5 ऐसे मौके जब भारतीय गेंदबाजो के सामने बेबस नजर आई श्रीलंका की बल्लेबाजी | Sportzwiki

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

5 ऐसे मौके जब भारतीय गेंदबाजो के सामने बेबस नजर आई श्रीलंका की बल्लेबाजी 

5 ऐसे मौके जब भारतीय गेंदबाजो के सामने बेबस नजर आई श्रीलंका की बल्लेबाजी

भारत और श्रीलंका के बीच 3 टेस्ट मैचो की सीरीज का आगाज बुधवार(26 जुलाई) से होगा. श्रीलंका के कुमार संगकारा, महेला जयवर्धने, सनथ जयसूर्या, मारवन अटापट्टू जैसे अन्य श्रीलंकन बल्लेबाज़ भारत के विरुद्ध हमेशा अच्छा प्रदर्शन करते आये हैं. पिछले 2 दशको में दोनों टीमों के बीच एक हमेशा एक अच्छी प्रतियोगिता देखने को मिलती रही हैं, हालाँकि इन दिग्गज बल्लेबाजों के संन्यास के बाद श्रीलंका की टीम कुछ कमजोर मानी जा रही हैं.

भारत ने वर्ष 2015 में श्रीलंका का आख़िरी दौरा किया था, इस सीरीज में भारत को पहले टेस्ट में हार का सामना करना था, हालाँकि बाद के दोनों टेस्ट में जीत दर्ज करके विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम ने लगभग 2 दशको बाद श्रीलंका में टेस्ट सीरीज जीती थी. श्रीलंका और भारत के विरुद्ध सीरीज शुरू होने से ठीक पहले आज इस लेख में हम श्रीलंका के विरुद्ध भारतीय गेंदबाजों द्वारा 5 सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी स्पेल को याद करेगे:-

1) रविचंद्रन अश्विन: 5/42, कोलंबो में दूसरा टेस्ट, 20 अगस्त 2015

©Associated Press

वर्ष 2015 में खेली गई 3 टेस्ट मैचो की सीरीज में गाले टेस्ट हारने के बाद भारत सीरीज में 0-1 से पीछा था. इस मैच में रोमांच खेल के तीसरे दिन आये. भारत के 393 रनों के जवाब में श्रीलंका की टीम 306 रनों पर आउट हुई और भारत को पहली पारी के आधार पर 87 रनों की बढ़त मिली.

जिसके बाद भारतीय ने 87 रनों की बढ़त को आगे बढाते हुए शानदार बल्लेबाज़ी की और चौथे दिन के दुसरे सत्र के बाद 325/8 के स्कोर के बाद पारी घोषित की और श्रीलंका को 413 रनों का लक्ष्य दिया.

413 रनों के कठिन लक्ष्य के जवाब में श्रीलंका के बल्लेबाज़ ऑफ-स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के सामने बेबस दिखाई दिए और 44 ओवरों की गेंदबाज़ी के बाद महज 134 रनों पर पूरी टीम आउट हो गई. मैच में अश्विन ने कौशल सिल्वा (1), दीमुथ करुर्तेत्ने (46), कुमार संगकारा (18), लाहिरू थिरिमाने (11) और धमाका प्रसाद (0) के विकेट सहित 5/42 का प्रदर्शन किया.

2) हरभजन सिंह: 6/102, गाले में दूसरा टेस्ट, 31 जुलाई से 3 अगस्त, 2008

©Getty Images

यह मैच हमेशा वीरेंदर सहवाग की तूफ़ानी 201* की पारी की लिए याद किया जाता है, हालाँकि इस मैच में हरभजन सिंह ने भी भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई थी.

मैच में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए सहवाग के नाबाद 201 रनों की मदद से 329 रन बनायें, जिसके बाद हरभजन सिंह के शानदार स्पेल की मदद से भारत को 37 रनों की महत्वपूर्ण बढ़त मिली. श्रीलंका की पारी के दौरान हरभजन सिंह ने श्रीलंका के मध्यक्रम को तहस-नहस कर दिया.

हरभजन सिंह ने मलिंडा वर्णापुर (66), कुमार संगकारा (68), तिलकरत्ने दिलशान (0), थिलन समरवीरा (14), प्रसन्ना जयवर्धने (24) और मुथैया मुरलीधरन (0) की विकेट हासिल की, जिसकी मदद से श्रीलंका की टीम 292 रनों पर आल-आउट हुई.

दूसरी पारी में श्रीलंका ने शानदार गेंदबाजी की और भारत और 269 रनों पर रोका जिसके बाद श्रीलंका को जीत के लिए 307 रनों का लक्ष्य मिला. हालाँकि जवाब में श्रीलंका की टीम महज 136 रनों पर ढेर हो गई और भारत ने मैच 170 रनों से जीता.


3) जहीर खान: 4/76
, कैंडी में दूसरा टेस्ट, 22 अगस्त से  26 अगस्त 2001

©Getty Images

पूर्व तेज गेंदबाज़ ज़हीर खान अपने दौर के सबसे शानदार गेंदबाजो में शामिल रहे. कैंडी में खेले गए इस टेस्ट में श्रीलंका ने पहली पारी में 274 रनों के जवाब में शानदार गेंदबाजी की ओर भारत पर 42 रनों की बढ़त हासिल की. दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाज़ पर श्रीलंका को सस्ते में आउट करने का दवाब था, जिसके जवाब में ज़हीर खान ने अपने करियर का सबसे शानदार स्पेल डाला.

ज़हीर ने मैच में सनथ जयसूर्या (6), कुमार संगकारा (13), महेला जयवर्धने (25) और रसेल अर्नोल्ड (4) के महत्वपूर्ण विकेट हासिल किये और मैच में भारत की वापसी कराई. ज़हीर के आलावा उनके गेंदबाज़ी जोड़ीदार वेंकटेश प्रसाद ने भी पारी में 5 विकेट हासिल किये.

इसके बाद भारत को 264 रनों का लक्ष्य मिला, जिसे भारत ने 3 विकेट गवाकर हासिल कर लिया. ज़हीर ने मैच में कुल 138 रन देकर 7 विकेट हासिल किये और भारत की जीत में अहम भूमिका अदा की.
4) एस. श्रीसंत: 5/75, कानपुर में दूसरा टेस्ट, 24 नवंबर से 28 नवंबर, 2009

©Getty Images

वर्ष 2009 में श्रीलंका के भारत दौरे का यह दूसरा टेस्ट था, जोकि नागपुर में खेला गया. मैच में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए गौतम गंभीर (167), वीरेंद्र सहवाग (131) और राहुल द्रविड़ (144) की शानदार पारियों की मदद से 642 रन बनायें. भारत की शानदार बल्लेबाज़ी के बाद श्रीलंका दवाब में आ गई, जिसका फ़ायदा श्रीसंत ने उठाया.

श्रीलंका की पारी के दौरान ज़हीर ने भारत को दिलशान के रूप में पहली सफतला दिलाई, जिसके बाद कुमार संगकारा, थरंगा परानाविताना ने 82 रनों की साझेदारी बनाकर श्रीलंका को संकट से निकाला, हालाँकि इसके बाद श्रीसंत ने अपने दुसरे स्पेल में श्रीलंका की बल्लेबाज़ी क्रम की कमर तोड़ दी और 5 बल्लेबाजों का शिकार किया.

श्रीसंत ने हरना परनविताना (38), कुमार संगकारा (44), थिलन समरवीरा (2), प्रसन्ना जयवर्धने (39) और रंगना हेराथ (11) के रूप में 5 विकेट हासिल किये. दूसरी पारी में श्रीसंत ने 1 विकेट हासिल किया. भारत ने यह मैच पारी और 144 रनों से जीता.
5) अनिल कुंबले: 6/72, दिल्ली में दूसरा टेस्ट, 10 दिसंबर से 14 दिसंबर, 2005

©Global Cricket Ventures-BCCI

वर्ष 2005 में खेला भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया टेस्ट 2 दिग्गज स्पिनर अनिल कुंबले और मुथैया मुरलीधरन के शानदार प्रदर्शन के लिए याद किया जाएगा. दिल्ली टेस्ट की पहली पारी में मुरलीधरन के 7/100 के शानदार स्पेल के बाद भारत की टीम महज 290 पर आउट हो गई.

हालाँकि जवाब में अनिल कुंबले के 6/72 के स्पेल के बाद श्रीलंका की टीम पहली पारी में 60 रनों से पिछड गई. एक समय श्रीलंका का स्कोर 175/2 था, हालाँकि इसके बाद कुंबले ने मैच का रुक भारत की ओर मोड़ दिया.

पहले ने पहले महेला जयवर्धने(60) की विकेट ली, जिसके बाद कुंबले ने थिलन समरवीरा(1) और तिलकरत्ने दिलशान(0) को जल्दी-जल्दी पवेलियन वापसी भेजा जिसके बाद श्रीलंका का स्कोर 179/5 हो गया. इसके कुछ देर बाद मर्वन अट्टापट्टू(88) और आउट हुए और श्रीलंका का स्कोर 198/6 हो गया. अट्टापट्टू के आउट होने के बाद चमिंडा वास (1) और मुरलीधरन (9) भी कुंबले का शिकार बने और पूरी टीम 230 रनों पर आल-आउट हो गई.

इसके बाद दूसरी पारी में भारत 375/6 का स्कोर बनाया और श्रीलंका को 436 रनों का लक्ष्य दिया. दूसरी पारी में कुंबले ने 4 विकेट लिए, और श्रीलंका की टीम केवल 247 रन ही बना पाई. भारत ने यह मैच 188 रनों से जीता.

Related posts