5 खिलाड़ी जिन्हें टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सीमित ओवर पर देना चाहिए ध्यान 1
Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

मौजूदा समय में दुनियाभर में ट्वेंटी-20 क्रिकेट को प्रशंसकों द्वारा सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है. टेस्ट क्रिकेट को एक बार फिर से लोकप्रिय बनाने के लिए आईसीसी ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप शुरू की है.

हाल में ही पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने मात्र 27 साल की उम्र में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया था और कहा था कि वह अब सिर्फ सीमित ओवर पर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं. दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज डेल स्टेन ने भी टेस्ट से संन्यास लेने के बाद यही बयान दिया था.

आज इस लेख के माध्यम से हम आपको विश्व के ऐसे पांच खिलाड़ियों के नाम के बारे में बताने जा रहे है, जिनको अब वाकई में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सिर्फ और सिर्फ वनडे और ट्वेंटी-20 क्रिकेट पर अपना ध्यान लगाने की जरूरत है.

आइए डालते है, एक नजर दुनिया के ऐसे ही 5 खिलाड़ियों के नाम पर –


~ ओएन मॉर्गन

5 खिलाड़ी जिन्हें टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सीमित ओवर पर देना चाहिए ध्यान 2

5 खिलाड़ी जिन्हें टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सीमित ओवर पर देना चाहिए ध्यान 3

इस लिस्ट में सबसे पहला नाम इंग्लैंड की वनडे और ट्वेंटी-20 क्रिकेट टीम के कप्तान ओएन मॉर्गन का आता है. ओएन मॉर्गन टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सीमित ओवर के खेल पर ध्यान केंद्रित कर सकते है. टेस्ट से संन्यास लेने की सबसे बड़ी वजह उनका सात सालों से टेस्ट टीम से बाहर चलना भी हो सकता है.

32 वर्षीय ओएन मॉर्गन ने इंग्लैंड के लिए अभी तक सिर्फ 16 टेस्ट मैच खेले है और इस दौरान उनके बल्ले से 30.43 की औसत के साथ 700 रन आये है. टेस्ट की 24 पारियों में ओएन मॉर्गन दो शतक और तीन अर्द्धशतक लगाने में सफल रहे हैं.

अपनी कप्तानी में इंग्लैंड को 2019 का विश्व कप जीताने वाले ओएन मॉर्गन वनडे और ट्वेंटी-20 के मंझे हुए बल्लेबाज भी माने जाते है. ऐसे में उन्हें अब टेस्ट से पूरी तरह संन्यास लेकर लिमिटेड ओवर के प्रारूप पर फोकस करना चाहिए.

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

Akhil Gupta

Content Manager & Senior Writer at #Sportzwiki, An ardent cricket lover, Cricket Statistician.