5 सबसे महंगे घरेलू खिलाड़ी, जिन्‍हें आईपीएल-9 में मौका पाने का इंतजार

abhinigam / 11 May 2016

पैसों से लबरेज आईपीएल ने इतने वर्षों में कई युवा क्रिकेटरों के भाग्‍य बदल कर रख दिए हैं। फिर चाहे बात पैसों की हो या फिर आकर्षक मौकों की। आईपीएल युवा भारतीय क्रिकेटरों के लिए ऐसा मंच बन गया है, जिसके द्वारा वह अपनी प्रतिभा का क्रिकेट जगत के सामने प्रदर्शन कर सकते हैं। फ्रेंचाइजियों को भी घरेलू खिलाडि़यों की अहमियत पता है और इसलिए वह कई उभरते खिलाडि़यों पर मोटी रकम खर्च करने से हिचकिचाती नहीं हैं। 2016 आईपीएल में भी यह ट्रेंड जारी है जहां कई घरेलू खिलाडि़यों को महंगी कीमत पर खरीदा गया है।

हालांकि सभी को यह जानकर आश्‍चर्य होगा कि कुछ खिलाडि़यों को आकर्षक अनुबंध जरूर मिले, लेकिन वह मौजूदा आईपीएल में एक मैच खेलने का इंतजार कर रहे हैं। इसके कारण फ्रेंचाइजी ही बेहतर जानते हैं। स्‍पोट्जवीकी ने उन पांच सबसे महंगे घरेलू खिलाडि़यों को खोजने की कोशिश की, जिन्‍होंने आईपीएल-9 में मैच खेलने का इंतजार हैं। पैसों के हिसाब से हमने क्रम निर्धारित किया है-

नाथु सिंह- 3.2 करोड़ रुपए
nathu

नाथु सिंह ने सभी का आकर्षण अपनी ओर खींचा था जब मुंबई इंडियंस ने इस वर्ष आईपीएल नीलामी में उन्‍हें 3.2 करोड़ रुपए में खरीदा था। हालांकि राजस्‍थान के युवा तेज गेंदबाज ने सुर्खियां तब बंटोरी थी जब अपने पदार्पण मैच में उन्‍होंने दिल्‍ली के खिलाफ 87 रन देकर सात विकेट चटकाए थे। अपने शानदार प्रदर्शन की बदौलत नाथु को बोर्ड अध्‍यक्ष एकादश टीम में जगह मिली, जिसे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो दिवसीय अभ्‍यास मैच खेलना था। राहुल द्रविड़ और गौतम गंभीर जैसे दिग्‍गज क्रिकेटर भी इस युवा गेंदबाज की प्रतिभा से काफी प्रभावित थे। हालांकि तेज गेंदबाज को मौजूदा आईपीएल में मैच खेलने का इंतजार है। मुंबई इंडियंस को प्रतिभा तलाशने का श्रेय जाता है और अब यह देखना होगा कि क्‍या वह नाथु सिंह के साथ भी न्‍याय करेंगे।

अंकित राजपुत- 1.5 करोड़ रुपए

ankit

उत्‍तर प्रदेश के तेज गेंदबाज को कोलकाता नाइटराइडर्स ने 1.5 करोड़ रुपए में खरीदा। दो सत्र के लिए राज्‍य के गेंदबाजी कोच रहे पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने भी इस युवा तेज गेंदबाज की तारीफों के पुल बांधे। अंकित ने 2013 में चेन्‍नई सुपर किंग्‍स का प्रतिनिधित्‍व किया था और पहले ओवर में रिकी पोंटिंग का महत्‍वपूर्ण विकेट लिया था। भारत के घरेलू टूर्नामेंट सैयद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी में अंकित सर्वश्रेष्‍ठ विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में तीसरे स्‍‍थान पर थे। उन्‍होंने 14.21 की औसत से 14 विकेट लिए थे। केकेआर ने शायद इसे देखते हुए उन्‍हें अपनी टीम में जोड़ा। हालांकि मौजूदा आईपीएल में उन्‍हें अब तक मौका नहीं मिला है और केकेआर के दमदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्‍हें मौका मिलने के कम आसार नजर आ रहे हैं।

किशोर कामथ- 1.4 करोड़ रुपए
kishore

21 वर्षीय युवा लेग स्पिनर और मध्‍यक्रम के बल्‍लेबाज को मुंबई इंडियंस ने 1.4 करोड़ रुपए में खरीदा। किशोर तब चर्चा में आएं जब 2015 कर्नाटक प्रीमियर लीग में उन्‍होंने हुबली टाइगर्स का प्रतिनिधित्‍व किया। युवा ऑलराउंडर ने केएससीए फर्स्‍ट डिवीजन लीग में मल्‍लेशवरम जिमखाना की तरफ से बेहतरीन प्रदर्शन किया था। उनके सात मैचों में 6 की कम इकॉनोमी रेट से 10 विकेट चटकाने वाले प्रदर्शन ने उन्‍हें जनवरी 2016 में रॉयल चैलेंजर्स बंगलोर के ट्रायल्‍स का न्‍योता दिलवा दिया। हालांकि नीलामी में मुंबई इंडियंस उन्‍हें खरीदने में कामयाब हुई। किशोर की बेस प्राइस 10 लाख रुपए थी और उन्‍हें 14 गुना महंगी रकम में खरीदा गया। 2016 आईपीएल में किशोर को पहला मैच खेलने का इंतजार है।

एकलव्‍य द्विवेदी- 1 करोड़ रुपए
eklavya

विकेटकीपर बल्‍लेबाज के भाग्‍य ने बड़ा बदलाव देखा जब गुजरात लायंस ने उन्‍हें एक करोड़ रुपए में खरीदा। एकलव्‍य ने उत्‍तर प्रदेश की तरफ से 2008 में विजय ट्रॉफी के द्वारा पदार्पण किया। उन्‍होंने खुद को यूपी टीम में स्‍थापित किया और विकेटकीपर बल्‍लेबाज के रूप में पहली पसंद बने। 2016 सैयद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी में द्विवेदी यूपी के सर्वश्रेष्‍ठ स्‍कोरर रहे। उन्‍होंने 9 मैचों में 51.60 की औसत से 258 रन बनाए। यह प्रदर्शन द्विवेदी के लिए प्रमुख साबित हुआ और उन्‍हें आईपीएल में आकर्षक अनुबंध मिला। हालांकि इन्‍हें भी पहला मैच खेलने का इंतजार है।

प्रवीण दुबे- 35 लाख
praveen dubey

22 वर्षीय युवा लेग स्पिनर प्रवीण दुबे को रॉयल चैलेंजर्स बंगलोर ने 35 लाख रुपए में खरीदा। युवा लेगी ने 2015-16 सत्र में कर्नाटक लिस्‍ट ए साइड की तरफ से प्रभावी प्रदर्शन किया। केपीएल की टीम हुबली टाइगर्स की तरफ से 2014-15 सत्र में खेलते हुए प्रवीण ने 5.90 की इकॉनोमी रेट से 6 मैचों में सात विकेट लिए। अगले सत्र में उनका प्रदर्शन और सुधरा तथा बेलगवी पैंथर्स की तरफ से खेलते हुए उन्‍होंने 9 मैचों में 6.89 की इकॉनोमी रेट से 8 विकेट लिए। आरसीबी के मौजूदा आईपीएल में खराब प्रदर्शन को देखते हुए प्रवीण के अंतिम एकादश में शामिल होने की उम्‍मीद है।