3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट 

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट

क्रिकेट में कई अनचाहे रिकार्ड्स होते हैं। कोई भी खिलाड़ी इन रिकॉर्ड को अपने नाम में नहीं जोड़ना चाहता। ऐसा ही रिकॉर्ड है, लगातार टेस्ट पारियों में बिना खाता होते आउट होना। टेस्ट क्रिकेट इतिहास में तीन ऐसे खिलाड़ी हुए हैं जो लगातार 5 पारियों में अपना खाता भी नहीं खोल सकते हैं। इसमें एक ऐसा भी नाम है, जिसने क्रिकेट क्रिकेट में शतक भी बनाया है। आईये आपको इन सभी के बारे में बताते हैं।

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट 1

बॉब हॉलैंड

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट 2

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व गेंदबाज बॉब हॉलैंड पहले खिलाड़ी थे, जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता नहीं खोल पाए थे। उन्होंने 1984 से 1986 के बीच ऑस्ट्रेलिया के लिए 11 टेस्ट मैच खेले हैं और ज्यादातर नंबर 11 पर बल्लेबाजी की।

15 अगस्त 1985 से 22 नवंबर 1985 के बीच इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के खिलाफ वह लगातार 5 पारियों में बिना रन नहीं बनाये आउट होते थे। अपने टेस्ट करियर के 15 पारियों में वह 8 बार खाता नहीं खोल पाए थे।

अजित अगरकर

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट 3

लॉर्ड्स में शतक बनाने वाले अजित अगरकर के नाम क्रिकेट का अनचाहा रिकॉर्ड दर्ज है। वह लगातार 5 टेस्ट पारियों में बिना खाता खोले आउट हो चुके हैं। इसमें पहली चार पारियों में तो वह पहली गेंद पर ही आउट हो गए।

1999 के अंत में तीन टेस्ट मैच के लिए भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई थी और अगरकर उस भारतीय टीम का हिस्सा भी थे। दौरे के पहले टेस्ट की पहली पारी में उनके बल्ले से 19 रन निकले। इसके बाद खेली सभी 5 पारियों में वह खाता खोले बिना आउट हुए।

मोहम्मद आसिफ

3 बल्लेबाज जो लगातार 5 टेस्ट पारियों में खाता खोले बिना हुए आउट 4

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज मोहम्मद आसिफ भी टेस्ट मैच में लगातार 5 पारियों में बिना खाता खोले आउट हो चुके हैं। यह सिलसिला भारत के खिलाफ 2006 के फैसलाबाद टेस्ट में शुरू हुआ था और उसी साल इंग्लैंड के खिलाफ ओवल तक चलता रहा।

फैसलाबाद टेस्ट में वह जहीर खान की गेंद पर आउट हुए। इसके बाद सीरीज के अगले मैच में उन्हें एक ही पारी खेलने को मिली और उसमें भी खाता नहीं खोल पाए। श्रीलंका दौरे पर भी दो टेस्ट में मिली दो पारियों में वह खाता नहीं खोल पाए। उन्होंने जनवरी 2007 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छठवीं पारी में खता खिला।

Related posts