आईपीएल 2021: 5 गलतियाँ जिसकी वजह से बायो बबल में भी कोरोना की चपेट में आ गये खिलाड़ी 1

आईपीएल के 14 वें सीजन के बीच में 4 खिलाड़ियों समेत दो सहायक कोचों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद बायो बबल के ट्रैकिंग डिवाइस और कोरोना प्रोटोकाल के नियमों को सख्ती से पालन करने के लिए नियुक्त किए गए कोरोना अफसरों पर सवाल उठने लगे हैं.

सोमवार को केकेआर के दो खिलाड़ियों वरुण चक्रवर्ती और संदीप वारियर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद अन्य टीमों से कोरोना पॉजिटिव खिलाड़ी सामने आ रहे हैं.

ट्रैकिंग डिवाइस का सही ना होना

BCCI

गौरतलब है कि बायो बबल के तहत खिलाड़ियों के लिए एक जगह का निर्धारण किया गया था. इसके तहत उनको उससे बाहर नहीं जाना था. इस पर नजर बनाए रखने के लिए सभी खिलाड़ियों को ट्रैकिग डिवाइस भी उपलब्ध कराई गई थी. ये रिस्ट बैंड की तरह थी जिसे होटल या कमरे से बाहर निकलने के बाद पहनना था, ये डिवाइस ब्लूटूथ के जरिए मोबाइल फोन में एक ऐप से जुड़ी रहती है.

ये डिवाइस उन जगहों पर मदद करती थी कि बायो बबल के तहत किन खिलाड़ियों को किस स्थान पर जाना है और कहां नहीं जाना है. जैसे ही खिलाड़ी बायो बबल एरिया से बाहर होंगे तो इस डिवाइस से अपने आप आवाज आने लगेगी. इससे खिलाड़ी अलर्ट हो जाएंगे.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बोर्ड ने चेन्नई की एक कंपनी से ये डिवाइस ली थी, जो ठीक तरीके से काम नहीं कर रही थी इस बात की शिकायत फ्रेचाइजी ने बोर्ड से भी की थी. एक टीम के एक अधिकारी के मुताबिक वो एक शहर से दूसरे शहर चले गए, लेकिन जब डिवाइस का डेटा आया तो उसमें पिछले शहर की जानकारी थी.

कोरोना ऑफिसर प्रोटोकाल का पालन नहीं करा पाए

आईपीएल 2021: 5 गलतियाँ जिसकी वजह से बायो बबल में भी कोरोना की चपेट में आ गये खिलाड़ी 2

यूएई में पहली बार बायो बबल में आयोजित हुए आईपीएल के दौरान हर टीम के साथ 1 कोरोना ऑफिसर की नियुक्ति की गई थी, लेकिन इस बार कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती के साथ पालन कराने के लिए सभी टीमों के साथ चार-चार कोरोना ऑफिसरों की नियुक्ति की गई थी. इसके बाद भी कोरोना ऑफिसर्स टीमों से कोरोना प्रोटोकाल का सख्ती से पालन नहीं करा सके.

होटल में बायो-बबल बनाने में लापरवाहीः

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक खिलाड़ियों और कोचों के कोरोना संक्रमित होने की सबसे बड़ी वजह होटल बायोबबल तैयार करने में लापरवाही रही. कई टीमों की ओर से जल्दबाजी में होटलों को बुक कराया गया. वहीं होटल कर्मचारियों को खिलाड़ियों के प्रवेश के पहले क्वारंटाइन नहीं कराया गया.

IPL की ट्रैवल पालिसी बनी मुसीबतः

आईपीएल 2021: 5 गलतियाँ जिसकी वजह से बायो बबल में भी कोरोना की चपेट में आ गये खिलाड़ी 3

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कई टीमों को एक हफ्ते के अंदर दो ट्रैवल करने पड़े. ऐसे में माना जा रहा है कि ट्रेवल के दौरान खिलाड़ी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए हैं. इसके साथ ही टीमों ने भी इस दौरान लापरवाही बरती. बसों और प्लेन के कर्मचारियों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन नहीं रखा गया. ऐसा में संभव है कि ट्रैवल के दौरान ही खिलाड़ी कोरोना की चपेट में आ गए हों.

पिछली बार यूके की कंपनी ने मुहैया कराई थी डिवाइसः

यूएई में पहली बार आईपीएल के दौरान यूके की कंपनी की ओर से रिस्टबैंड के रुप में ट्रैकिंग डिवाइस उपलब्ध कराई गई थी. इस दौरान किसी भी फ्रेंचाइजी की ओर से शिकायत नहीं दर्ज कराई गई थी.