाये. मेरे पास और टूर्नामेंट नहीं थे जीतने के लिए, मैं खुद से टूर्नामेंट तैयार नहीं कर सकता.”

लीएंडर पेस ने ऐसा कहने के बाद आख़िरी में बोला, कि बड़ी कहानी को छोटे रूप में बताता हूं  अब समय है इन युवा खिलाड़ियों को सीखाने का.

सानिया मिर्ज़ा जोकि रोहन बोपन्ना के साथ रियो ओलिम्पिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए गयी थी, उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर लीएंडर पेस पर कटाक्ष करते हुए लिखा, कि

यह भी पढ़े : टेनिस : विंस्टन-सालेम ओपन फाइनल में पेस-बेगेमैन की हार

“किसी ज़हरीले व्यक्ति के साथ जीतने का सबसे अच्छा तरीका है खेलो ही नहीं.”

आश्चर्य की बात यह रही कि रोहन बोपन्ना ने भी सानिया के इस ट्वीट को रीट्वीट किया. सानिया और बोपन्ना को रियो ओलिम्पिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया था, लेकिन पहले सेमी फाइनल मुकाबले में और उसके बाद कांस्य पदक मैच में हार का सामना करना पड़ा था.

लीएंडर पेस डेविस कप में स्पेन के खिलाफ अपने मैच के बाद मीडिया से बात कर रहे थे और तब उन्होंने कहा कि वह साकेत मयेनी के साथ भविष्य में भी टेनिस खेलना चाहेंगे.

“मैं हमेशा से यह मानता आया हु कि यह कप्तान और चयन समिति का फैसला होता है, लेकिन हम दोनों ने जिस तरह का खेल ओलिम्पिक स्वर्ण पदक विजेता टीम के सामने दिखाया जिसमे एक 14 बार का ग्रैंड स्लैम विजेता है तो दूसरा खिलाड़ी भी हाल ही में एक ग्रैंड स्लैम जीत कर आया है, ऐसी टीम के खिलाफ ऐसा प्रदर्शन दिखने के बाद कुछ भी बदलाव करना बेवकूफी होगी. लेकिन अंत में मैं यहाँ टीम का साथ देने आया हूं.” 

43 वर्षीय पेस ने कहा कि 18 महीने बाद एशियाई खेल आने वाले है और 4 साल बाद ओलिम्पिक, मुझे नहीं पता की तब तक मैं खेलूँगा या नहीं लेकिन हमे अभी से तैयारी शुरू करनी पड़ेगी नहीं तो खिलाड़ी आखिर तक यही लड़ाई चलती रहेगी कि किसे खेलना है और किसे नहीं.

  • SHARE

    सभी खेलों में दिलचस्पी है लेकिन सबसे पसंदीदा खेल क्रिकेट, पसंदीदा खिलाड़ी विराट कोहली और नोवाक जोकोविच.

    Related Articles

    डिकवेला और शमी विवाद में कूद पड़े रसेल अर्नाल्ड विराट कोहली को निशाना पर...

    भारतीय टीम और श्रीलंकाई टीम के बीच आज सोमवार को कोलकता के ईडन गार्डन में पहला टेस्ट मैच ड्रा पर खत्म हो गया है,...

    शादी से पहले शिखर धवन ने भुवनेश्वर कुमार को कहा जोरू का गुलाम, तो...

    कोलकाता में भारत और श्रीलंका के बीच खेला जा रहा पहला टेस्ट मैच बिना किसी के समाप्त हो गया. कोलकाता टेस्ट भले ही ड्रा...

    ‘विश्व बाल दिवस’ के मौके पर सचिन तेंदुलकर ने बच्चों को जीवन में सफलता...

    क्रिकेट की दुनिया में अनगिनत रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने बच्चों को अपने एक बयान...

    जब मैदान पर लोकेश राहुल की यह बात सुन जोर जोर से हँसने लगी...

    ईडन गार्डन में खेल गया पहला टेस्ट ड्रा रहा. मगर इस मैच में टीम के सभी खिलाड़ियों के प्रदर्शन ने दिल जीत लिया.  पहली...

    विराट कोहली या रवि शास्त्री नहीं, बल्कि इस पूर्व दिग्गज भारतीय कप्तान को दिया...

    कोलकाता के ईडन गार्डन में भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया मुकाबला पहला टेस्ट भले ही ड्रा साबित हुआ हो. मगर भारतीय टीम...