Irani Cup: Mayank, Vihari got a respectable score in the remaining eleven
Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

जब भी कोई क्रिकेटर अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत करता है तो उसे कई पड़ावों से  होकर गुज़रना पड़ता है. हर क्रिकेटर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने देश की राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने के लिए पहले खुद को घरेलू क्रिकेट में साबित करना होता है. उसके बाद उसे राष्ट्रीय टीम में चुना जाता है.

लेकिन कई बार क्रिकेट में ऐसा  भी होता है घरेलू क्रिकेट में शानदार क्रिकेट खेलने वाले क्रिकेटर अपने देश की राष्ट्रीय टीम के लिए बेहतर नहीं खेल पाते. जिसकी वजह से वो टीम से अंदर-बाहर होते रहते हैं. इस लेख में 5 ऐसे ही भारतीय बल्लेबाज़ों के बारे में जिन्होंने घरेलू क्रिकेट में तो रनों का अंबार लगाया लेकिन भारतीय टीम में वो फ़्लॉप ही साबित हुए.

वसीम जाफ़र

घरेलू क्रिकेट में वसीम जाफ़र

पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज़ और मुंबई के दिग्गज क्रिकेटर वसीम जाफ़र ने 1996-97 के सत्र में घरेलू क्रिकेट में अपना डेब्यू करने के बाद लगभग 24 साल तक क्रिकेट में बतौर खिलाड़ी सक्रिय रहे. बात करें घरेलू क्रिकेट में जाफ़र की बल्लेबाज़ी की तो वो काफ़ी शानदार रही है.

260 फ़र्स्ट-क्लास मैचों में 50.67 के बेहतरीन औसत से 19410 रन बनाने वाले ज़ाफ़र का नाम मुंबई के  घरेलू क्रिकेट दिग्गजों में लिया जाता है. लेकिन जब बारी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की आई तो जाफ़र भारतीय टीम के लिए एक फ़्लॉप बल्लेबाज़ साबित हुए. भारतीय टीम के लिए 31 टेस्ट मैचों में 34.10 की औसत से केवल 1944  रन बनाए हैं.

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse