संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन के चलते प्रभावित हुए इन 5 स्पिन गेंदबाजों के करियर

खेल डेस्क, क्रिकेट में गेंदबाजी को लेकर कई नियम बने हुए हैं और गेंदबाजों को इसी नियम के मुताबिक एक्शन में गेंदबाजी करनी होती है. यह एक्शन कई बार स्पिन गेंदबाजों के लिए और भी ज्यादा घातक बन जाते हैं और उनके करियर को प्रभावित करते हैं. आइये जानते हैं विश्वभर के ऐसे ही पांच गेंदबाजों के नाम जिनके करियर संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन को लेकर प्रभावित हुए-

सुनील नारायण

वेस्ट इंडीज के स्पिन गेंदबाज सुनील नारायण एक उभरते हुए गेंदबाज हैं. उन्होंने बीते कुछेक वर्षों में विपक्षी टीम के बल्लेबाजों को अपनी गेंदों के बल पर खूब नचाया है. संदिग्ध गेंदबाजी के चलते अभी हाल ही में आईसीसी ने सुनील पर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में हिस्सा लेने से प्रतिबन्ध लगा दिया है.

सईद अजमल

पाकिस्तानी स्पिन गेंदबाज सईद अजमल के एक्शन के बारे में कई बार अंपायर ने शिकायत की है. सईद अजमल के दूसरा को लेकर हमेशा ही संदिग्ध होने का शक बना रहा है. सईद के खिलाफ वर्ष 2014 में श्री लंका के खिलाफ मैच में संदिग्ध गेंदबाजी के दोषी पाए गए थे. इसके बाद वे महीने भर के लिए प्रतिबंधित भी कर दिए गए.

जॉन बोथा

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व स्पिनर जॉन बोथा को भी अपने करियर में कई बार संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन को लेकर परेशानियों का सामना करना पड़ा है. बोथा ने अपने टेस्ट की शुरुआत सन 2006 में की थी लेकिन उसी मैच में उनके एक्शन को लेकर शिकायत कर दी गयी. इसके बाद कई महीने प्रतिबन्ध झेलने के बाद उन्हें फिरसे नवम्बर में खेलने की इज़ाज़त दे दी गयी. हालाँकि इसके बाद भी पूरे करियर के दौरान जॉन बोथा की गेंदबाजी एक्शन को लेकर जांच चलती रही.

प्रज्ञान ओझा

भारतीय बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने कम ही समय में टीम इंडिया में महत्वपूर्ण स्थान हासिल कर लिया था. ओझा का गेंदबाजी एक्शन साल 2014 दिसम्बर में संदिग्ध पाया गया. इसके बाद कई बार गेंदबाजी एक्शन पर सवाल उठने की वजह से वे टीम इंडिया से लगातार बाहर चलते रहे.

सचित्र सेनानायके

श्रीलंका के स्पिनर सचित्र सेनानायके को जुलाई 2014 में गेंदबाजी करने से बैन कर दिया गया था. ऑफ़ स्पिन गेंदबाजी करने वाले सचित्र उसके पहले इंग्लैंड सीरीज में सबसे बेहतरीन गेंदबाजी करने वाले गेंदबाज भी थे. इसके बाद उन्होंने गेंदबाजी एक्शन में बदलाव लाते हुए फिरसे क्रिकेट करियर शुरू किया.

Related Topics