खिलाड़ियों के यो-यो टेस्ट में फेल होने पर सबा करीम ने कहा तैयारी के लिए मिला था उचित समय

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भारतीय चयनकर्ता सबा करीम ने मोहम्मद शमी, संजू सैमसन और अम्बाती रायडू को लगाई फिटनेस टेस्ट में फेल होने पर फटकार 

भारतीय चयनकर्ता सबा करीम ने मोहम्मद शमी, संजू सैमसन और अम्बाती रायडू को लगाई फिटनेस टेस्ट में फेल होने पर फटकार

आईपीएल के बीच बीसीसीआई ने अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच और यूके में सीमित ओवरों के लिए भारतीय टीम का ऐलान किया था जिसके बाद फिटनेस टेस्ट किया गया और कई खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन के बाद बाहर होना पड़ा है। परंपरागत रूप से, यो-यो टेस्ट टीम चयन से पहले आयोजित किया जाता है, लेकिन आईपीएल और लॉजिस्टिक जरूरतों के कारण सीमित ओवरों के स्क्वॉड्स को पहले ही टीम का ऐलान कर दिया गया।

भारतीय चयनकर्ता सबा करीम ने मोहम्मद शमी, संजू सैमसन और अम्बाती रायडू को लगाई फिटनेस टेस्ट में फेल होने पर फटकार 1

टेस्ट टीम और वनडे टीम में क्रमशः मोहम्मद शमी और अंबाती रायुडू को बाहर होना पड़ा जिससे बोर्ड को भी झटका लगा है। संजू सैमसन भी इंग्लैंड दौरे के लिए एक दिवसीय टीम में भारत ए के चयन के बाद फिटनेस टेस्ट में विफल रहे।

“यह (यो-यो परीक्षण) हमेशा टीम के चयन से पहले आयोजित किया जाता है। इस बार आईपीएल की वजह से बदलाव हुआ। हमें तर्कसंगत कारणों से शुरुआती टीमों को चुनना है, इसलिए हम आईपीएल के दौरान खिलाड़ियों को खींच नहीं सकते थे और उन्हें फिटनेस टेस्ट के माध्यम से जाना था। आईपीएल खत्म होने के बाद हमने इसका आयोजन किया। और सभी खिलाड़ियों को इसके लिए तैयार करने के लिए पर्याप्त समय दिया गया.” करीम ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए बताया।

भारतीय चयनकर्ता सबा करीम ने मोहम्मद शमी, संजू सैमसन और अम्बाती रायडू को लगाई फिटनेस टेस्ट में फेल होने पर फटकार 2
©IPL/BCCI

“इससे पहले, यदि आपने देखा है, सुरेश रैना और युवराज सिंह के मामले में, फिटनेस टेस्ट टीम चयन से पहले आयोजित किए गए थे। यह हमेशा अतीत में ऐसा ही हुआ। इस बार, टीमों की घोषणा के पल में, चाहे वह भारत ए टीम या टीम इंडिया थी, खिलाड़ियों को पता था कि उन्हें फिटनेस टेस्ट से गुजरना पड़ेगा। तो उनके पास तैयार करने के लिए पर्याप्त समय था। यही कारण है कि उनमें से बहुत से अच्छी तरह से तैयार हुए और टीम में जगह मिल गयी.” करीम ने कहा।

टीम का चयन 8 मई को किया गया था, जिससे खिलाड़ियों को फिटनेस परीक्षणों के लिए तैयार करने के लिए पांच सप्ताह की अनुमति मिली थी। यो-यो टेस्ट को क्लियर करने की न्यूनतम आवश्यकता 16.1 है, जो शीर्ष क्रिकेट खेलने वाले देशों में सबसे कम है। बाकी के देशों में इससे भी ज्यादा पॉइंट लाने पड़ते है।

भारतीय चयनकर्ता सबा करीम ने मोहम्मद शमी, संजू सैमसन और अम्बाती रायडू को लगाई फिटनेस टेस्ट में फेल होने पर फटकार 3

साथ ही टेस्ट क्रिकेट में शानदार गेंदबाजी करने वाले मोहम्मद शमी भी इस बार यो-यो टेस्ट में फेल हुए और अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट से बाहर होना पड़ा। इसके बाद उनकी जगह नवदीप सैनी को मौक़ा दिया गया था।

“शमी लगभग पूरे आईपीएल में बेंच पर बैठे थे। उन्होंने अपनी फिटनेस पर काम नहीं किया। रायुडू को यह भी पता था कि उन्हें 16.1 स्कोर करने की जरूरत थी और उनकी फिटनेस के लिए तैयार होने के लिए उनके पास पांच सप्ताह थे। सैमसन भी आईपीएल के दौरान फिटनेस पर ध्यान नहीं दे रहे थे। वह सिर्फ नेट पर बल्लेबाजी कर रहे थे। हर कोई जानता है कि 16.1 न्यूनतम है, जो गैर-विचारणीय है.” बोर्ड कार्यकर्ता ने कहा।

इस प्रकार सबा करीम का यही कहना है कि खिलाड़ियों ने उचित तैयारी नहीं की लेकिन उनके पास समय था। सबा करीम जो वर्तमान में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत है। भारतीय टीम को आयरलैंड के खिलाफ 2 टी20 मैच खेलने है जबकि इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ लंबी सीरीज खेलनी है।

Related posts

Leave a Reply