///

सौरव गांगुली के कारण इन 3 खिलाड़ियों का करियर लम्बा नहीं चल सका

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज कप्तान सौरव गांगुली के शानदार करियर के दौरान कई यादगार कहानियां बनी और उन्होंने कहीं न कहीं भारतीय क्रिकेट के खेलने के तरीकों को बदल दिया. बतौर कप्तान सौरव गांगुली की चर्चा हमेशा बल्लेबाज सौरव गांगुली से ज्यादा होती रही है. हालाँकि उनके आंकडें दिखाते हैं कि बल्ले से भी प्रदर्शन उतना ही अच्छा रहा था.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

लॉर्ड्स में अपने डेब्यू पर शतक बनाने के बाद, दादा भारत के लिए तीसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने और कुल 18,575 अंतरराष्ट्रीय रन बनाए. सुरव गांगुली जैसा श्रेष्ठ क्रिकेटर मिलना भारतीय टीम के लिए सौभाग्य की बात है, लेकिन वहीं कुछ ऐसे भी खिलाड़ी रहे हैं, जिनका क्रिकेट करियर सौरव गांगुली की विलक्षण प्रतिभा के कारण लम्बा नहीं चल सका.

आज हम आपको ऐसे ही 3 खिलाड़ी के बारे में बताएँगे जिनका करियर सौरव गांगुली के चलते लंबा नहीं चल सका.

पार्थिव पटेल

सौरव गांगुली के कारण इन 3 खिलाड़ियों का करियर लम्बा नहीं चल सका 1

टीम इंडिया साल 2002 में इंग्लैंड के दौरे पर गई थी. वहां सीरीज के दूसरे टेस्ट में एक 17 साल का लड़का स्टंप्स के पीछे खड़ा दिखा था. और उस लड़के का नाम था पार्थिव पटेल. 16 साल बाद भी ये खिलाड़ी साउथ अफ्रीका में विकेटकीपिंग करता दिखा. 16 सालों के क्रिकेट करियर में इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने महज़ 25 टेस्ट खेले हैं और 38 वनडे.

इसका एक बड़ा करण सौरव गांगुली भी थे. सौरव गांगुली तथा पार्थिव पटेल दोनों ही सलामी बल्लेबाज थे, लेकिन सौरव गांगुली सलामी बल्लेबाज होने के साथ-साथ टीम के कप्तान में थे. ऐसे में पार्थिव पटेल प्रतिभावान होने के बावजूद टीम में फिट नहीं हो रहे थे. हालाँकि पार्थिव पटेल आस्थाई रूप से हमेशा टीम के लिए खेलते रहे.

33 साल के पार्थिव पटेल का ये लंबा मगर बेहद अनिश्चित करियर इंडिया में महेंद्र सिंह धोनी पर अति-निर्भरता और विकेटकीपिंग की तरफ उदासीन रवैए का भी नतीजा है. इंडिया साल 2002 से अभी तक अजय रात्रा, पार्थिव पटेल, राहुल द्रविड़ , दिनेश कार्तिक, महेंद्र सिंह धोनी, ऋद्धिमान साहा, ऋषभ पंत और नमन ओझा तक को आजमा चुका है.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse