बैडमिंटन:जापान ओपन में हुए उलटफेरों के बाद,रैंकिंग में बन रहा उठा-पटक का माहौल

Trending News

Blog Post

बैडमिंटन

बैडमिंटन: जापान ओपन में बड़े उल्टफेरों के बाद रैंकिंग्स में हो सकते हैं बड़े बदलाव, ये होगी सिंधु की नई रैंक 

बैडमिंटन: जापान ओपन में बड़े उल्टफेरों के बाद रैंकिंग्स में हो सकते हैं बड़े बदलाव, ये होगी सिंधु की नई रैंक

बैडमिंटन जापान ओपन 2018 में भारतीय शटलरों के ख़राब प्रदर्शन के बाद रैंकिंग में बड़ा उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है। हालाँकि भारतीयों पर ज्यादा संकट मंडराता नज़र नहीं आ रहा है। लेकिन मौजूदा नंबर-1, डेनमार्क के विक्टर एक्सेल्सन से नंबर-1 का ताज छिन सकता है।

वहीँ महिला सिंगल्स में ताइ ज़ू यिंग, केवल दूसरे राउंड में ही बाहर होने के बावजूद, पहले स्थान पर ही बनी रहेंगी। आइये डालते हैं एक नज़र किसके सर पर सज सकता है ताज।

पीवी सिन्धु कम से कम दो स्थान नीचे गिर सकती हैं

बैडमिंटन: जापान ओपन में बड़े उल्टफेरों के बाद रैंकिंग्स में हो सकते हैं बड़े बदलाव, ये होगी सिंधु की नई रैंक 1

लेकिन टॉप सीडेड भारतीय, महिला एकल खिलाड़ी, पीवी सिन्धु कम से कम दो स्थान नीचे लुढ़क सकती हैं। क्योंकि सिन्धु के दूसरे राउंड में ही बाहर हो जाने और चीनी खिलाड़ी, चेन यूफ़ी का सेमीफाइनल में पहुंचना। महिला एकल रैंकिंग्स में उठा-पटक का माहौल बना सकता है।

स्पेन की कैरोलिना मारिन की टॉप-5 में वापसी तय है और साइना नेहवाल, टॉप-10 से बाहर होती नज़र आ रही हैं।

किदाम्बी श्रीकांत बने रहेंगे टॉप-10 में

बैडमिंटन: जापान ओपन में बड़े उल्टफेरों के बाद रैंकिंग्स में हो सकते हैं बड़े बदलाव, ये होगी सिंधु की नई रैंक 2

किदाम्बी श्रीकांत, हालाँकि क्वार्टर फाइनल में ही बाहर हो चले थे। लेकिन उनकी रैंकिंग में बदलाव के कोई ज्यादा चांस नज़र नहीं आ रहे हैं। यदि उनकी रैंकिंग में गिरावट देखी भी जाती है तो वो टॉप-10 से बाहर नहीं होने जा रहे।

वहीँ पुरुष एकल के मौजूदा नंबर-1, विक्टर एक्सेल्सन क़रीबी अंतर से नंबर-1 बने रहेंगे। जापान के केंटो मोमोटा(3) फाइनल में पहुँच चुके हैं और उनका सामना अपने से कहीं नीची रैंकिंग के खिलाड़ी से होने जा रहा है।

कोरिया के ली डोंग किउन और थाईलैंड के खोसित फेत्प्रदाब, लम्बी छलांग लगाने को बेताब हैं। क्योंकि इन दोनों ने बड़े-बड़े दिग्गजों को मात देकर सेमीफाइनल और फाइनल में जगह बनाई थी।

Related posts

Leave a Reply