क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान

क्रिकेट के इतिहास में अजीब-अजीब इत्तेफाक हुए हैं और शायद आगे भी होते रहेंगे. आज हम भी आपकों अपने इस ख़ास लेख में क्रिकेट इतिहास के 7 ऐसे अजीब इत्तेफाक के बारे में ही बताएंगे, जिनके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे, तो आइए बात करते हैं क्रिकेट इतिहास के उन अजीब इत्तेफाक के बारे में.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

सचिन, सहवाग और रोहित के दोहरे शतक पर 153 रन की जीत

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 1

24 फरवरी 2010 को ग्वालियर में सचिन तेंदुलकर ने उस दौरान की सबसे बड़ी वनडे पारी खेली थी. मास्टर ब्लास्टर ने पहली बार वनडे क्रिकेट में 200 का आंकड़ा छूने का कारनामा किया था. भारत ने वो मुकाबला 153 रनों से जीता था.

वीरेंद्र सहवाग ने सचिन के दोहरे शतक के एक साल बाद उस रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दिया. सहवाग ने 8 दिसंबर 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ 219 रनों की ऐतिहासिक पारी खेली और नया रिकॉर्ड बना दिया. भारत ने ये मैच भी 153 रनों से ही जीता.

तीसरी बार जब सबसे बड़े वनडे स्कोर का रिकॉर्ड कल कोलकाता के ईडन गार्डन पर बना तो इसे अंजाम दिया रोहित शर्मा ने, जो कि पहले भी एक दोहरा शतक लगा चुके थे. रोहित ने 264 रनों की पारी खेलकर फिर नया विश्व रिकॉर्ड बना दिया. दिलचस्प बात ये रही कि भारत ने फिर ये मैच 153 रनों से ही जीता था.

एलिस्टर कुक + माइकल क्लार्क = सचिन तेंदुलकर

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 2

सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर में 200 टेस्ट मैचों में 53.78 की औसत से 15921 रन बनाए थे. उन्होंने इस दौरान 51 शतक और 68 अर्द्धशतक भी जड़े थे.

2013 में एशेज सीरीज का पर्थ टेस्ट मैच खेला गया टेस्ट खास था, क्योंकि यह दोनों टीमो के कप्तानों कुक और क्लार्क का 100वां-100वां टेस्ट मैच था. इस मैच के बाद जब इनके टेस्ट करियर के आंकड़े सामने आए थे, तब यह संयोग उजागर हुआ था.

कुक के 100 टेस्ट मैचों के बाद 25 शतकों की मदद से 7955 रन थे, जबकि क्लार्क के 100 टेस्ट के बाद 26 शतकों की मदद से 7964 रन थे. अब यदि इनके आंकड़ों को मिलाया जाए तो इनके 200 टेस्ट मैचों में 51 शतकों की मदद से 15919 रन होते हैं जो लगभग तेंदुलकर के रिकॉर्ड के बराबर थे.

इस मैच से कुछ समय पहले ही रिटायर हो चुके भारत के मास्टर ब्लास्टर तेंदुलकर ने अपने टेस्ट करियर में ठीक 200 टेस्ट मैचों में 51 शतकों की मदद से 15921 रन बनाए थे.

23 अप्रैल को आरसीबी का सबसे बड़ा और सबसे कम स्कोर

विराट कोहली

आईपीएल 23 अप्रैल की तारीख विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए बेहद अजीब है. यह तारीख आरसीबी के लिए ऐसी है कि वह इसे याद भी करना चाहती है और भूलना भी चाहती है.

23 अप्रैल 2013 इस तारीख को आरसीबी की ओर से खेलते हुए क्रिस गेल ने 66 गेंदों में 175 रन बनाये थे. इस मैच में आरसीबी ने 5 विकेट खोकर 263 रन बनाये थे. यह टी20 मैचों में सबसे बड़ा स्कोर है. इस पारी के दौरान गेल ने टी-20 के सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड बनाया था.

23 अप्रैल 2017 को आईपीएल-10 के 27वें मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स और आरसीबी के बीच मुकाबला हुआ. केकेआर ने पहले बैटिंग करते हुए 19.3 ओवर में 131 रन पर बनाए थे. इसके जबाव में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम 9.4 ओवर में 49 रन पर ही सिमट गई, जो आईपीएल इतिहास का सबसे कम टोटल है.

गांगुली, धोनी और कोहली का सर्वधिक स्कोर 183 रन

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 3

सौरव गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली तीनों को ही भारत का सफलतम कप्तान माना जाता है. इन तीनों के बीच एक संयोग है. दरअसल इन तीनों का सर्वाधिक स्कोर समान रूप में 183 है.

भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने 1999 वर्ल्ड कप में 16 मई को टांटन में श्रीलंका के खिलाफ 183 रनों की पारी खेली थी. गांगुली ने 158 गेंदों में 17 चौकों और 7 छक्कों की मदद से ये रन बनाए थे.

महेंद्रसिंह धोनी ने 31 अक्टूबर 2005 को जयपुर में श्रीलंका के खिलाफ चौकों-छक्कों की झड़ी लगाई थी. उन्होंने 145 गेंदों में 15 चौकों और 10 छक्कों की मदद से 183 रन बनाए थे.

विराट कोहली ने 18 मार्च 2012 को ढाका में पाकिस्तान के खिलाफ चौकों की झड़ी लगाई थी. उनके द्वारा 148 गेंदों में 22 चौकों और 1 छक्के की मदद से बनाए गए 183 रनों की मदद से भारत ने 330 रनों का टारगेट 4 विकेट खोकर हासिल किया था.

पहले और 100वें टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की मेलबर्न मैदान पर 45 रन से जीत

ऑस्ट्रेलिया

1877 में मार्च के महीने में जब मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट इतिहास का पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेला गया और उस मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने 45 रनों से जीत दर्ज की थी.

पहले टेस्ट की याद के जश्न में ठीक सौ साल बाद यानी मार्च, 1977 में उसी मैदान पर उन्हीं दोनों टीमों के बीच टेस्ट मैच खेला गया और यकीन मानिए ये मैच भी ऑस्ट्रेलिया ने जीता और जीत का अंतर भी 100 साल पुराने वाले मैच जितना यानी 45 रन.

धोनी का वनडे और टेस्ट दोनों में पाकिस्तान के खिलाफ पहला शतक 148 रन का

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 4

धोनी का वनडे और टेस्ट दोनों में पाकिस्तान के खिलाफ पहला शतक 148 रन का रहा है. 2005 विशाखापत्तनम में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ एक वनडे मैच में 15 चौकों और चार छक्‍कों की मदद से 123 गेंद पर 148 रन की पारी खेली थी.

उनकी इस पारी के दम पर भारत ने 50 ओवरों में 356/9 रन बनाए थे. पाकिस्‍तान की टीम 298 पर ऑलआउट हो गई थी. ये धोनी के वनडे करियर का पहला शतक था.

इसके बाद उन्होंने अपने टेस्ट क्रिकेट करियर का पहला शतक भी पाकिस्तान के खिलाफ ही बनाया था और इसमें भी उन्होंने 148 रन की ही पारी खेली थी.

जन्मतिथि है 8-4-63 और टेस्ट क्रिकेट में रन भी बनाये 8463

क्रिकेट इतिहास के 7 अजीब इत्तेफाक, जिनके बारे में जानकर हर कोई हैरान 5

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के लिए कभी खेल चुके एलेक स्टुवर्ट आज इकलौते खिलाड़ी है जिनकी जन्म तिथि और टेस्ट क्रिकेट कैरियर के रन बिलकुल बराबर है. एलेक स्टुवर्ट का जन्म 8 अप्रैल साल 1963 में हुआ था और इन्होने टेस्ट मैच में रन भी 8,463 बनाये. इन्होने अपने देश के लिए कुल 133 टेस्ट मैच खेले थे.

इन्होने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत 1989 में की थी जब इन्होंने अपना पहला मैच श्रीलंका के खिलाफ खेला थाइसके बाद अपनी शानदार बल्लेबाजी से हमेशा अच्छी क्रिकेट खेली इस कारण लंबे समय तक टीम में बने रहे.

टेस्ट क्रिकेट में तो इन्होंने 15 शतक लगाए हैं, जिसमें इनका बेस्ट स्कोर 190 रन था. अगर इनके वनडे करियर पर नजर घुमाएं तो इन्होंने 170 मैच खेले थे, जिसमें 31.60 की औसत से कुल 4,677 रन बनाये थे. साथ ही 4 शतक भी इनके नाम है.

 

Related posts