4 भारतीय खिलाड़ी, जो अपने साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से नाइनटीज पर नाबाद रह गए 1

अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम में ऑलराउंडर खिलाड़ी वाशिंगटन सुंदर ने एक शानदार पारी खेली. उन्होंने भारत के लिए 174 गेंदों पर 96 रन की एक नाबाद पारी खेली है. उन्होंने अपनी इस पारी में 10 चौके और 1 छक्का लगाया है. हालांकि वह अपने साथी खिलाड़ी मोहम्मद सिराज और ईशांत शर्मा की वजह से शतक से चूक गए हैं.

साथी खिलाड़ियों की वजह से मात्र 4 रन से शतक से चुके सुंदर

4 भारतीय खिलाड़ी, जो अपने साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से नाइनटीज पर नाबाद रह गए 2

दरअसल, इस मैच में भारत की पारी का 115 ओवर की शुरूआत में स्ट्राइक पर ईशांत शर्मा थे और सुंदर नॉन स्ट्राइक पर खड़े थे. ईशांत शर्मा, बेन स्टोक्स की पहली ही गेंद पर एलपीडब्लू आउट हो गए.

इसके बाद अंतिम विकेट के लिए बल्लेबाजी करने आए मोहम्मद सिराज ने अगली 2 बॉल सही तरह से खेल ली, लेकिन स्टोक्स के इस ओवर की चौथी गेंद पर वह भी बोल्ड हो गए और वाशिंगटन सुंदर मात्र 4 रन से अपना शतक पूरा नहीं कर पाए.

3 और भारतीय बल्लेबाजों के साथ हो चूका ऐसा

4 भारतीय खिलाड़ी, जो अपने साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से नाइनटीज पर नाबाद रह गए 3

वाशिंगटन सुंदर अपने साथी खिलाड़ियों की वजह से नाइनटीज के स्कोर पर नाबाद रहने वाले पहले खिलाड़ी नहीं हैं. उनसे पहले 3 और भारतीय बल्लेबाज साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से नाइनटीज के स्कोर पर नाबाद रह चुके हैं.

साल 1974 में गुंडप्पा विश्वनाथ साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से 97 रन पर नाबाद रह गए. वहीं दिलीप वेंगरसकर भी 1985 में 98 रन पर नाबाद रह गए थे. वहीं रविचंद्रन अश्विन भी साल 2012 में इंग्लैंड के खिलाफ 91 रन के स्कोर पर नाबाद रह गए थे.

भारतीय बल्लेबाज नाइनटीज में नाबाद रहे और कोई साथी नहीं बचा

जी विश्वनाथ 97 * v वेस्टइंडीज चेन्नई 1974/75
डी वेंगसरकर 98 * v श्रीलंका कोलंबो 1985
आर अश्विन 91 * v इंग्लैंड कोलकाता 2012/13
डब्ल्यू सुंदर 96 * v इंग्लैंड अहमदाबाद 2020/21 *

द्रविड़ और गांगुली भी नाइनटीज में नाबाद रहे

4 भारतीय खिलाड़ी, जो अपने साथी खिलाड़ियों के आउट होने की वजह से नाइनटीज पर नाबाद रह गए 4

भारतीय क्रिकेट के 2 और दिग्गज नाइनटीज पर नाबाद रहे हैं. हालांकि इस दौरान मैच ड्रॉ हो गया था, इसलिए वह इस नाबाद रह गए. इन दोनों बल्लेबाजों को अपने साथी खिलाड़ियों से धोखा नहीं मिला. मतलब भारत के सभी 10 विकेट नहीं गिरे थे.

दरअसल, इन दोनों मौकों पर जब गांगुली और द्रविड़ नाइनटीज पर थे, तो मैच को ड्रॉ घोषित कर दिया था, जिस वजह से वह अपना शतक पूरा नहीं कर पाए.

नाइनटीज में भारतीय बल्लेबाज नाबाद रहे (टेस्ट में)

एक वाडेकर (91 *)
जी विश्वनाथ (97 *)
डी वेंगसरकर (98 *)
एस गांगुली (98 *)
आर द्रविड़ (91 *)
आर अश्विन (91) *
डब्ल्यू सुंदर (96 *) आज

 

vineetarya

cricket is my first and last love, I know cricket only cricket, I love watching cricket because cricket is my passion and my passion is my work my favourite player Mike Hussey and Kl Rahul