क्रिकेट के 10 अजीबो-गरीब नियम

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो हर उम्र वर्ग के बीच लोकप्रिय है और खेल प्रेमी क्रिकेट को लेकर मूलभूत जानकारी तो रखते ही हैं लेकिन क्या आपको पता है कि क्रिकेट में कुछ अजीबो-गरीब नियम भी बनाए गए हैं | जिनकी ओर शायद ही हमने कभी गौर किया हो|  आइये जानते है क्रिकेट के वह दस नियम:

1 . बल्लेबाज़ चाहे आउट हो या नोट आउट, फील्डिंग टीम को अपील करना जरुरी :

क्रिकेट में बल्लेबाज़ आउट तभी घोषित किया जाता है अगर फील्डिंग टीम ने इसके लिए अपील किया हो | इस नियम के तहत बल्लेबाज़ चाहे आउट है या नहीं ,फील्डिंग टीम को हमेशा अपील करना चाहिए |

2 . हेलमेट को लेकर सजा :

अगर गेंद विकेट कीपर के ज़मीन पर रखे हुए हेलमेट को छूती लेती है तो ये एक दंड के रूप में घोषित किया जाता है ओर बल्लेबाज़ को पांच रन दिए जाते हैं|

3 . लेग बिफोर विकेट :

अगर गेंद बल्लेबाज़ के शरीर के किसी भी भाग को लगती है जो कि विकेट के सामने है (जरुरी नहीं कि सिर्फ पैरों पर) तो उसे अंपायर के व्याख्यान के आधार पर आउट करार दिया जा सकता है | 

4 . खेल को खेल की भावना से खेलना सर्वोच्च प्राथमिकता :

खेल में किसी की हार तो किसी की जीत होनी है और जीतने के लिए दोनों टीमें अपनी पुरज़ोर कोशिश करती हैं | पर खेल को व्यक्तिगत रूप से नहीं, खेल की भावना व् ईमानदारी से खेलना चाहिए|

5 .एक गेंद पर दो बार बल्ला चलाना मतलब ‘आउट’ :

अगर बल्लेबाज़ डाली गई एक गेंद पर दो बार बल्ला चलाता है तो उसे आउट घोषित किया जा सकता है|हालाँकि अनजाने में दोबार बल्ला चलाने पर ऐसा नहीं है |

6 . हेलमेट सुरक्षा के लिए है, विकेट लेने के लिए नहीं :

अगर फील्डर हेलमेट पर बॉल लगने के बाद सच पकड़ता है तो इसे आउट करार नहीं दिया जायेगा | शरीर के अन्य किसी भाग को छूने के बाद अगर बॉल कैच की जाती है तो बल्लेबाज़ आउट माना जायेगा|

7 . “स्पाइडर कैमरा”  कोई फील्डर नहीं :


अगर बॉल ग्राउंड पर रेंगते हुए स्पाइडर कैमरे को लगती है तो इसे डेड बॉल माना जायेगा | फिर चाहे वो यकीनन चौका, छक्का या कैच ही क्यों न हो |

8 . मैन कडिंग :


अगर बल्लेबाज़ी करने वाले खिलाडी के सामने वाला बल्लेबाज़ क्रीज़ से बाहर खड़ा हो और बोलिंग करने वाला खिलाडी बोलिंग करते वक़्त उसकी विकेट गिरा दे तो वो नॉन-स्ट्राइकर बल्लेबाज़ आउट कहा जायेगा|

9 . ‘बॉडी लाइन’ को रोकने के लिए प्रावधान :


क्रिकेट में हम सभी प्रारूपों में लेग साइड के पीछे की तरफ दो से ज़्यादा फील्डरों को नहीं रख सकते | खेल की भावना को ध्यान में रखते हुए ऐसा नियम बनाया गया है|

10 . एक नियम जो शायद ही कभी लागु किया जाता है :


बल्लेबाज़ द्वारा लगाये गए छक्के को रोकने के लिए फील्डर छलांग लगाकर गेंद को बॉउंड्री से बाहर जाने से रोक सकता है लेकिन फिर भी अगर गेंद बॉउंड्री की रस्सी को लांघ रही होती है तो फील्डर बॉउंड्री के बाहर नही जा सकता |
आप ये वीडियो देखिये खुद समझ जाएंगे |

Related Topics